Home /News /dharm /

surya grahan 2022 shani amavasya pregnancy precautions know dos and donts during solar eclipse kar

सूर्य ग्रहण पर गर्भवती महिलाएं ध्यान रखें ये 7 महत्वपूर्ण बातें, ना करें लापरवाही

शनि अमावस्या के दिन इस वर्ष के पहले सूर्य ग्रहण का संयोग बन रहा है. (Photo: Pixabay)

शनि अमावस्या के दिन इस वर्ष के पहले सूर्य ग्रहण का संयोग बन रहा है. (Photo: Pixabay)

इस वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) आज 30 अप्रैल को है. सूर्य ग्रहण के दिन गर्भवती महिलाओं को कुछ बातों का विशेष ध्यान देना चाहिए. आइए जानते हैं इनके बारे में.

आज शनि अमावस्या के दिन इस वर्ष के पहले सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) का संयोग बन रहा है. 30 अप्रैल दिन शनिवार को वैशाख अमावस्या है. शनिवार दिन को अमावस्या होने की वजह से यह शनि अमावस्या (Shani Amavasya) या शनिश्चरी अमावस्या है. इस दिन ही सूर्य ग्रहण भी लग रहा है. सूर्य देव और शनि देव पिता पुत्र हैं, लेकिन दोनों में मित्रवत भाव नहीं है. सूर्य ग्रहण शनि अमावस्या की देर रात 12:15 बजे से लग रहा है, जो 01 मई को प्रात: 04:07 बजे खत्म हो जाएगा. भारत में सूर्य ग्रहण आंशिक होगा. काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट से जानते हैं कि सूर्य ग्रहण के समय में गर्भवती महिलाओं को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

साल का प्रथम सूर्य ग्रहण अपने देश में आंशिक है, इस वजह से सूतक काल मान्य नहीं होगा. हालांकि सूर्य ग्रहण के प्रभावों से बचने के ​लिए सभी लोगों के लिए कुछ सावधानियां बताई गई हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य ग्रहण का दुष्प्रभाव गर्भवती महिलाओं पर हो सकता है, इसलिए ग्रहण के समय कुछ परहेज करना चाहिए. ऐसा करने से महिला और उसके बच्चे पर ग्रहण का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है.

यह भी पढ़ें: सूर्य ग्रहण 2022: इन राशिवालों को रहना होगा सावधान!

सूर्य ग्रहण में गर्भवती महिलाओं को ध्यान रखने वाली बातें

1. सूर्य ग्रहण के समय में गर्भवती महिलाओं को भोजन नहीं करना चाहिए. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के दुष्प्रभाव से भोजन दूषित हो जाता है, इससे बचने के लिए उसमें गंगाजल एवं तुलसी का पत्ता डाल देते हैं.

2. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गर्भवती महिलाओं को सूर्य ग्रहण के दौरान सूई, चाकू, कैंची जैसी नोकदारी वस्तुओं से दूर रहना चाहिए. इनका उपयोग करने से गर्भ में पल रहे बच्चे पर दुष्प्रभाव हो सकता है.

यह भी पढ़ें: कब है शनि अमावस्या? इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानें स्नान-दान मुहूर्त एवं महत्व

3. जब सूर्य ग्रहण प्रारंभ हो, तो उस समय से लेकर उसके समापन तक गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. ऐसा ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचने के लिए किया जाता है.

4. सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को हनुमान चालीसा या दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहिए. मां दुर्गा और हनुमान जी की कृपा से सभी संकट और नकारात्मक शक्तियां दूर हो जाती हैं.

5. गर्भवती महिलाओं को सूर्य ग्रहण को नहीं देखना चाहिए. इससे उनकी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ने की आशंका रहती है.

6. सूर्य ग्रहण के समय में गर्भवती महिलाओं को अपने इष्टदेव का स्मरण करना चाहिए. उनके मंत्र का जाप मन ही मन कर सकती हैं.

7. सूर्य ग्रहण के समापन के बाद स्नान करें और फिर साफ वस्त्र पहनें.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Surya Grahan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर