देश के 42 हजार स्कूलों में पीने का पानी,15 हजार में शौचालय की सुविधा नहीं

असम के  1183 स्कूलों में बालिकाओं के लिए नहीं है शौचालय की सुविधा.

असम के 1183 स्कूलों में बालिकाओं के लिए नहीं है शौचालय की सुविधा.

देश के 42 हजार से अधिक स्कूलों में पीने के पानी और 15 हजार में शौचालय की सुविधाएं नहीं हैं. शौचालय और पीने के पानी की सुविधा के मामले में असम की सबसे खराब स्थिति है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 8:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में 42 हजार से अधिक सरकारी स्कूलों की हालत इतनी खराब है कि उसनें बच्चों के लिए पेयजल की सुविधा तक नहीं है. जबकि 15 हजार स्कूलों में शौचालय नहीं है. यह जानकारी केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने राज्यसभा में एक लिखित प्रश्न के जवाब में दी. यह जानकारी उन्होंने एकीकृत जिला सूचना प्रणाली के आंकड़ों के हवाले से दी है.

निशंक ने बताया कि यूडीआईएसआई के अनुसार 2018-19 में देश के 1041327 सरकारी स्कूलों में पेजल की सुविधा थी. 1068726 स्कूलों में शौचालय थे. उन्होंने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को बार बार ये सलाह दी गई है कि गैर सरकारी सहित सभी स्कूलों में बालक और बालिकाओं के लिए अलग-अलग शौचालय होने चाहिए. सभी बच्चों को पीने का पर्याप्त पानी सुनिश्चित होना चाहिए.

बिहार के 4270 स्कूलों में पेयजल की सुविधा  नहीं 

सरकारी आंकड़ों के अनुसार जिन 42074 स्कूलों में पेयजल की सुविधा नहीं है, उनमें सबसे अधिक 8522 स्कूल असम में हैं. आंध्र प्रदेश के 3177, बिहार के 4270, जम्मू-कश्मीर के 2158, मध्य प्रदेश के 5529, झारखंड के 1840, मेघालय के 5208, राजस्थान के 2627, उत्तर प्रदेश के 3368 और पश्चिम बंगाल के 1520 स्कूलों में पेयजल की सुविधा नहीं है.
असम है सबसे ऊपर 

पीने के पानी के साथ बालकों के लिए शौचालय की सुविधा न होने के मामले में भी असम अव्वल है. यहां 13503 स्कूलों में बालकों के लिए शौचालय नहीं है. इसी तरह बिहार के 9471, जम्मू-कश्मीर के 1379, कर्नाटक के 1519, मध्य प्रदेश के 5975, महाराष्ट्र के 1583, मेघालय के 1933, ओडिशा में 2484, राजस्थान में 1061 और पश्चिम बंगाल में 2142 स्कूल शामिल हैं.

बालिकाओं के लिए शौचालय की सुविधा होने के मामले में भी असम सबसे ऊपर है. यहां के 1183 स्कूलों में बालिकाओं के लिए शौचालय नहीं है. इसके बाद बिहार दूसरे स्थान पर है. यहां 8361 स्कलों में बालिकाओं के लिए शौचालय नहीं है. इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में 911, झारखंड में 866, मध्य प्रदेश में 4914, महारष्ट्र में 1063, मेघालय में 2314, ओडिशा में 1238 और पश्चिम बंगाल के 1521 स्कूलों में बालिकाओं के लिए शौचालय की सुविधा नहीं है.



ये भी पढ़ें- 

Jharkhand: विवि और कॉलेजों में कार्यरत घंटी आधारित शिक्षकों की सेवाएं 30 सितंबर तब बढ़ी

India Post GDS Recruitment 2021: भारतीय डाक में 10वीं पास के लिए 2500 से अधिक नौकरियां, जानें डिटेल

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज