होम /न्यूज /धर्म /

किस्मत बदलना चाहते हैं तो धारण करें फिरोजा रत्न, जानें इससे होने वाले फायदे

किस्मत बदलना चाहते हैं तो धारण करें फिरोजा रत्न, जानें इससे होने वाले फायदे

फिरोजा रत्न बृहस्पति ग्रह से जुड़ा माना जाता है. (Image-Shutterstock)

फिरोजा रत्न बृहस्पति ग्रह से जुड़ा माना जाता है. (Image-Shutterstock)

अक्सर आपने बहुत से लोगों को अपने हाथ में कई तरह के रत्नों को धारण किए हुए देखा होगा. यह रत्न व्यक्ति के जीवन में कई तरह से प्रभाव डालते हैं. इन रत्नों को धारण करने के नियम जानना बहुत ज़रूरी है. फिरोजा रत्न व्यक्ति के जीवन को किस तरह से प्रभावित करता है, आइए जानते हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

फिरोजा रत्न धारण करने वाले व्यक्ति की कुंडली में राहु केतु के दुष्प्रभाव से छुटकारा मिलता है.
फिरोजा रत्न को गुरुवार और शुक्रवार के दिन धारण करना चाहिए.

रत्न शास्त्र में अनेक रत्नों का वर्णन व्यक्ति के जीवन में आ रहे उतार-चढ़ाव को बैलेंस करने के लिए बताया गया है. ज्योतिष शास्त्र और रत्न शास्त्र के कुछ नियमों का पालन करते हुए कुंडली के अनुसार इन रत्नों को धारण किया जाए तो व्यक्ति की किस्मत चमक उठती है. वहीं, यदि बिना जानकार की सलाह से रत्नों को धारण किया जाए तो अनेक परेशानियां घेर लेती हैं. ज्योतिष शास्त्र में रत्नों को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है. इन्हीं रत्नों में से आज हम बात करेंगे फिरोजा रत्न की जिसके बारे में हमें जानकारी दे रहे हैं भोपाल के रहने वाले ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा.

फिरोजा रत्न के फायदे
1.ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, गहरे आसमानी रंग का फिरोजा रत्न बृहस्पति ग्रह से जुड़ा माना जाता है. इस रत्न को धारण करने से बृहस्पति ग्रह को प्रबलता मिलती है.

यह भी पढ़ें – रत्न धारण करने से चमक उठेगी किस्मत, खरीदने से पहले जान लें ये नियम

2. फिरोजा रत्न धारण करने वाले व्यक्ति की कुंडली में राहु केतु के दुष्प्रभाव से छुटकारा मिलता है.

3. जो व्यक्ति फिरोजा रत्न धारण करता है, उसका ज्ञान और आत्मविश्वास बढ़ जाता है.

4.लंबे समय से नौकरी और व्यापार में अड़चन का सामना कर रहे जातकों को फिरोजा रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है.

5.दांपत्य जीवन सुखमय और प्रेम विवाह मधुर बनाने के लिए फिरोजा रत्न धारण करना चाहिए.

फिरोजा रत्न धारण करने के तरीके
-रत्न शास्त्र में बताया गया है कि फिरोजा रत्न को सोने या तांबे की धातु में अंगूठी बनवा कर पहना जाता है.

-इस रत्न को धारण करने से पहले इसे अभिमंत्रित करना बहुत ज़रूरी है. इसके लिए सबसे पहले दूध और गंगाजल के मिश्रण में फिरोजा को डालकर शुद्ध कर लेना चाहिए.

यह भी पढ़ें – इन वजहों से कुंडली में बनता है विदेश जाने का योग

-फिरोजा रत्न को गुरुवार और शुक्रवार के दिन धारण करना सबसे अच्छा माना गया है.

कौन पहन सकते हैं फिरोजा रत्न
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिन लोगों की राशि धनु होती है, उनके लिए फिरोजा धारण करना सबसे अधिक लाभदायक माना जाता है. इसके अलावा मेष, कर्क, सिंह और वृश्चिक राशि के लोग भी फिरोजा रत्न पहन सकते हैं.

Tags: Dharma Aastha, Religion

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर