यूपी बोर्ड की स्थापना का 100वां साल: परीक्षाओं में छात्राओं के लिए खास तोहफे, पढ़ें डिटेल

यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाकर 5 जनवरी, 2021 कर दी है.

यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाकर 5 जनवरी, 2021 कर दी है.

उत्तर प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा परिषद (UP Board) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा-2021 (Board Exams 2021) का आयोजन को लेकर 14 जनवरी को अहम बैठक होने जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 2, 2021, 7:13 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. यूपी बोर्ड की स्थापना के 100वें साल में होने वाली परीक्षा में छात्राओं के लिए खास तोहफे का इंतजाम किया गया है. छात्राओं के लिए ये तोहफा परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण के फॉर्म में दिया जाएगा. पहली बार प्राथमिकता के आधार पर सेंटर बनाने की व्यवस्था की गई है.

स्कूल के केंद्र बनने पर छात्राओं को स्वकेंद्र की सुविधा मिलेगी. अगर किसी स्कूल में छात्र-छात्राएं दोनों पढ़ते हैं और वह केंद्र बनता है तो वहां छात्राओं को उसी स्कूल में सेंटर दिया जाएगा.

स्वकेंद्र नियम से 2021 की परीक्षा में 10वीं एवं 12वीं की 25 लाख से अधिक छात्राओं को लाभ होगा.

- परीक्षा केंद्र निर्धारण में बालिका विद्यालयों को देंगे प्राथमिकता
- जो स्कूल सेंटर बनेंगे वहां की छात्राओं को मिलेगा स्वकेंद्र का लाभ

- बालिका परीक्षार्थियों को जहां स्वकेंद्र/स्थानीय केंद्र की सुविधा न दी जा सके, वहां उन्हें अधिकतम 5 किमी की परिधि में परीक्षा केंद्र दिया जाएगा.

उत्तर प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा परिषद (UP Board) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा-2021 (Board Exams 2021) का आयोजन को लेकर 14 जनवरी को अहम बैठक होने जा रही है. इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेश के डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा करेंगे. माना जा रहा है कि पंचायत चुनाव के बाद बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों को लेकर इसमें चर्चा होंगी.



ये भी पढ़ें-

MHT CET 2020: B.Tech, B. Pharma कोर्स के लिए प्रोवीजनल मेरिट लिस्ट mahacet.org पर जारी

बिहार स्टेट हेल्थ सोसाइटी रिक्रूटमेंट 2020: 4102 स्टाफ नर्स वैकेंसी के लिए एप्लीकेशन शुरू 

जानकारी के अनुसार बोर्ड परीक्षा के लिए पंचायत चुनाव के प्रस्तावित कार्यक्रम का इंतजार किया जा रहा है. कारण ये है कि कई ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों का इस्तेमाल पंचायत चुनाव में मतदान केंद्र की तरह होना है. यही नहीं टीचरों की भी इन चुनावों में ड्यूटी लगाई जाएगी, ऐसे में पंचायत चुनाव के बाद ही परीक्षा हो सकती है.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज