होम /न्यूज /धर्म /

इन रत्नों को एक साथ पहनने से हो सकती हैं समस्याएं, जानें इनसे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

इन रत्नों को एक साथ पहनने से हो सकती हैं समस्याएं, जानें इनसे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

कई बार ऐसी स्थिति निर्मित होती है कि एक साथ दो रत्न धारण करने पड़ जाते हैं

कई बार ऐसी स्थिति निर्मित होती है कि एक साथ दो रत्न धारण करने पड़ जाते हैं

एक दूसरे के अनुकूल नहीं होने वाले ग्रहों के रत्न एक साथ पहनने से व्यक्ति को हानि होना संभावित हो सकता है. कई बार ऐसी स्थिति निर्मित होती है कि एक साथ दो रत्न धारण करने पड़ जाते हैं. कौन से रत्न एक साथ धारण करने से बचना चाहिए, यह जानकारी होना जरूरी है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

ग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को दूर करने के लिए रत्न धारण किए जाते हैं.
नीलमणि को हम साधारण भाषा में नीलम के रूप में भी जानते हैं.

ज्योतिष शास्त्र (Astrology) के अनुसार, रत्नों में ऐसी शक्तियां पाई जाती हैं, जो इसे धारण करने वाले के जीवन को प्रभावित कर सकते हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को दूर करने के लिए रत्न धारण किए जाने चाहिए. ज्योतिष शास्त्र में ऐसा बताया गया है कि प्रत्येक ग्रह का अपना एक रत्न होता है, इसलिए इसे किसी विद्वान ज्योतिष की सलाह से ही धारण करना चाहिए, लेकिन कभी-कभी ऐसी स्थिति बन जाती है, जब किसी व्यक्ति को ग्रहों के अनुसार दो या दो से अधिक रत्नों को धारण करना पड़ जाता है. इस विषय में अधिक जानकारी दे रहे हैं भोपाल निवासी ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा.

-नीलमणि रत्न
नीलमणि को हम साधारण भाषा में नीलम के रूप में भी जानते हैं. नीलम को ज्योतिष शास्त्र में सबसे शक्तिशाली रत्नों में से एक माना गया है. ऐसा कहा जाता है कि नीलम रत्न शनि ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए सूर्य, चंद्रमा और मंगल इसके अनुकूल ग्रह नहीं हैं.

नीलम धारण करने वाले व्यक्ति को कभी भी माणिक्य, मोती और मूंगा साथ में धारण नहीं करना चाहिए. शनि ग्रह के उग्र स्वभाव के कारण नीलम को अकेले ही धारण करना उत्तम होता है.

यह भी पढ़ें – क्या आप जानते हैं सफेद मूंगा धारण करने के फायदे और नियम? यहां पढ़ें

-माणिक्य रत्न
माणिक्य रत्न को साधारण भाषा में हम रूबी के नाम से भी जानते है. यह रत्न सूर्य ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है. ऐसा बताया जाता है कि शुक्र और शनि सूर्य के संगत ग्रह नहीं हैं. इसलिए इन ग्रहों के प्रतिनिधि रत्नों को एक साथ कभी नहीं पहनना चाहिए. मतलब रूबी रत्न को कभी भी हीरा और नीलम के साथ नहीं पहना जाना चाहिए.


यह भी पढ़ें – राशि के अनुसार करें भगवान श्रीकृष्ण की पूजा, होगी हर मनोकामना पूरी

-पन्ना रत्न
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पन्ना रत्न बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है. इसे धारण करने वाले व्यक्ति प्यार, स्नेह और समृद्धि पाते हैं. बुध ग्रह, चंद्रमा और मंगल के साथ संगत नहीं होता, इसलिए पन्ना रत्न के साथ कभी भी मोती और लाल मूंगा नहीं पहनना चाहिए.

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Religion

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर