लाइव टीवी

Vijaya Ekadashi 2020: विजया एकादशी का व्रत इस कथा के बिना है अधूरा, यहां पढ़ें

News18Hindi
Updated: February 19, 2020, 5:44 AM IST
Vijaya Ekadashi 2020: विजया एकादशी का व्रत इस कथा के बिना है अधूरा, यहां पढ़ें
विजया एकादशी का व्रत इस कथा के बिना है अधूरा, यहां पढ़ें

विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi): श्री रामचंद्र जी ने वानर सेना सहित सुग्रीव की सम्पत्ति से लंका को प्रस्थान किया. जब श्री रामचंद्र जी समुद्र किनारे पहुंचे तब उन्होंने मगरमच्छ आदि से युक्त उस अगाध समुद्र को देखकर लक्ष्मण जी से कहा कि इस समुद्र को हम किस प्रकार से पार करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2020, 5:44 AM IST
  • Share this:
विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi): आज विजया एकादशी है. धार्मिक मानुताओं के मुताबिक़, इस दिन भगवान राम ने लंकापति रावण पर विजय हासिल की थी. विजया एकादशी के दिन भक्त भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करते हैं. हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का काफी महत्व है. व्रत कथा के बिना कोई भी व्रत अधूरा माना जाता है. आइए पढ़ते हैं विजया एकादशी की व्रत कथा...

बृहस्पति पूजा का महत्व हिंदू मान्यता के अनुसार बृहस्पति केवल एक ग्रह नहीं, बल्कि जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करने वाले देवता हैं. पूरे विधि-विधान से बृहस्पति देवता की पूजा करने पर मनवांछित जीवनसाथी मिलता है. वैवाहिक संबंध सफल रहते हैं और करियर में भी सफलता मिलती है. जिन लोगों का बृहस्पति कमजोर हो, उन्हें ये पूजा फल देती है. माता-पिता से अच्छे संबंधों के लिए भी इस दिन पूजा की मान्यता है.
विजया एकादशी की व्रत: कथा 


त्रेता युग में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्र जी को जब चौदह वर्ष का वनवास हो गया, तब वे लक्ष्मण और सीता जी सहित पंचवटी में निवास करने लगे. वहां पर दुष्ट रावण ने जब सीताजी का हरण किया तब इस समाचार से रामचंद्र जी और लक्ष्मण अत्यंत व्याकुल हुए और सीताजी की खोज में चल दिए.

घूमते-घूमते जब वे मरणासन्न जटायु के पास पहुंचे तब वह उन्हें सीता जी का वृत्तांत सुनाकर स्वर्गलोक चला गया. कुछ आगे जाकर उनकी सुग्रीव से मित्रता हुई और बाली का वध किया. हनुमान जी ने लंका में जाकर सीता जी का पता लगाया और उनसे श्री रामचंद्र जी और सुग्रीव की मित्रता का वर्णन किया. वहां से लौटकर हनुमान जी ने भगवान राम के पास आकर सब समाचार कहे.



गुरुवार के दिन बृहस्पति देव और भगवान विष्‍णु की पूजा इस मंत्र के जाप से करें- ऊं नमो नारायणा. यह मंत्रजाप 108 बार करने से परिवार में सुख-समृद्धि आती है और करियर में भी सफलता मिलती है. पूजा में दूध, दही और घी से बने पीले व्यंजनों का भोग लगाएं. भगवान विष्णु की पूजा कर रहे हों तो दिन में एक ही बार पूजा के बाद उपवास का पारण करें और केवल मीठी चीजों का ही सेवन करें.
भगवान विष्‍णु की पूजा इस मंत्र के जाप से करें- ऊं नमो नारायणा.


श्री रामचंद्र जी ने वानर सेना सहित सुग्रीव की सम्पत्ति से लंका को प्रस्थान किया. जब श्री रामचंद्र जी समुद्र से किनारे पहुंचे तब उन्होंने मगरमच्छ आदि से युक्त उस अगाध समुद्र को देखकर लक्ष्मण जी से कहा कि इस समुद्र को हम किस प्रकार से पार करेंगे. श्री लक्ष्मण ने कहा, "हे पुराण पुरुषोत्तम, आप आदिपुरुष हैं, सब कुछ जानते हैं. यहां से आधा योजन दूर पर कुमारी द्वीप में वकदालभ्य नाम के मुनि रहते हैं. उन्होंने अनेक ब्रह्मा देखे हैं, आप उनके पास जाकर इसका उपाय पूछिए."

लक्ष्मण जी के इस प्रकार के वचन सुनकर श्री रामचंद्र जी वकदालभ्य ऋषि के पास गए और उनको प्रणाम करके बैठ गए. मुनि ने भी उनको मनुष्य रूप धारण किए हुए पुराण पुरुषोत्तम समझकर उनसे पूछा, "हे राम! आपका आना कैसे हुआ?" रामचंद्र जी कहने लगे, "हे ऋषे! मैं अपनी सेना सहित यहां आया हूँ और राक्षसों को जीतने के लिए लंका जा रहा हूं. आप कृपा करके समुद्र पार करने का कोई उपाय बतलाइए. मैं इसी कारण आपके पास आया हूं."

वकदालभ्य ऋषि ने कहा कि हे राम! फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का उत्तम व्रत करने से निश्चय ही आपकी विजय होगी, साथ ही आप समुद्र भी अवश्य पार कर लेंगे. उन्‍होंने कहा, "इस व्रत की विधि यह है कि दशमी के दिन स्वर्ण, चाँदी, तांबा या मिट्‍टी का एक घड़ा बनाएं. उस घड़े को जल से भरकर तथा पांच पल्लव रख वेदिका पर स्थापित करें. उस घड़े के नीचे सतनजा और ऊपर जौ रखें. उस पर श्रीनारायण भगवान की स्वर्ण की मूर्ति स्थापित करें. एका‍दशी के दिन स्नानादि से निवृत्त होकर धूप, दीप, नैवेद्य, नारियल आदि से भगवान की पूजा करें. तत्पश्चात घड़े के सामने बैठकर दिन व्यतीत करें और रात्रि को भी उसी प्रकार बैठे रहकर जागरण करें. द्वादशी के दिन नित्य नियम से निवृत्त होकर उस घड़े को ब्राह्मण को दे दें. हे राम! यदि तुम भी इस व्रत को सेनापतियों सहित करोगे तो तुम्हारी विजय अवश्य होगी. भगवान राम जी ने ऋषि के कहे अनुसार इस व्रत को किया और इसके प्रभाव से दैत्यों पर विजय हासिल करूं.

इसे भी पढ़ें: ओशो: तुम्हें खुशी इसलिए अधिक रास आती है क्योंकि... 

इसे भी पढ़ें: February Panchang: यहां देखें फरवरी का पंचांग, जानें महीने के शुभ मुहूर्त, व्रत और त्यौहार की पूरी लिस्ट

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2020, 5:44 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर