होम /न्यूज /धर्म /जानें पूजा-पाठ के सही नियम, शाम के समय भूलकर भी न करें ये गलती

जानें पूजा-पाठ के सही नियम, शाम के समय भूलकर भी न करें ये गलती

शाम के वक्त पूजा के दौरान घंटी या शंख नहीं बजाना चाहिए

शाम के वक्त पूजा के दौरान घंटी या शंख नहीं बजाना चाहिए

हर व्यक्ति अपने सामर्थ्य और श्रद्धा भाव के अनुसार अपने इष्ट देव की पूजा करता है, लेकिन कई बार कुछ जातकों को पूजा-पाठ का ...अधिक पढ़ें

हिंदू धर्म शास्त्रों में स्नान के बाद सुबह और शाम को पूजा करना अनिवार्य बताया गया है. हर व्यक्ति अपने सामर्थ्य और श्रद्धा भाव के अनुसार अपने इष्ट की पूजा करता है, लेकिन कई बार कुछ जातकों को पूजा पाठ का सही फल नहीं मिल पाता. ऐसा अक्सर पूजा पाठ में बताए गए नियमों में कुछ गड़बड़ी के कारण होता है. इसलिए सुबह या शाम को पूजा करते समय कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखना बहुत जरूरी होता है. धर्म हिंदू धर्म शास्त्रों में ऐसा उल्लेख मिलता है कि खासकर शाम के वक्त पूजा करते समय कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है. भोपाल के रहने वाले पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा, ज्योतिष बताते हैं कि संध्या में पूजा करने के दौरान आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

– कुछ लोग शाम के वक्त पूजा करने के लिए संध्या से पहले फूल तोड़ लेते हैं, लेकिन ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता. सुबह के वक्त पूजा के दौरान भगवान को ताजे फूल चढ़ाना अच्छा होता है, लेकिन शाम के वक्त पूजा के लिए फूल तोड़ना अशुभ माना जाता है.

यह भी पढ़ें – तिलक लगाते समय किस उंगली का करें प्रयोग? जानें सभी उंगलियों का महत्व

– हिंदू धर्म शास्त्रों में ऐसा कि बताया गया है कि शाम के वक्त पूजा के दौरान घंटी या शंख नहीं बजाना चाहिए. क्योंकि सूर्य अस्त होने के बाद देवी देवता शयन को चले जाते हैं और घंटी और शंख बजाने से उनके आराम में खलल पड़ता है.

– हिंदू धर्म में किसी भी पूजा पाठ या अनुष्ठानों में तुलसी के पत्तों का प्रयोग करना बहुत शुभ बताया गया है, लेकिन शाम के वक्त तुलसी की पत्तियां नहीं तोड़ना चाहिए और ना ही शाम के समय होने वाली पूजा में तुलसी का प्रयोग करना चाहिए.

यह भी पढ़ें – घर खरीदते समय रखें वास्तु के इन नियमों का ध्यान, खूब फलेगा नया मकान

– हिंदू धर्म में की जाने वाली लगभग सभी पूजा में सूर्य देव का आह्वान जरूर किया जाता है, लेकिन यदि यह पूजा रात के वक्त हो तो सूर्य देव का आह्वान गलती से भी नहीं करना चाहिए, यह अशुभ होता है.

Tags: Dharma Aastha, Religion

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें