इन विश्वविद्यालयों में आदिवासी बच्चों के विकास के लिए शुरू होंगे 4 नये पाठ्यक्रम, देखें डिटेल

2 कोर्स एमए - एमएससी क्लिनिकल साइकोलॉजी तथा मानव चेतना एवं योग विज्ञान के रूप में रहेंगे तथा दो पाठ्यक्रम सर्टिफिकेट कोर्स के रहेंगे. जिसमें योग और अल्टरनेटिव थेरेपी तथा हॉलिस्टिक हेल्थ मैनेजमेंट के रूप में छह छह महीने के होंगे.

2 कोर्स एमए - एमएससी क्लिनिकल साइकोलॉजी तथा मानव चेतना एवं योग विज्ञान के रूप में रहेंगे तथा दो पाठ्यक्रम सर्टिफिकेट कोर्स के रहेंगे. जिसमें योग और अल्टरनेटिव थेरेपी तथा हॉलिस्टिक हेल्थ मैनेजमेंट के रूप में छह छह महीने के होंगे.

2 कोर्स एमए - एमएससी क्लिनिकल साइकोलॉजी तथा मानव चेतना एवं योग विज्ञान के रूप में रहेंगे तथा दो पाठ्यक्रम सर्टिफिकेट कोर्स के रहेंगे. जिसमें योग और अल्टरनेटिव थेरेपी तथा हॉलिस्टिक हेल्थ मैनेजमेंट के रूप में छह छह महीने के होंगे.

  • Last Updated: April 6, 2021, 2:08 PM IST
  • Share this:
उदयपुर. मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय तथा योग के प्रसिद्ध देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के मध्य शैक्षणिक गतिविधियों के उन्नयन, योग विज्ञान, योग चिकित्सा, भारतीय संस्कृति, भारत की विरासत, पर्यटन, प्रबंधन, कृषि विकास, पर्यावरण, समग्र स्वास्थ्य, आदिवासी व जनजातीय रोजगार - स्वाबलंबन तथा आयुर्वेद के ज्ञान विज्ञान के विकास इत्यादि विषयों पर सहयोग के लिए एक एमओयू किया गया है.

विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डॉ कुंजन आचार्य ने बताया कि इस एमओयू पर मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अमेरिका सिंह एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ प्रणव पंड्या ने आपसी सहमति के हस्ताक्षर किए.

कुलपति प्रो सिंह ने बताया कि देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ शैक्षणिक आदान-प्रदान को लेकर विस्तार से चर्चा हुई. दोनो विश्वविद्यालय अपने-अपने क्षेत्र के आदिवासी बच्चों के विकास के लिए एवं उनके रोजगारमुखी कार्यक्रमों के सृजन की दिशा में मिल कर काम करेंगे. उन्होंने बताया कि बच्चों को कुशल और स्वावलंबी बनाने के लिए दोनों विश्वविद्यालय आपस में चर्चा करके बच्चों के आपसी यात्रा कार्यक्रमो के जरिये कुछ नए काम शुरु करेंगे, जिसमें आदिवासी बच्चों के विकास के लिए चिंतन किया जाएगा जो दोनों विश्वविद्यालयों के बीच एक सेतु का काम करेगा.



यह एमओयू राजस्थान एवं उत्तराखंड के विद्यार्थियों के लिए मील का पत्थर साबित होगा.दोनों विश्वविद्यालय शिक्षकों, शोधार्थियों तथा विद्यार्थियों का भी आदान-प्रदान करेंगे. योग, टूरिज्म एवं अन्य प्रकार के ज्ञान की परंपरा को उन्नत करेंगे. कुलपति प्रो सिंह ने कहा कि उदयपुर में योग शिक्षा, संस्कृति एवं इतिहास, शिक्षा, कृषि एवं टूरिज्म में यह एमओयू नये आयाम गढेगा तथा आदिवासी क्षेत्रों में रोजगार एवं स्वावलंबन के लिए स्वावलंबन केंद्र की स्थापना करेगा जहां उन्हें निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा.
ये भी पढ़ें-
bihar board bseb 10th matric result 2021: बिहार बोर्ड ने किया स्क्रूटनी की तारीखों का ऐलान, जानें कैसे करें ऑनलाइन आवेदन
Bihar Board 10th Result 2021: 10वीं में फेल हुए छात्र ऐसे हो सकते हैं पास, जानिए पूरा प्रोसेस


देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के प्रति कुलपति डॉ चिन्मय पंड्या ने मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के साथ एमओयू के बाद कहा कि उच्च स्तरीय अनुसंधान एवं रोजगार - स्वावलम्बन पर कार्य करने पर दोनों विश्वविद्यालय एक साथ कार्य करेंगे. आज के समय की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य की समस्या के निदान के लिए मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय में 4 नये पाठ्यक्रम आरंभ करने का निर्णय लिया है.

जिसमें 2 कोर्स एमए - एमएससी क्लिनिकल साइकोलॉजी तथा मानव चेतना एवं योग विज्ञान के रूप में रहेंगे तथा दो पाठ्यक्रम सर्टिफिकेट कोर्स के रहेंगे. जिसमें योग और अल्टरनेटिव थेरेपी तथा हॉलिस्टिक हेल्थ मैनेजमेंट के रूप में छह छह महीने के होंगे. सोमवार को आयोजित कॉउंसिल ऑफ डीन्स की बैठक में इस एमओयू पर सहमति की मुहर लगाई गई.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज