Home /News /dharm /

Do Not Offer Water In Tulsi Or Basil Plant: जानें रविवार और एकादशी के दिन क्यों नहीं चढ़ाया जाता है तुलसी में जल

Do Not Offer Water In Tulsi Or Basil Plant: जानें रविवार और एकादशी के दिन क्यों नहीं चढ़ाया जाता है तुलसी में जल

तुलसी के पौधे में रविवार और एकादशी के दिन जल नहीं चढ़ाना चाहिए-Image-shutterstock.com

तुलसी के पौधे में रविवार और एकादशी के दिन जल नहीं चढ़ाना चाहिए-Image-shutterstock.com

Do Not Offer Water In Tulsi Or Basil Plant: हिंदू धर्म में तुलसी (Tulsi) के पौधे को बहुत ही पवित्र पौधा माना जाता है. इसलिए ज्यादातर घरों में तुलसी (Basil) के पौधे को स्थान दिया जाता है. इस पौधे में रोजाना जल (Water) चढ़ाना और इसकी पूजा-अर्चना करना काफी शुभ होता है. मान्यता के अनुसार इस पौधे में साक्षात माता लक्ष्मी का वास होता है. जिसकी वजह से तुलसी के पौधे में जल चढ़ाने से घर में सुख-समृद्धि आती है. इसके बावजूद तुलसी के पौधे में रविवार और एकादशी तिथि के दिन जल चढ़ाना वर्जित माना जाता है.

अधिक पढ़ें ...

    Do Not Offer Water In Tulsi Or Basil Plant: हिंदू धर्म में तुलसी (Tulsi) के पौधे का विशेष महत्त्व है. तुलसी (Basil) के पौधे को बहुत ही पवित्र पौधा माना जाता है. जिसके एक नहीं बल्कि कई सारे औषधीय गुण भी होते हैं. तुलसी का पौधे को ज्यादातर घरों में स्थान दिया जाता है. इस पौधे में रोजाना जल (Water) चढ़ाया जाता है और इसकी पूजा-अर्चना भी की जाती है. ऐसा माना जाता है कि तुलसी का पौधा बहुत ही शुभ होता है और इस पौधे में साक्षात माता लक्ष्मी का वास होता है. मान्यता है कि इस पौधे को  घर में लगाने से घर में सुख-समृद्धि आती है और भगवान विष्णु जी की कृपा हमेशा घर-परिवार पर बनी रहती है.

    लेकिन क्या आपको पता है कि जिस  तुलसी के पौधे में जल चढ़ाना बेहद शुभ माना जाता है. उसमें रविवार और एकादशी तिथि के दिन जल चढ़ाना वर्जित माना जाता है. अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों है? तो आइये आज आपको बताते हैं कि रविवार और एकादशी तिथि के दिन तुलसी के पौधे में जल क्यों नहीं चढ़ाया जाता है.

    रविवार को तुलसी में इसलिए नहीं चढ़ाते है जल

    रोजाना तुलसी में जल अर्पित करने को शुभ माने जाने के बावजूद रविवार को तुलसी में जल चढ़ाना वर्जित माना जाता है. मान्यता के अनुसार ऐसा इसलिए है क्योंकि रविवार के दिन माता तुलसी भगवान विष्णु के लिए निर्जल व्रत करती हैं. अगर रविवार को तुलसी में जल चढ़ाया जाये तो इससे माता तुलसी का व्रत खंडित हो जाता है. जिसकी वजह से भगवान विष्णु की कृपा दृष्टि भी प्राप्त नहीं हो पाती है.

    ये भी पढ़ें: गणेश जी को क्यों नहीं चढ़ाई जाती है तुलसी, क्या है पौराणिक कहानी

    माना जाता है कि रविवार के दिन तुलसी के पौधे में जल अर्पित करने से जीवन में नकारात्मक शक्तियों का वास होता है. साथ ही ऐसा करने से घर में क्लेश बढ़ने की संभावना और सुख-समृद्धि का अभाव होने की दिकत भी हो सकती है.

    एकादशी पर इसलिए वर्जित माना जाता है तुलसी पर जल चढ़ाना

    एकादशी तिथि पर तुलसी के पौधे पर जल चढ़ाना वर्जित माना जाता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि मान्यता के अनुसार माता तुलसी का विवाह भगवान विष्णु के स्वरुप शालिग्राम के साथ हुआ है. इसी वजह से देवउठानी एकादशी के दिन माता तुलसी और भगवान शालिग्राम के विवाह का आयोजन काफी धूमधाम के साथ करवाया जाता है. माता तुलसी प्रत्येक एकादशी तिथि के दिन भगवान विष्णु के लिए निर्जल व्रत करती हैं.

    ये भी पढ़ें: घर में लगा हो तुलसी का पौधा तो इन बातों को जानना है जरूरी

    तुलसी में जल अर्पित करने से उनके व्रत में बाधा उत्पन्न होती है. जिसकी वजह से माता तुलसी, भगवान विष्णु और भगवान शालिग्राम का आशीर्वाद भी घर-परिवार को नहीं मिलता है. जिसके परिणामस्वरूप हरा-भरा तुलसी का पौधा सूखने लगता है, जिससे घर-परिवार में सुख-समृद्धि और खुशहाली की कमी हो सकती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Hindu, Religion

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर