जब वामन भगवान ने तीन डग में नाप दिए तीनों लोक, पढ़िए वामन व्रत कथा

News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 6:32 AM IST
जब वामन भगवान ने तीन डग में नाप दिए तीनों लोक, पढ़िए वामन व्रत कथा
वामन जयंती कथा

वामन जयंती कथा: सब कुछ गंवा चुके बलि को अपने वचन से न फिरते देख वामन प्रसन्न हो गए और बाद में उसे ...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2019, 6:32 AM IST
  • Share this:
वामन जयंती: आज वामन जयंती मनाई जा रही है. भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को वामन जयंती के नाम से जाना जाता है. इसे परिवर्तिनी एकादशी है, पार्श्व एकादशी, वामन एकादशी, जलझूलनी एकादशी, पद्मा एकादशी, डोल ग्यारस और जयंती एकादशी भी कहा जाता है. हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु ने पृथ्वीलोक को असुरराज बलि के अन्याय और अत्याचार से मुक्ति दिलाने के लिए वामन अवतार धारण किया था. इस दिन भक्त उपवास रहकर भगवान विष्णु की विधिवत पूजा अर्चना करते हैं क्योंकि वामन भगवान विष्णु के ही अवतार थे. आइए जानते हैं वामन जयंती (परिवर्तिनी एकादशी) की तिथि और शुभ मुहूर्त और वामन व्रत की कथा...

वामन जयंती (परिवर्तिनी एकादशी) की तिथि और शुभ मुहूर्त
परिवर्तिनी एकादशी की तिथि: 09 सितंबर 2019
एकादशी की शुरुआत: 08 सितंबर को रात 10 बजकर 41 मिनट से

एकादशी तिथि का समापन: 10 सितंबर को सुबह 12 बजकर 30 मिनट पर
व्रत खोलने का समय: 10 सितंबर 2019 को सुबह 7 बजकर 4 मिनट से लेकर 08 बजकर 35 मिनट तक भक्त कभी भी अपना व्रत खोल सकते हैं.

वामन जयंती कथा
Loading...

vaman jayanti 2019 vaman vrat katha
vaman jayanti 2019 vaman vrat katha


 
Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.




News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 6:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...