Home /News /education /

Bihar Matric Exam: 15 जिलों से गिरफ्तार हुए 53 'मुन्ना भाई' कदाचार में भोजपुर टॉप पर

Bihar Matric Exam: 15 जिलों से गिरफ्तार हुए 53 'मुन्ना भाई' कदाचार में भोजपुर टॉप पर

बिहार मैट्रिक परीक्षा के दौरान परीक्षार्थी

बिहार मैट्रिक परीक्षा के दौरान परीक्षार्थी

Bihar Matric Exam: बिहार में मैट्रिक की परीक्षा इस बार विवादों से अछूता नहीं रहा. प्रश्न पत्र लीक होने के कारण जहां एक विषय की परीक्षा को रद्द किया गया है वहीं विपक्ष ने इस मसले को लेकर सरकार से सवाल भी पूछे हैं.

पटना. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) की ओर से आयोजित राज्य की सबसे बड़ी परीक्षा यानी मैट्रिक (Matric Exam 2021) की परीक्षा बुधवार को समाप्त हुई. परीक्षा के अंतिम दिन किसी भी जिले से एक भी परीक्षार्थी कदाचार के आरोप में निष्कासित नहीं हुए जबकि पूरे परीक्षा में राज्य के 25 जिलों से कुल 208 परीक्षार्थी कदाचार के आरोप में निष्कासित हुए. परीक्षा में इस बार सख्ती के बावजूद 15 जिलों से 53 मुन्ना भाई भी गिरफ्तार किए गए जो कि दूसरे परीक्षार्थियों की जगह परीक्षा दे रहे थे.

शुरुआत से ही कदाचार में सबसे अधिक भोजपुर जिला अव्वल रहा और यहां से कुल 48 परीक्षार्थी पूरे परीक्षा में निष्कासित किए गए वहीं नकल के मामले में दूसरे स्थान पर मुंगेर रहा जहां से 24 परीक्षार्थी निष्कासित किए गए. सारण में 20, नालंदा में भी 20 परीक्षार्थी निष्कासित हुए जबकि रोहतास से 13, औरंगाबाद से 11, जमुई 10,वैशाली-10, मधेपुरा से 9 सीवान से 7 गया से 6 सुपौल से 5 समस्तीपुर से 4 पटना 3 सहरसा 3 बेगूसराय 3 ,अरवल 2 सीतामढ़ी 2 और भागलपुर में भी 2 परीक्षार्थी निष्कासित हुए.

बिहार के लखीसराय, बक्सर, पूर्वी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, अररिया इन जिलों में सबसे कम 1-1 परीक्षार्थी नकल करने के आरोप में निष्कासित किये गए. अच्छी बात ये रही कि 13 जिलों में एक भी परीक्षार्थी निष्कासित नहीं किए गए. परीक्षा के सफलता पूर्वक संचालन को लेकर बीएसईबी अध्यक्ष आनंद किशोर ने सभी जिलों के डीएम, एसपी, डीईओ, डीपीओ और सभी विद्यालयों के शिक्षकों को बधाई दी है.

ये भी पढ़ें
Sarkari Naukri :10वीं पास के लिए आरबीआई में नौकरियां, देखें सिलेबस और परीक्षा
BPSC Exam 2021: खनिज विकास अधिकारी परीक्षा की तारीख घोषित, जानें डिटेल

मालूम हो कि इस बार की मैट्रिक परीक्षा फिर से कई सवालों और चर्चों के साथ खत्म हुई क्योंकि बोर्ड के लाख दावों के बाद भी परीक्षा में सोशल साइंस का प्रश्न पत्र लीक हो जाने से सिस्टम की कमियां एक बार फिर से उजागर हुई और. पेपर लीक का मामला विधानसभा सत्र तक गूंजा ऐसे में अब देखना है कि बोर्ड इस बार की परीक्षा से कितना सबक ले पाता है और लीक रोकने के लिए अब क्या व्यवस्था हो पाती है. परीक्षा खत्म होने के बाद अब बोर्ड कॉपियों के मूल्यांकन की तैयारी में जुट गया है और 5 मार्च से 17 मार्च तक कॉपियों का मूल्यांकन होगा.

Tags: Bihar News, Bseb, BSEB EXAM, PATNA NEWS

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर