Vijaya Ekadsahi 2021: आज भगवान विष्णु और हनुमान जी की पूजा का बन रहा है विशेष संयोग, ये है पूजन विधि

मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमान जी का विशेष आर्शीवाद प्राप्त होता है.

मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमान जी का विशेष आर्शीवाद प्राप्त होता है.

Vijaya Ekadashi 2021: भगवान विष्णु (Lord Vishnu) और हनुमान जी (Hanuman Ji) को स्वच्छता और नियम अधिक प्रिय हैं. इसलिए इस दिन तन और मन दोनों को स्वच्छ रखने का प्रयास करना चाहिए.

  • Share this:
पंचांग के अनुसार आज यानी 9 मार्च मंगलवार को फाल्गुन कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि है. मंगलवार के दिन एकादशी की तिथि पड़ने से इस दिन का महत्व और ज्यादा बड़ जाता है. मंगलवार के दिन जहां हनुमान जी की पूजा की जाती है, वहीं एकादशी की तिथि में भगवान विष्णु की पूजा करने से विशेष फल प्राप्त होते हैं. एकादशी व्रत का विशेष महत्व बताया गया है. एकादशी का व्रत कठिन व्रतों में से एक माना गया है. आज विजया एकादशी है. ऐसा माना जाता है यह एकादशी सभी प्रकार के संकटों से उभारती है और विजय प्राप्त होती है इसीलिए इस एकादशी को विजया एकादशी कहा जाता है. हनुमान जी को भी संकट मोचक कहा गया है. मंगलवार के दिन भगवान विष्णु और हनुमान जी की पूजा का विशेष संयोग बना है. यह दिन उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जिनके जीवन में कोई संकट बना हुआ है. इस दिन सुबह स्नान करने के बाद पूजा आरंभ करनी चाहिए. विधि पूर्वक पूजा और व्रत की प्रक्रिया को पूर्ण करना चाहिए.

इस दिन भूलकर भी न करें ये काम

एकादशी तिथि होने के कारण इस मंगलवार का धार्मिक महत्व बढ़ गया है. भगवान विष्णु और हनुमान जी को स्वच्छता और नियम अधिक प्रिय हैं. इसलिए इस दिन तन और मन दोनों को स्वच्छ रखने का प्रयास करना चाहिए. गलत विचारों से दूर रहना चाहिए. इसके साथ ही क्रोध का त्याग करना चाहिए. इस दिन भगवान को स्मरण करना चाहिए और उनकी उपासना करनी चाहिए, तभी पूर्ण लाभ प्राप्त होता है.

इसे भी पढ़ेंः मंगलवार को हनुमान जी को क्यों चढ़ाया जाता है नारियल, जानें इसके पीछे की रोचक बात
शनिदेव के लिए उपाय

शनिदेव के अशुभ प्रभावों को कम करने में हनुमान जी की पूजा विशेष फलदायी मानी गई है. वहीं भगवान विष्णु की पूजा से भी नवग्रह की शांति होती है.

हनुमान चालीसा का करें पाठ



मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमान जी का विशेष आर्शीवाद प्राप्त होता है. इसके साथ ही सुंदरकांड का पाठ भी अच्छा माना गया है.

इसे भी पढ़ेंः मंगलवार को इस विधि से करें हनुमान जी की पूजा, सारे कष्‍ट होंगे दूर

भगवान विष्णु के इन मंत्रों का जाप जरूर करें

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।

विश्वाधारं गगनसद्श्र्यं मेघवर्णम शुभांगम।

लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिध्र्यान नग्म्य्म।

ॐ नमो: नारायणाय. ॐ नमो: भगवते वासुदेवाय।(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज