12th Board Exams 2021: 12वीं की बोर्ड परीक्षा के बारे में विभिन्न राज्यों के निर्णय

राज्य में कोविड संक्रमण के ज़्यादा बढ़ जाने के कारण सरकार 2021 के लिए सिर्फ तीन मुख्य विषयों में 12वीं की परीक्षा आयोजित करना चाहती है. बहुत संभव है कि यह परीक्षा जून में आयोजित हों.

राज्य में कोविड संक्रमण के ज़्यादा बढ़ जाने के कारण सरकार 2021 के लिए सिर्फ तीन मुख्य विषयों में 12वीं की परीक्षा आयोजित करना चाहती है. बहुत संभव है कि यह परीक्षा जून में आयोजित हों.

राज्य में कोविड संक्रमण के ज़्यादा बढ़ जाने के कारण सरकार 2021 के लिए सिर्फ तीन मुख्य विषयों में 12वीं की परीक्षा आयोजित करना चाहती है. बहुत संभव है कि यह परीक्षा जून में आयोजित हों.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश भर में कोरोना वायरस के मामले में बेतहाशा तेज़ी आने के कारण आईसीएसई और सीबीएसई बोर्ड ने 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी है. बच्चों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए ऐसा किया गया है. इसके बाद कई राज्यों के बोर्डों ने अपने यहाँ 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी है. अभी तक राज्यों ने 12वीं की परीक्षा के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया है. इस बारे में विभिन्न राज्यों ने बोर्ड परीक्षा के बारे में क्या निर्णय लिए हैं वह इस तरह से हैं :

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने संकेत दिया है कि एक सप्ताह के भीतर राज्य में 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के बारे में निर्णय ले लिया जाएगा. पहले इस बारे में कोई निर्णय लेने को पहले स्थगित कर दिया गया था. उन्होंने कहा कि छात्रों और अभिभावकों की शारीरिक और मानसिक सुरक्षा को ध्यान में रखकर ही कोई निर्णय लिया जाएगा. महाराष्ट्र सरकार राज्य की 10वीं की बोर्ड परीक्षा पहले ही स्थगित करने की घोषणा कर चुकी है.

उन्होंने सुझाव दिया कि कोरोना महामारी को देखते हुए महाराष्ट्र एसएससी के लिए ‘परीक्षा नहीं लेने के विकल्प’ की तलाश करनी चाहिए. हमारी सबसे बड़ी चिंता बच्चों और उनके परिवारवालों की स्वास्थ्य और मानसिक सुरक्षा होनी चाहिए. महामारी के दौरान बच्चों और उनके अभिभावकों ने बच्चों के परीक्षा देने की बात पर चिंता जतायी है. इस समय महामारी की जो स्थिति है और यह डर कि बच्चे कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के ख़तरों के आमने सामने होंगे, 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए “बिना परीक्षा के विकल्प” पर सक्रियता से ग़ौर किया जाना चाहिए.
गुजरात

गुजरात में 12वीं कक्षा की परीक्षा 1 जुलाई से शुरू होने जा रही है.

कोविड महामारी के बीच 12वीं कक्षा की परीक्षा लेनेवाला गुजरात देश का पहला राज्य बन गया है. इस परीक्षा के लिए 6.83 छात्रों ने पंजीकरण कराया है जो 1 जुलाई से शुरू होगी. इनमें से 1.4 लाख छात्रों ने विज्ञान और 5.33 लाख छात्रों ने आर्ट्स, कॉमर्स विषयों में परीक्षा देने के लिए पंजीकरण कराया है. जो छात्र इस परीक्षा में नहीं बैठेंगे उन्हें 25 दिनों के बाद यह परीक्षा दुबारा देने का मौक़ा मिलेगा. इस परीक्षा में कोविड के दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा. परीक्षा के बारे में विस्तृत ब्योरा बाद में घोषित होगा.



मुख्य बिंदु

हर परीक्षा कक्ष में 20 छात्रों को बैठाया जाएगा.

सभी कक्षा में CCTV कैमरे लगाए जाएंगे.

100 अंकों की परीक्षा के लिए 3 घंटे का समय मिलेगा.

विज्ञान विषय में 50 अंकों का MCQ होगा और 50 अंकों के विवरणात्मक प्रश्न पूछे जाएंगे.

आर्ट्स और कॉमर्स विषयों में 100 अंकों के विवरणात्मक प्रश्न पूछे जाएंगे.

बंगाल

बंगाल के माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक कक्षा के छात्र कुछ राहत की उम्मीद कर सकते हैं क्योंकि केंद्र सरकार से सलाह मशविरा करने के बाद राज्य सरकार जून के प्रथम सप्ताह में इस बारे में कोई घोषणा करेगी. माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक को रद्द नहीं किया जा रहा है. इन दोनों ही परीक्षाओं की तिथियों की घोषणा कोरोना के नियंत्रण में आ जाने के तुरंत बाद की जाएगी. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ इस मामले पर बातचीत की जाएगी. पश्चिम बंगाल उच्च्तर शिक्षा परिषद और पश्चिम बंगाल माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने अपने-अपने प्रस्ताव सरकार को सौंप दिए हैं.

सूत्रों के अनुसार, माध्यमिक बोर्ड ने सुझाव दिया है कि परीक्षा को रद्द करने के बजाय इसका आयोजन तब किया जाए जब हालात सामान्य हो जाते हैं. दूसरा विकल्प यह है कि परीक्षा के व्यापाक कार्यक्रम में फेरबदल किया जाए और कम अंकों की परीक्षा ली जाए. तीसरा सुझाव यह है कि प्रश्नपत्र ऑनलाइन भेजा जाए ताकि छात्र घर से ही परीक्षा दे सकें. हालाँकि, महामारी की स्थिति के कारण राज्य सरकार ने अगली सूचना तक परीक्षा को स्थगित कर दिया है. पहले घोषित कार्यक्रम के अनुसार पश्चिम बंगाल माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (WBSSE) की माध्यमिक परीक्षा 1 जून से शुरू होनेवाली थी और पश्चिम बंगाल उच्च्तर माध्यमिक शिक्षा परिषद (WBCHSE) की परीक्षा 15 जून से होनेवाली थी.

असम

असम उच्च्तर माध्यमिक शिक्षा परिषद के अनुसार, 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के कार्यक्रमों की घोषणा शीघ्र ही की जाएगी और उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन सीबीएसई के तरीक़े के अनुसार होगा. HSLC और HS दोनों ही परीक्षाओं का आयोजन तब होगा जब महामारी नियंत्रण में होगा. पहले यह कहा गया था कि कोविड की स्थिति के नियंत्रण में आने के 15 दिनों के बाद परीक्षाएँ ली जाएँगी. इस बारे में विस्तृत और अंतिम घोषणा शीघ्र की जाएगी.

तमिलनाडु

राज्य में 10वीं की परीक्षा को रद्द कर दिया गया है और छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर परीक्षा में सफल-असफल घोषित किया जाएगा.

तमिलनाडु राज्य सरकार ने 12वीं की परीक्षा के बारे में केंद्रीय मंत्रियों और राज्य के शिक्षा मंत्रियों की बैठक में संकेत दिया कि 12वीं की परीक्षा के बारे में उस समय की स्थिति को ध्यान में रखकर निर्णय लिया जाएगा. परीक्षा किस तरह से ली जाएगी और परीक्षा का तरीक़ा क्या होगा इस बारे में राज्य प्रशासन को अभी निर्णय लेना है.

पंजाब

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (PSEB) ने 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी है. इन परीक्षाओं के परिणाम पीएसईबी के आधिकारिक वेबसाइट पर घोषित किए गए थे. राज्य में कक्षा 12वीं की परीक्षा को स्थगित किया जा चुका है.

राज्य में कोविड संक्रमण के ज़्यादा बढ़ जाने के कारण सरकार 2021 के लिए सिर्फ तीन मुख्य विषयों में 12वीं की परीक्षा आयोजित करना चाहती है. बहुत संभव है कि यह परीक्षा जून में आयोजित हों.

पीएसईबी मंत्री विजय इंदर सिंगला ने मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार को चाहिए कि वह सभी राज्यों में लोगों को आवश्यक रूप से कोविड का टीका लगाए और इसके बाद ही कक्षा 12 की परीक्षा के बारे में कोई निर्णय करे.

ये भी पढ़ें-

JEE Advanced Postponed: जेईई एडवांस 2021 स्थगित, 3 जुलाई को होनी थी परीक्षा

CBSE 12th Board Exam : 12वीं की परीक्षा घर से देने सहित इन विकल्पों की मांग, शिक्षा मंत्री को सौंपा पत्र

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज