NEP के बाद 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं बंद कर देनी चाहिए: सिसोदिया

नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति शुरू होने के बाद 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं बंद कर दी जानी चाहिए.
नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति शुरू होने के बाद 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं बंद कर दी जानी चाहिए.

मौजूदा कक्षा प्रणाली के बजाय जहां एक कक्षा के सभी बच्चे अलग-अलग सीखने के स्तर पर होने के बावजूद सभी विषयों में एक साथ आगे बढ़ते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2020, 12:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को सुझाव दिया कि नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) की शुरुआत होने के बाद कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं बंद कर दी जानी चाहिए. सिसोदिया ने साथ ही यह सुझाव भी दिया कि सरकार को बहु-वर्षीय चरण-वार कक्षाएं और प्रत्येक चरण के अंत में बाहरी मूल्यांकन शुरू करना चाहिए.

मनीष सिसोदिया ने ये सुझाव दिया
उन्होंने यह सुझाव केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' की अध्यक्षता में आयोजित राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) की 57वीं आम परिषद की बैठक के दौरान दिये. इस बैठक में राज्य के शिक्षा मंत्रियों ने हिस्सा लिया.

यह मॉडल अपनी पूर्ण क्षमता प्राप्त कर सकता है
सिसोदिया ने कहा कि एनईपी में ‘5 + 3 + 3 + 4' मॉडल की सिफारिश की गई है और यह मॉडल अपनी पूर्ण क्षमता प्राप्त कर सकता है, यदि मौजूदा एक वर्ष प्रति ग्रेड सिस्टम को हटा दिया जाए.



सीखने के लक्ष्य वाला एक योग्य पाठ्यक्रम
उन्होंने कहा, ‘‘इसका मतलब है, मौजूदा कक्षा प्रणाली के बजाय जिसमें एक कक्षा के सभी बच्चे अलग-अलग सीखने के स्तर पर होने के बावजूद सभी विषयों में एक साथ आगे बढ़ते हैं, बहु-वर्षीय चरण बच्चे को विभिन्न विषयों को सीखने की जरूरत के अनुसार उसकी गति से आगे बढ़ने में मदद करेगा. ज्ञान, कौशल और मूल्यों के संदर्भ में स्पष्ट रूप से उल्लेखित सीखने के लक्ष्य वाला एक योग्य पाठ्यक्रम बनाया जाए.’’

10 + 2 मॉडल में ठीक लेकिन 5 + 3 + 3 + 4 में इसका कोई मतलब नहीं
उन्होंने कहा, ‘‘एनईपी की पूर्ण रूप से शुरुआत के बाद, कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा भी बंद कर दी जानी चाहिए. मौजूदा बोर्ड परीक्षा 10 + 2 मॉडल में तो ठीक है लेकिन 5 + 3 + 3 + 4 में इसका कोई मतलब नहीं. अंतिम चरण में दो बोर्ड परीक्षाएं बरकरार रहने से बच्चों के स्कूली जीवन में पहले तीन चरणों का महत्व कम होगा.’’

उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश परीक्षा आयोजित तो 12वीं बोर्ड की कोई आवश्यकता नहीं
दिल्ली के शिक्षा मंत्री सिसोदिया ने उल्लेख किया कि जब राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) का अधिदेश उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करने का है, तो कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की कोई आवश्यकता नहीं है.

12वीं की बोर्ड परीक्षा अब अधिक महत्वपूर्ण परीक्षा नहीं
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षा अब अधिक महत्वपूर्ण परीक्षा नहीं होनी चाहिए. यह इसके लिए सही समय है कि हम वर्तमान के वर्ष वार कक्षाओं और कक्षा 10वीं और 12वीं में दो बोर्ड परीक्षाओं की जगह बहु-वर्षीय चरण-वार कक्षाएं और प्रत्येक चरण के अंत में बाहरी मूल्यांकन पेश करें.’’

ये भी पढ़ें-
ग्लोबल टीचर प्राइज 2020: महाराष्ट्र का शिक्षक पहुंचा टॉप 10 प्रतिभागियों में
ट्रांसजेंडर समुदाय का पहला बैच,18 सदस्यों ने पास की हायर सेकंडरी परीक्षा 

बच्चे को उसकी गति से विभिन्न विषयों को सीखने की जरूरत
उन्होंने कहा, ‘‘परिवर्तन समग्र होना चाहिए, टुकड़ों में नहीं होना चाहिए. मौजूदा कक्षा प्रणाली के बजाय जहां एक कक्षा के सभी बच्चे अलग-अलग सीखने के स्तर पर होने के बावजूद सभी विषयों में एक साथ आगे बढ़ते हैं, बहु-वर्षीय चरण बच्चे को उसकी गति से विभिन्न विषयों को सीखने की जरूरत के अनुसार आगे बढ़ने में मदद करेगा. हम चरण वार पाठ्यक्रम की सिफारिश करते हैं जिसमें ज्ञान, कौशल और मूल्यों के संदर्भ में स्पष्ट रूप से उल्लेखित लक्ष्य हो.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज