होम /न्यूज /धर्म /Vinayaka Chaturthi 2022: आज विनायक चतुर्थी पर पाएं गणेश जी संग मां दुर्गा की कृपा, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Vinayaka Chaturthi 2022: आज विनायक चतुर्थी पर पाएं गणेश जी संग मां दुर्गा की कृपा, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

सितंबर माह के विनायक चतुर्थी की पूजा का शुभ मुहूर्त दिन में 11:00 बजे से  है.

सितंबर माह के विनायक चतुर्थी की पूजा का शुभ मुहूर्त दिन में 11:00 बजे से है.

आज आश्विन माह की विनायक चतुर्थी व्रत (Vinayaka Chaturthi) है. इस दिन व्रत रखने के साथ भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

आज की विनायक चतुर्थी रवि योग में है.
आज प्रातः स्नान के बाद विनायक चतुर्थी व्रत और पूजा का संकल्प करें.

आज आश्विन माह की विनायक चतुर्थी व्रत (Vinayaka Chaturthi) है. इस दिन व्रत रखने के साथ भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है. शारदीय नवरात्रि चल रही है और आज इसका चौथा दिन है. आज मां कूष्मांडा की पूजा (Kushmanda Puja) करते हैं. आज विनायक चतुर्थी के अवसर पर गणेश जी के साथ मां दुर्गा की कृपा पाने का भी सुंदर संयोग बना है. श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ मृत्युञ्जय तिवारी बता रहे हैं विनायक चतुर्थी व्रत के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में.

विनायक चतुर्थी 2022 तिथि
हिंदू कैलेंडर के अनुसार आश्विन शुक्ल चतुर्थी तिथि का प्रारंभ 28 सितंबर दिन बुधवार को देर रात 01 बजकर 27 मिनट से हुआ है और इस तिथि का समापन आज देर रात 12 बजकर 08 मिनट पर होना है. ऐसे में विनायक चतुर्थी व्रत आज रखा जा रहा है.

ये भी पढ़ेंः दुर्गा पूजा में किस देवी की आराधना से मिलता है कौन सा आशीर्वाद?

विनायक चतुर्थी पूजा मुहूर्त 2022
सितंबर माह के विनायक चतुर्थी की पूजा का शुभ मुहूर्त दिन में 11:00 बजे से लेकर दोपहर 01 बजकर 23 मिनट तक है. ऐसे में आपको आज गणेश पूजन के लिए दो घंटे से अधिक का समय प्राप्त होगा.

रवि योग में विनायक चतुर्थी
आज की विनायक चतुर्थी रवि योग में है. यह योग अमंगल को दूर करने वाला और शुभता प्रदान करने वाला है. आज रवि योग सुबह 06 बजकर 13 मिनट से कल सुबह 05 बजकर 13 मिनट तक है. सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, लेकिन यह कल सुबह 05 बजकर 13 मिनट से सुबह 06 बजकर 13 मिनट तक सिर्फ एक घंटे तक है.

ये भी पढ़ेंः नवरात्रि के चौथे दिन करते हैं मां कूष्मांडा की पूजा, जानें नाम का अर्थ और आरती

वैसे आज दो शुभ मुहूर्त हैं. एक शुभ – उत्तम मुहूर्त सुबह 06 बजकर 13 मिनट से सुबह 07 बजकर 42 मिनट तक है. दूसरा लाभ – उन्नति मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 11 मिनट से दोपहर 01 बजकर 41 मिनट तक है.

विनायक चतुर्थी पूजा विधि
आज प्रातः स्नान के बाद विनायक चतुर्थी व्रत और पूजा का संकल्प करें. उसके बाद शुभ समय में गणेश जी की पूजा करें. गणेश जी को लाल फूल, अक्षत्, सिंदूर, चंदन, धूप, दीप, गंध, नैवेद्य आदि अर्पित करें. उसके बाद उनको दूर्वा मस्तक पर रखें और मोदक या लड्डू का भोग लगाएं.

इसके पश्चात गणेश चालीसा, विनायक चतुर्थी व्रत कथा का पाठ करें. फिर मां दुर्गा का पूजन करें. मां कूष्मांडा को लाल फूल, अक्षत्, सिंदूर, धूप, दीप, गंध, दही, हलवा आदि अर्पित करके पूजन करें. फिर दोनों से सुख और समृद्धि की प्रार्थना करें.

Tags: Dharma Aastha, Navaratri, Navratri

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें