• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • TULASI VIVAH 2020 ON 25 NOVEMBER DO SOME TIPS TO RESOLVE YOUR PROBLEMS RELATED MARRIAGE AND OTHERS

Tulasi Vivah 2020: तुलसी विवाह के दिन करें ये उपाय, दूर होंगी ये सारी समस्याएं

25 नवंबर को तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त है.

Tulsi Vivah 2020: ऐसा माना जाता है कि तुलसी विवाह के दिन कुछ उपाय करने से कई समस्याओं का समाधान होता है.

  • Share this:
    कल तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त है. हिन्दू धर्म में तुलसी विवाह का विशेष महत्व है. तुलसी और तुलसी विवाह को लेकर कई पौराणिक मान्यताएं हैं. ऐसा माना जाता है कि तुलसी विवाह के दिन कुछ उपाय करने से कई समस्याओं का समाधान होता है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन कुछ उपाय करने से विवाह में देरी संबंधी समस्याएं भी दूर होती है और वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों का भी निराकरण होता है.

    मंत्र जाप करें

    तुलसी विवाह के दिन 108 बार 'ॐ भगवते वासुदेवायः नमः' का मंत्रोच्चार करना चाहिए. इससे भी दाम्प्त्य जीवन में आने वाली परेशानियों से छुटकारा मिलता है और जीवन सुखमय बना रहता है. साथ ही अगर आपसी वाद-विवाद है तो उससे निजात मिलती है.

    कलह से मुक्ति
    धार्मिक पुस्तकों और ज्योतिषाचार्यों के अनुसार तुलसी विवाह के दिन तुलसी के पत्ते तोड़कर पानी में रखने और उसके अगले दिन उस जल को घर के मुख्य द्वार से लेकर चारों तरफ छिड़कने से घर में साकारात्मक वातावरण निर्मित होता है, बल्कि घर में चल रही कलह और घरेलू तनाव से भी मुक्ति मिलती है.

    सारे कष्ट दूर

    तुलसी विवाह के दिन माता तुलसी को लाल वस्त्र चढ़ाना चाहिए और उस वस्त्र को किसी सुहागिन स्त्री को दान कर देना चाहिए. इससे पारिवारिक जीवन में सामंजस्य बना रहता है और पति पत्नी के सारे कष्ट दूर होते हैं.

    विवाह में आ रही अड़चनें दूर

    मान्यता यह भी है कि अगर किसी कन्या के विवाह में देरी हो रही हो या किसी तरह की बाधाएं आ रही हों, तो तुलसी विवाह के दिन तुलसी माता को लाल रंग का वस्त्र चढ़ाएं और अगले दिन उस वस्त्र को अपने पास संभाल कर रखें. कहा जाता है कि ऐसा करने से विवाह में आ रही अड़चनें दूर होती हैं.

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें).
    Published by:Dhiraj Rai
    First published: