घर पर क्यों नहीं रखी जाती शनिदेव की मूर्ति, जानें पूजा विधि

घर पर क्यों नहीं रखी जाती शनिदेव की मूर्ति, जानें पूजा विधि
शनिदोष से मुक्ति के लिए मूल नक्षत्रयुक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार तक शनिदेव की पूजा करने के साथ साथ व्रत रखने चाहिए.

शनिदेव (Shani Dev) की मूर्ति को घर (House) पर रखना वर्जित है. शास्त्रों के अनुसार शनिदेव की मूर्ति घर के मंदिर में नहीं रखनी चाहिए बल्कि इनकी पूजा घर के बाहर किसी मंदिर में ही करने का विधान बताया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2020, 6:51 AM IST
  • Share this:
शनिवार (Saturday) के दिन शनिदेव (Shani Dev) की पूजा करने का विधान है. शनिदेव की पूजा करने से सभी कष्टों (Pain) से मुक्ति मिलती है. साथ ही जिन लोगों पर साढ़ेसाती चल रही होती है वह भी सही हो जाता है. कहा जाता है कि शनिदोष से मुक्ति के लिए मूल नक्षत्रयुक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार तक शनिदेव की पूजा करने के साथ साथ व्रत (Fast) रखने चाहिए. पूर्ण नियमानुसार पूजा और व्रत करने से शनिदेव की कृपा होती है और सारे दुख खत्म हो जाते हैं. शनिदेव के क्रोध से बचना बेहद जरूरी होता है नहीं तो मनुष्य पर कई तरह के दोष लग जाते हैं.

शनि देव की पूजा विधि

-शनिदेव की पूजा के लिए सुबह उठकर स्नानादि से शुद्ध हों.
-फिर लकड़ी के एक पाट पर काला कपड़ा बिछाकर उस पर शनिदेव की प्रतिमा स्वरूप एक सुपारी रखकर उसके दोनों और शुद्ध घी व तेल का दीपक जलाकर धूप जलाएं.
-शनि देवता के इस प्रतीक स्वरूप को पंचगव्य, पंचामृत, इत्र से स्नान करवाएं.


-इसके बाद अबीर, गुलाल, सिंदूर, कुमकुम व काजल लगाकर नीले फूल अर्पित करें.
-इसके बाद इमरती और तेल में तली खाने की चीजों का नैवेद्य लगाएं.
-फिर श्रीफल के साथ दूसरे फल भी चढ़ाए.
-पंचोपचार पूजन के बाद शनि मंत्र का जाप करें. इसके बाद शनि देव की आरती करें.

हिंदू धर्म में लोग सुबह-शाम अपने घरों में बने पूजास्थल या आसपास के मंदिर में भगवान के दर्शन और उनकी आराधना करते हैं. घर पर बने पूजा स्थल में कई देवी-देवताओं की मूर्तियां रखी होती हैं. शास्त्रों में कुछ देवी-देवताओं की मूर्तियां या फोटो को घर पर रखना वर्जित माना गया है. इन्हीं में से एक शनिदेव की मूर्ति. शनिदेव की मूर्ति को घर पर रखना वर्जित है. शास्त्रों के अनुसार शनिदेव की मूर्ति घर के मंदिर में नहीं रखनी चाहिए बल्कि इनकी पूजा घर के बाहर किसी मंदिर में ही करने का विधान बताया गया है.

इसे भी पढ़ेंः शनिदेव को करना हो खुश तो शनिवार को जरूर करें ये काम, दूर होंगे कष्ट

मान्यता है कि शनिदेव को श्राप मिला हुआ है कि वह जिस भी किसी को देखेंगे उसका अनिष्ट हो जाएगा. शनिदेव की दृष्टि से बचने के लिए घर पर उनकी मूर्ति नहीं लगानी चाहिए. अगर आप मंदिर में शनिदेव के दर्शन करने जाएं तो उनके पैरों की तरफ देखें न कि उनकी आंखों में आंख डाल कर उनके दर्शन करें. ऐसे में यदि आप घर में शनि देव की पूजा करना चाहते हैं तो उनका मन में स्मरण करें. साथ ही शनिवार को हनुमान जी की भी पूजा करें और शनिदेव को भी याद करें. इससे भी शनि प्रसन्न होते हैं.

शनिदेव के अलावा इन देवताओं मूर्तियां भी घर पर नहीं रखनी चाहिए
- राहु-केतु की मूर्ति
- नटराज की मूर्ति
- भैरव की मूर्ति(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज