Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    कार्तिक मास में तुलसी क्यों होती है खास, जानें पूजन और सेवन के लाभ

    तुलसी का पौधा घर में होने से मन को शांति और प्रसन्नता मिलती है.
    तुलसी का पौधा घर में होने से मन को शांति और प्रसन्नता मिलती है.

    जो व्यक्ति यह चाहता है कि उसके घर में सदैव शुभ कर्म हो, सदैव सुख शान्ति का निवास रहे उसे तुलसी (Tulsi) की आराधना अवश्य करनी चाहिए.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 3, 2020, 5:38 PM IST
    • Share this:
    भारतीय धर्मशास्त्रों में हर महीने की अलग-अलग महिमा का विस्तार से वर्णन मिलता है. शास्त्रों में चतुर्मास (Chaturmas) में आने वाले कार्तिक मास (Karthik Month) को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष नामक पुरुषार्थों को देने वाला माना गया है. कार्तिक मास का प्रारंभ तुला राशि (Libra) पर सूर्यनारायण (Sun God) के आते ही हो जाता है. उत्तर भारतीय विशेषकर काशी पंचांग (Kashi Panchang) के अनुसार शरद पूर्णिमा के बाद से पावन कार्तिक मास का आरंभ होता है जबकि दक्षिण के राज्यों में अमावस्या तिथि के बाद यानि 15 दिन बाद कार्तिक मास का प्रारंभ होता है.

    ब्रह्ममुहूर्त में स्नान की महिमा
    कार्तिक मास में सूर्योदय पूर्व स्नान, दान और रामायण पारायण (Ramayan Parayan) का महत्व तो सर्वविदित है. सदियों से यह हमारी सनातन परंपरा का अंग है. इस मास में तुलसी पूजा (Tulsi Puja) का भी बहुत महत्व है. काशी (Kashi) के पंचगंगा घाट (Panchganga ghat) पर आकाशी दीपों की मासपर्यन्त चलने वाली कतारें सज जाती हैं.

    भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद्भागवत (Geeta) में मास की व्याख्या करते हुए कहा है- पौधों में तुलसी मुझे प्रिय है, मासों में कार्तिक मुझे प्रिय है, दिवसों में एकादशी और तीर्थों में द्वारका मेरे हृदय के निकट है. मान्यता है कि आंवले के फल एवम तुलसी-दल मिश्रित जल से स्नान करें तो गंगा स्नान के समान पुण्यलाभ होता हैं. कार्तिक मास में मनुष्य की सभी आवश्यकताओं जैसे- उत्तम स्वास्थ्य, पारिवारिक उन्नति, देव कृपा आदि का आध्यात्मिक समाधान बड़ी ही आसानी से हो जाता है.
    तुलसी पूजन और सेवन के लाभ


    कार्तिक माह में तुलसी पूजन (Worship of Tulsi) करने तथा सेवन करने का विशेष महत्व बताया गया है. जो व्यक्ति यह चाहता है कि उसके घर में सदैव शुभ कर्म हो, सदैव सुख शान्ति का निवास रहे उसे तुलसी की आराधना अवश्य करनी चाहिए. पुरानी मान्यता है कि जिस घर में शुभ कर्म होते हैं, वहां तुलसी हरी-भरी रहती है और जहां अशुभ कर्म होते हैं वहां तुलसी कभी भी हरी-भरी नहीं रहती.

    तुलसी विवाह की पुरानी प्रथा
    कार्तिक मास में तुलसी पूजन का विशेष महत्व बताया गया है. इसके समीप दीपक जलाने से मनुष्य अनंत पुण्य का भागी बनता है. जो तुलसी को पूजता है उसके घर मां लक्ष्मी हमेशा के लिए आ बसती है क्योंकि तुलसी में साक्षात लक्ष्मी का निवास माना गया है. तुलसी का एक नाम हरिप्रिया (Haripriya) भी है, अर्थात वे हरि यानि भगवान विष्णु को अतिशय प्रिय हैं. इसी मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को तुलसी विवाह (Tusli Vivah) विधि-विधान से संपन्न कराया जाता है. उसी दिन भगवान विष्णु क्षीरसागर में चार मास शयन के बाद जगते हैं, उस अवधि को सनातन परंपरा में चतुर्मास काल कहा जाता है. उस एकादशी को देवोत्थान एकादशी (Devotthan Ekadashi) या लोकभाषा में देवठन एकादशी कहा जाता है.

    तुलसी की पौराणिक कथा-
    पौराणिक कथा के अनुसार गुणवती नामक स्त्री ने कार्तिक मास में मंदिर के द्वार पर तुलसी की एक सुंदर वाटिका लगाई. उस पुण्य के कारण वह अगले जन्म में सत्यभामा बनी और सदैव कार्तिक मास का व्रत करने के कारण वह भगवान श्रीकृष्ण की पत्नी बनी.

    तुलसी में औषधीय गुणों की भरमार
    आधुनिक विज्ञान को मानने वालों की नजर में तुलसी एक औषधीय पौधा है जिसमें विटामिन (Vitamin) और खनिज प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. यह अनेक रोगों को दूर करने में सहायक और शारीरिक शक्ति बढ़ाने वाले गुणों से भरपूर है. चरक संहिता और सुश्रुत-संहिता में भी तुलसी के गुणों के बारे में विस्तार से वर्णन मिलता है. तुलसी का वानस्पतिक नाम ओसीमम् सेंक्टम् (Ocimum Sanctum Linn) और कुल का नाम लैमिएसी (Lamiaceae) है. यह भारत सहित दुनिया के अनेक देशों में पाया जाता है. भारत के घर-घर में तुलसी लगाने की परंपरा सदियों पुरानी है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज