• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Mauna Panchami 2020: आज है मौना पंचमी, जानें इस दिन मौन रहकर क्यों की जाती है भोलेनाथ और शेषनाग की पूजा

Mauna Panchami 2020: आज है मौना पंचमी, जानें इस दिन मौन रहकर क्यों की जाती है भोलेनाथ और शेषनाग की पूजा

इस दिन पंचामृत और जल से भगवान शिव का अभिषेक किया जाता है.

इस दिन पंचामृत और जल से भगवान शिव का अभिषेक किया जाता है.

मौना पंचमी के दिन भगवान शिव के दक्षिणामूर्ति स्वरूप की पूजा का विशेष महत्व होता है. इस रूप में शिव को ज्ञान, ध्यान, योग और विद्या का जगद्गुरु माना गया है.

  • Share this:
    सावन महीने (Sawan Month) के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को मौना पंचमी (Mauna Panchami) के रूप में मनाया जाता है. इस बार यह 10 जुलाई को मनाया जा रहा है. इस दिन झारखंड के देवघर के शिव मंदिर में शर्वनी मेला लगता है. हालांकि कोरोना महामारी के चलते इस पर रोक लगाई गई है. इस दिन सुहागिन महिलाएं (Married Women) व्रत रखती हैं. इसके अलावा इस खास दिन पर नागों की विशेष पूजा की जाती है. इस दिन नाग देवता को सूखे फल और खीर का भोग लगाया जाता है. इस पर्व के देवता शेषनाग हैं इसलिए इस दिन भोलेनाथ के साथ-साथ शेषनाग की पूजा भी की जाती है.

    भगवान शिव के दक्षिणामूर्ति स्वरूप की पूजा
    मौना पंचमी के दिन भगवान शिव के दक्षिणामूर्ति स्वरूप की पूजा का विशेष महत्व होता है. इस रूप में शिव को ज्ञान, ध्यान, योग और विद्या का जगद्गुरु माना गया है. मान्यता है कि इस रूप में शिव की पूजा करने से बुद्धि तथा ज्ञान में बढ़ोतरी होती है जिससे व्यक्ति जीवन में सफलता पाता है. इस दिन पंचामृत और जल से भगवान शिव का अभिषेक किया जाता है. हिंदू धर्म में विवाहि‍त मह‍िलाओं के लिए यह दिन विशेष महत्वपूर्ण होता है. कई जगह इस दिन से महिलाएं 15 दिन तक व्रत रखती हैं और हर दिन नाग देवता की पूजा करती हैं.

    भगवान शिव और नाग देवता का पूजन 
    मौना पंचमी को शिव पूजा और मौन व्रत रखने के पीछे यही मूल संदेश है कि मौन मानसिक, वैचारिक और शारीरिक हिंसा पर लगाम लगाने का काम करता है. मौन व्रत व्यक्ति को मानसिक रूप से संयम और धैर्य रखना सिखाता है. साथ ही वह शारीरिक ऊर्जा के नुकसान से भी बचने में सफलता दिलाता है. मान्यता है मौना पंचमी के दिन भगवान शिव और नाग देवता का पूजन करने से मनुष्‍य के जीवन में आ रहे कष्ट नष्‍ट हो जाते हैं. कई क्षेत्रों में लोग इस दिन आम के बीज, नींबू तथा अनार के साथ नीम के पत्ते भी चबाते हैं. ऐसा माना जाता है कि ये पत्ते शरीर से जहर समाप्त करने में काफी हद तक मदद करते हैं.  (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज