शुक्रवार को करें मां वैभव लक्ष्मी की पूजा और पढ़ें आरती, घर में होगी धन की वर्षा

शुक्रवार को करें मां वैभव लक्ष्मी की पूजा और पढ़ें आरती, घर में होगी धन की वर्षा
शुक्रवार को मां वैभव लक्ष्मी की पूजा करने से घर में शांति बनी रहती है और हर मनोकामना पूरी होती है.

मान्यता है कि शुक्रवार (Friday) को विधि-विधान से मां वैभव लक्ष्मी (Maa Vaibhav Lakshmi) की पूजा करने से वह प्रसन्न (Happy) होती हैं और अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं. साथ ही भक्तों पर धन (Wealth) की वर्षा करती हैं.

  • Share this:
शुक्रवार (Friday) को मां वैभव लक्ष्मी (Maa Vaibhav Lakshmi) की पूजा करने का विधान है. ऐसी मान्यता है कि शुक्रवार को विधि-विधान से मां वैभव लक्ष्मी की पूजा करने से वह प्रसन्न (Happy) होती हैं और अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं. साथ ही भक्तों पर धन (Wealth) की वर्षा करती हैं. शुक्रवार को मां वैभव लक्ष्मी की पूजा करने से घर में शांति बनी रहती है और हर मनोकामना पूरी होती है. अगर आप भी चाहते हैं कि मां लक्ष्मी आपको धन धान्य से भर दें तो शुक्रवार को इस विधि-विधान से मां की पूजा जरूर करें और मन से मां की व्रत कथा पढ़ें.

मां वैभव लक्ष्मी की पूजन विधि

-घर में ऐसी तस्वीर लगाएं जिसमें मां लक्ष्मी के हाथों से धन गिर रहा हो. अगर आपके हाथों में पैसा नहीं रुकता और बहुत ज्यादा खर्च होता है तो ऐसी तस्वीर लगाएं जिसमें मां वैभव लक्ष्मी खड़ी हों और उनके हाथों से धन गिर रहा हो.



-मां की तस्वीर के सामने दीया जलाएं. मां के लिए हमेशा घी का दीया ही जलाएं.
-मां लक्ष्मी को इत्र चढ़ाएं और उसी इत्र का नियमित इस्तेमाल करें.

-अगर बेवजह धन ज्यादा खर्च हो रहा है तो मां के चरणों में हर दिन एक रुपये का सिक्का अर्पित करें और उसे जमा कर महीने के अंत में किसी धनी स्त्री को दे दें.

-अगर आप मां लक्ष्मी की हर दिन विधिवत पूजन नहीं कर पा रहे हैं तो हर शुक्रवार मां लक्ष्मी की व्रत कथा का पाठ जरूर करें. ऐसा करने से आपके सारे कष्ट दूर हो जाएंगे और मां की कृपा प्राप्त होगी.

मां लक्ष्मी की आरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन * सेवत हरि विष्णु विधाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता
सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत,
मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2 (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज