पूजा-पाठ में इस्तेमाल होने वाली इन 5 चीजों से बढ़ती है इम्‍यूनिटी, जानें इनके नाम

पूजा-पाठ और हवन में इस्तेमाल होने वाली ऐसी चीजें जिनके रोजाना प्रयोग से आप अपनी इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉन्ग कर सकते हैं.
पूजा-पाठ और हवन में इस्तेमाल होने वाली ऐसी चीजें जिनके रोजाना प्रयोग से आप अपनी इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉन्ग कर सकते हैं.

लोग इम्यून सिस्टम (Immune System) को मजबूत बनाने के लिए कई तरह की चीजों इस्तेमाल कर रहे हैं. हेल्दी डाइट (Healthy Diet) ले रहे हैं ताकि बीमारियों से दूर रहा जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 8:54 AM IST
  • Share this:
पूजा-पाठ में इस्तेमाल होने वाली चीजों का न सिर्फ धार्मिक महत्‍व होता है बल्कि ये चीजें दैनिक जीवन में भी कई प्रकार से इस्तेमाल में आती हैं. कोरोना (Corona) के चलते हर जगह इम्यूनिटी (Immunity) को स्ट्रॉन्ग बनाने के बारे में कहा जा रहा है. लोग इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए कई तरह की चीजों इस्तेमाल कर रहे हैं. हेल्दी डाइट (Healthy Diet) ले रहे हैं ताकि बीमारियों से दूर रहा जा सके. ऐसे में आइए आपको बताते हैं पूजा-पाठ और हवन में इस्तेमाल होने वाली 5 ऐसी चीजों के बारे में जिनके रोजाना प्रयोग से आप अपनी इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉन्ग कर सकते हैं.

लौंग
हवन में लौंग का प्रयोग विशेष रूप से किया जाता है. इसके इस्‍तेमाल के बिना हवन और पूजा-पाठ अधूरा माना जाता है. दरअसल, हिंदू धर्म में लौंग को बहुत ही पवित्र और गुणकारी माना गया है. लौंग को इम्‍यूनिटी के हिसाब से भी बेहद महत्‍वपूर्ण माना जाता है. वहीं धार्मिक मान्यता के अनुसार घर में कलह का वातावरण दूर करने के लिए लौंग का यह उपाय आपकी समस्‍या को काफी हद तक खत्म कर सकता है. इसके लिए आपको देसी कपूर के साथ आम की लकड़ी जलानी होगी. आम की लकड़ियों की संख्या 2 या 3 भी हो सकती है. इसके बाद 11 जोड़ी लौंग लें. ध्यान रखें की लौंग टूटी हुई न हो और साथ ही ताजी भी हो. इस लौंग को घी के साथ आग में प्रज्वलित कर दें. कहते हैं कि सूर्योदय से पहले और सूर्यास्‍त के बाद ऐसी पूजा करने से घर से कलह दूर होता है.

इसे भी पढ़ेंः Adhik maas 2020: अधिक मास में इन मंत्रो के जाप से मिलेगा भगवान विष्णु का आशीर्वाद, कटेंगे पाप
कपूर


कपूर पूजा में प्रयोग होने वाला एक महत्‍वपूर्ण तत्व माना जाता है. यह एक मोम की तरह दिखने वाला एक महत्‍वपूर्ण उड़नशील वानस्‍पतिक पदार्थ होता है जो अक्‍सर हवन और आरती में प्रयोग किया जाता है. इसकी महक वातावरण में सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करती है. इसकी सुगंध से मन और मस्तिष्‍क दोनों को सुकून मिलता है. वहीं इसका वैज्ञानिक पहलू यह है कि कपूर के नियमित प्रयोग से घर के लोगों की इम्‍यूनिटी बढ़ती है. मान्यता है कि रात को सोने से पहले पीतल के बर्तन में कपूर लेकर उसे गाय के घी में डुबोकर जला दें. ऐसा करने से पति-पत्‍नी के संबंधों में सुधार आता है. वहीं ऐसा माना जाता है कि घर में रोजाना सुबह, दोपहर और शाम को कपूर जलाने से पितृदोष समाप्‍त होता है.

इलायची
ज्‍योतिष में इलायची को शुक्र का पदार्थ माना जाता है. वहीं विज्ञान के अनुसार इलायची के रोजाना प्रयोग से इम्‍यूनिटी मजबूत होती है. धार्मिक मान्‍यताओं में भी इलायची को बेहद महत्‍वपूर्ण माना गया है. अच्‍छी नौकरी पाने के लिए इलाइची का इस्तेमाल बेहद कारगर साबित होता है. इस प्रयोग को एक गुरुवार से शुरू करके लगातार 3 गुरुवार तक करने से लाभ होता है. कहते हैं कि पीपल के पेड़ के नीचे पीपल के पत्‍ते पर 2 हरी इलायची और 5 प्रकार की मिठाई रखने से नौकरी में शुभ समाचार मिलता है.

शहद
शहद का इस्तेमाल इम्‍यूनिटी को बढ़ाता है. रोजाना शहद खाने से आप कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं. वहीं धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अगर कुंडली में मंगल समस्या दे रहा है तो हर मंगलवार शिवलिंग पर शहद अर्पित करें. अगर बृहस्पति बुरे परिणाम दे रहा है तो, शहद को पीतल के पात्र में खाएं. वहीं बेडरूम में शीशी में भरकर शहद रखने से दांपत्‍य जीवन में मधुरता आती है.

इसे भी पढ़ेंः Adhikmas: क्या है अधिकमास, जानें इसका पौराणिक आधार और महत्व

घी
गाय के घी का इस्तेमाल पूजा में विशेष रूप से किया जाता है. वहीं खाने में रोजाना गाय के घी का प्रयोग करने से कई रोगों से लड़ने की क्षमता प्राप्‍त होती है. गाय के घी के कई उपाय घर में समृद्धि लाने के साथ ही धनवान भी बनाते हैं. मान्यता है कि रोजाना शाम के वक्‍त घी का दीपक केसर डालकर जलाएं. दीपक जलने पर घी और केसर से मिश्रित धुआं निकलेगा, जो कि वातावरण की नकारात्मक ऊर्जा को खत्म करेगा और सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाएगा.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज