Lunar Eclipse 2020: कल साल का तीसरा चंद्र ग्रहण, जानें सूतक काल और क्या होगा असर

Lunar Eclipse 2020: कल साल का तीसरा चंद्र ग्रहण, जानें सूतक काल और क्या होगा असर
5 जुलाई को लगने वाले इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा यानि किसी भी प्रकार के शुभ कार्य वर्जित नहीं होंगे.

कल यानी 5 जुलाई को लगने वाले इस चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse) में सूतक काल मान्य नहीं होगा यानि किसी भी प्रकार के शुभ कार्य वर्जित नहीं होंगे. पूजा पाठ और भोजन से जुड़े कार्य किए जा सकेंगे. लेकिन फिर भी संयम बरतने और नियमों का पालन करना जरूरी है.

  • Share this:
Chandra Grahan 2020: इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse) कल यानी 5 जुलाई को लगने वाला है. इस ग्रहण काल में सूतक काल (Sutak Kaal) मान्य नहीं होगा. यह दक्षिण एशिया के कुछ हिस्से, अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा. आपको बता दें कि वर्ष 2020 में कुल 6 ग्रहण लगेंगे. इसमें से दो चंद्र ग्रहण (10 जनवरी, 5 जून) व एक सूर्यग्रहण (21 जून) लग चुका है. आगामी समय में दो चंद्र ग्रहण व एक सूर्य ग्रहण और लगेगा. 5 जुलाई को चंद्रग्रहण लग रहा है लेकिन यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. हालांकि इस दिन कई तरह की बातों का ख्याल जरूर रखें.

5 जुलाई, चंद्र ग्रहण का समय
उपच्छाया से पहला स्पर्श: सुबह 08:38 बजे
परमग्रास चंद्र ग्रहण: सुबह 09:59 बजे
उपच्छाया से अन्तिम स्पर्श: सुबह 11:21 बजे
ग्रहण अवधि: 02 घंटे 43 मिनट 24 सेकंड



इसे भी पढ़ेंः Lunar Eclipse 2020: रविवार 5 जुलाई को लगेगा साल का तीसरा चंद्रग्रहण, जानें इसकी पौराणिक कथा

क्या होता है चंद्र ग्रहण
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर वर्ष ग्रहण लगते हैं. इनकी संख्या कम से कम चार और अधिकतम 6 होती हैं. ग्रहण खगोलीय घटना है. यह जानने की चीज है कि पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य भी गति करते हैं. ग्रहण का होना सामान्य खगोलीय घटना है. ग्रहण को ऐसे समझ सकते हैं कि 'चंद्र ग्रहण' तब होता है जब चंद्रमा और सूर्य के मध्य पृथ्वी आ जाती है. वहीं पृथ्वी और सूर्य के बीच में चंद्रमा आने से 'सूर्य ग्रहण' पड़ता है. सूर्य ग्रहण हमेशा अमावस्या और चंद्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन पड़ता है. अभी पृथ्वी और चंद्रमा के बीच 4 लाख किमी की दूरी का अंतर है और अपनी-अपनी कक्षा में गतिमान हैं. चंद्रमा तीन लाख किलोमीटर की दूरी पर परिक्रमा करता है.

सूतक काल मान्य नहीं होगा
कल यानी 5 जुलाई को लगने वाले इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा यानि किसी भी प्रकार के शुभ कार्य वर्जित नहीं होंगे. पूजा पाठ और भोजन से जुड़े कार्य किए जा सकेंगे. लेकिन फिर भी संयम बरतने और नियमों का पालन करना जरूरी है. उप छाया चंद्र ग्रहण आगामी 05 जुलाई को लगेगा. यह भारत सहित दक्षिण एशिया के कुछ हिस्से अमेरिका, यूरोप व ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा. चौथा उप छाया चंद्रग्रहण 30 नवंबर को लगेगा यह एशिया, आस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर, अमेरिका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा. इन सभी उप छाया ग्रहणों में सूतक काल मान्य नहीं होंगे.

पूर्ण चंद्रग्रहण 2025 में दिखेगा
ज्योतिष शास्त्र की मानें तो संपूर्ण चंद्र ग्रहण 7 सितंबर 2025 में देखने को मिलेगा. वैसे सामान्य रूप से एक वर्ष में 4 ग्रहण लगते हैं. इसमें दो सूर्य ग्रहण और दो चंद्रग्रहण होते हैं लेकिन कभी-कभी इससे ज्यादा भी ग्रहण पड़ जाते हैं. 2024 में 3 चंद्रग्रहण और दो सूर्य ग्रहण लगेंगे. साल 2029 काफी खास होगा, तब 4 सूर्यग्रहण और दो चंद्रग्रहण देखने को मौका मिलेगा. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें).
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज