दुनिया के सबसे कम उम्र के प्रोग्राम डेवलपर बने अर्हंम, गिनीज बुक में दर्ज हुआ नाम

अर्हम ने गिनीज बुक में स्थान बनाया है.
अर्हम ने गिनीज बुक में स्थान बनाया है.

अर्हम के पिता ओम तलसानिया खुद एक मल्टी नेशनल कंपनी मैं सॉफ्टवेर डेवलपर हैं.अर्हम के पिता ओम तलसानिया के मुताबिक अर्हम जब दो साल का था तब से ही टेबलेट्स और कम्प्यूटर से इस कदर फैमिलियर था कि मानो वो कुछ और करना चाहता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 5:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया के सबसे कम उम्र के प्रोग्राम डेवलपर बने अर्हंम तलसानिया (Arham Talsania) ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness Book of World Record) में अपना नाम दर्ज करवा लिया. 6 साल की उम्र में पायथन लैंग्वेज मैं प्रोग्राम डेवलपिंग की परीक्षा में 1000 में से 900 मार्क्स लेकर पाकिस्तान मूल के ब्रिटिश नागरिक महमद हमजा का रिकॉर्ड तोड़ा. हमज़ा 7 साल का है जबकि उसने अब तक 700 मार्क्स स्कोर किये थे.

अर्हम के पिता ओम तलसानिया खुद एक मल्टी नेशनल कंपनी में सॉफ्टवेर डेवलपर हैं.अर्हम के पिता ओम तलसानिया के मुताबिक अर्हम जब दो साल का था तब से ही टेबलेट्स और कम्प्यूटर से इस कदर फैमिलियर था कि मानो वो कुछ और करना चाहता है. अर्हम जब 4 साल का था तब उसके पिता ओम ने पायथन लेंग्वेज की कोडिंग की समझ देनी शुरू की और जल्दी ही वो खुद ऐप्स बनाने लगा.

थोड़ी प्रोफेशनल ट्रेनिंग के बाद वो पायथन एक्जाम क्रेक करने की तैयारी करने लगा और इस साल जनवरी मैं उसने माइक्रोसॉफ्ट के सेंटर में यह परीक्षा दी जिसे पास करना बड़े लोगों के लिए भी बेहद मुश्किल है लेकिन अर्हम ने 1000 मे से 900 मार्क्स स्कोर किये. उसके नतीजे के बाद परीक्षा लेने वाले से लेकर सभी हैरान थे. इतनी छोटी उम्र में 'माइक्रोसॉफ्ट टेक्नोलॉजी एसोसिएट्स' के तौर पर पहचाना जाना यह बड़ी बात है.



आखिर इसकी जानकारी माइक्रोसॉफ्ट को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड को दी गयी जिन्होंने आज आधिकारिक तौर पर अर्हम को दुनिया का सबसे कम उम्र के सॉफ्टवेयर डेवलपर के तौर पर नवाजा.
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड का लिंक

अर्हम फिलहाल खुद का एक गेम बना रहे हैं जो 2D और 3D वर्जन में है.अर्हम के मुताबिक वो बड़ा होकर (AI)आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मैं काम करना चाहता है. रोबोट बनाना चाहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज