Bihar Board 10th Result 2021: क्‍या है ऑब्‍जेक्‍ट‍िव और सब्‍जेक्‍टिव व‍िषय में पास होने का न‍ियम? क्‍लीयर करें अपने सारे डाउट

पिछली बार की तुलना में इस बार 10वीं बोर्ड परीक्षा में एक लाख से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल हुए.

पिछली बार की तुलना में इस बार 10वीं बोर्ड परीक्षा में एक लाख से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल हुए.

Sarkari Result 10th 2021 Bihar Board: ऑब्‍जेक्‍ट‍िव और सब्‍जेक्‍टिव सब्‍जेक्‍ट में पास होने का क्‍या न‍ियम होता है? इतना ही नहीं पास‍िंग मार्क्स क्‍या होंगे? और कई छात्रों को डाउट होता है क‍ि अगर पास‍िंग मार्क्‍स नहीं आ सके तो बोर्ड हमें क‍ितने ग्रेस मार्क्‍स देगा ताक‍ि हम पास हो जाए? आपके इन सभी डाउट को हम र‍िजल्‍ट आने के बाद क्‍लीयर कर रहे हैं.

  • Share this:
bseb 10th result bihar board online: ब‍िहार बोर्ड ने 10 का र‍िजल्‍ट जारी कर द‍िया है. इसके साथ ही इस साल परीक्षाओं में बैठे 16 लाख 84 हजार 466 परीक्षार्थी के भव‍िष्‍य का फैसला भी हो गया है, जिसमें से 8 लाख 46 हजार 663 छात्र और 8 लाख 37 हजार 803 छात्राएं शामिल रही थी.

नतीजों के बाद भी 10वीं के छात्रों के मन में हमेशा यह डाउट रहता है क‍ि ऑब्‍जेक्‍ट‍िव और सब्‍जेक्‍टिव सब्‍जेक्‍ट में पास होने का क्‍या न‍ियम होता है? इतना ही नहीं पास‍िंग मार्क्स क्‍या होंगे? और कई छात्रों को डाउट होता है क‍ि अगर पास‍िंग मार्क्‍स नहीं आ सके तो बोर्ड हमें क‍ितने ग्रेस मार्क्‍स देगा ताक‍ि हम पास हो जाए? आपके इन सभी डाउट को आज हम र‍िजल्‍ट के बाद भी दूर कर रहे हैं.

क्‍या है ऑब्‍जेक्‍ट‍िव और सब्‍जेक्‍टिव सब्‍जेक्‍ट में पास होने का न‍ियम?

कई छात्रों को यह कंफ्यूजन होती है कि उन्हें ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव सेक्शन में अलग-अलग पास होना होगा, लेकिन ऐसा नहीं है. ऐसा होने पर एक पेपर में पास होने के लिए आपके उस पेपर में कुल प्राप्तांक ही देखे जाएंगे. अगर कोई विद्यार्थी कंपल्सरी सब्जेक्ट में फेल हो जाता है तो बोर्ड विद्यार्थी द्वारा चुने गए एडिश्नल सब्जेक्ट के मार्क्स को ले लेगा और छात्र को पास कर दिया जाएगा. इतना नहीं नहीं सोशल साइंस और साइंस समेत प्रैक्टिल विषयों में छात्र को थ्योरी और इंटरनल असेसमेंट दोनों में पास होना जरूरी होगा.


ब‍िहार बोर्ड में कितने क्‍या है पास‍िंग मार्क्‍स?

कई बोर्ड में पास‍िंग मार्क्‍स 33 नंबर है पर ब‍िहार में पासिंग मार्क्‍स स‍िर्फ 30 है. यानी क‍िसी छात्र के एक पेपर में 30 मार्क्‍स आते हैं तो उसे पास माना जाएगा. इसल‍िए हर छात्र को पास होने के ल‍िए हर पेपर में कम से कम 30-30 फीसदी मार्क्स लाने अन‍िवार्य हैं. क्‍या होगा अगर क‍िसी छात्र के 30 मार्क्‍स भी ना आएं.



ब‍िहार बोर्ड में क्‍या है ग्रेस मार्क्‍स को लेकर पॉल‍िसी?

बिहार बोर्ड की मैट्रिक की परीक्षा में कोई एक छात्र एक या दो व‍िषय में कुछेक नंबर से फेल हो जाता है तो उसे बोर्ड उसे ग्रेस मार्क्‍स देकर पास कर सकता है. वैसे अभी तक बोर्ड ने इस बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं दी है लेक‍िन आपको बता दें क‍ि प‍िछले साल यानी 2020 में मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में 2 लाख 14 हजार से ज्‍यादा छात्रों को ग्रेस मार्क्‍स देकर पास क‍िया गया था. 10 की परीक्षा में 2 लाख 8 हजार और 147 छात्र एग्‍जाम में एक या दो परीक्षाओं में फेल हुए थे, जिसके बाद 1 लाख 41 हजार 677 छात्रों को ग्रेस मार्क्स देकर पास क‍िया गया था. वहीं कक्षा 12 की परीक्षा में 1 लाख 32 हजार 486 छात्र एक या दो विषयों में फेल हुए थे उनमें से 72 हजार 610 छात्रों को ग्रेस मार्क्‍स देकर पास क‍िया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज