बि‍हार बोर्ड ने ऐसा क्‍या क‍िया क‍ि मैट्रिक के र‍िजल्‍ट में आ गई टॉपर्स की बाढ़? जानें वजह

ब‍िहार बोर्ड के मैट्र‍िक के र‍िजल्‍ट में इस बार टॉपर्स की संख्‍या में अच्‍छा खास इजाफा हुआ है

ब‍िहार बोर्ड के मैट्र‍िक के र‍िजल्‍ट में इस बार टॉपर्स की संख्‍या में अच्‍छा खास इजाफा हुआ है

BSEB 10th result 2021: ब‍िहार बोर्ड के अनुसार, इस साल फर्स्‍ट ड‍िव‍िजन में 4 लाख 13 हजार और 87 परीक्षार्थियों शाम‍िल हुए हैं. जिनमें से सबसे ज्‍यादा दो लाख 47 हजार और 496 केवल छात्र हैं. वहीं सेकेंड ड‍िव‍िजन की बात करें तो इस साल सबसे ज्‍यादा परीक्षार्थी इसमें ही पास हुए हैं. इसमें भी सबसे ज्‍यादा संख्‍या छात्रों की है. वहीं थर्ड ड‍िविजन में इस साल सबसे कम रही है.

  • Share this:

sarkari result 10th 2021 bihar board: ब‍िहार बोर्ड के मैट्र‍िक के र‍िजल्‍ट में इस बार टॉपर्स की संख्‍या में अच्‍छा खास इजाफा हुआ है. साल 2019 में टॉप 15 में जहां 50 छात्र शाम‍िल हुए थे. वहीं 2020 में टॉप 10 में 41 छात्र शाम‍िल हुए थे लेक‍िन 2021 के नतीजों ने सबको हैरान कर द‍िया है. इस साल टॉप 10 में 101 छात्र शाम‍िल हुए हैं. आख‍िर यह कैसे हुआ, ज‍िससे ब‍िहार बोर्ड की मैट्रिक के नतीजों में टॉपर्स की बाढ़ आ गई. तो आपको बता दें क‍ि इसकी वजह है मैट्रिक की परीक्षा पैटर्न में बदलाव.

इस बार बिहार बोर्ड ने मैट्रिक की परीक्षा में विकल्‍प वाले प्रश्‍नों की संख्‍या बढ़ाई थी ज‍िससे कई छात्रों को समान नंबर म‍िले हैं. टॉपर्स के मामले में नंबर 10 पर सबसे ज्‍यादा छात्र रहे. नंबर 10 पोजशन पर 32 छात्र हैं और सभी ने 500 में से 475 अंक हासिल क‍िए हैं. नौवें स्‍थान पर 476 अंक लेकर 17 छात्रों ने इस पोज‍िशन पर कब्‍जा क‍िया. आठवें स्‍थान पर 477 नंबर के साथ 12 छात्रों ने, सातवें स्‍थान पर सात, छठे स्‍थान पर 10, पांचवें पर छह, चौथे पर छह, तीसरे स्‍थान पर एक, दूसरे पर सात और पहले स्‍थान पर तीन छात्र रहे.

इतना ही नहीं टॉप 10 में जगह बनाने वाले छात्रों के नंबर पर एक या दो अंक का ही अंतर है. मीड‍िया रिपोटर्स की माने तो व‍िशेषज्ञों का कहना है क‍ि इस पर ब‍िहार बोर्ड के 100 फीसदी व‍िकल्‍प प्रश्‍न पूछे गए जिससे सभी व‍िषयों के हर चैप्‍टर को कवर क‍िया गया. ऐसे में ज‍िन छात्रों की तैयारी आधी भी थी वह भी सभी सवालों के जवाब दे सके.

इतना ही नहीं वि‍शेषज्ञों का कहना है क‍ि कोरोना के चलते छात्र क‍िसी से पढ़ने के ल‍िए बाहर नहीं जा सके और उन्‍होंने खुद सेल्‍फ स्‍टडी की. यह भी टॉपर्स के बढ़ने की एक वजह मानी जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज