Home /News /education /

jhansi if you want to become a forensic expert then you can take admission in these courses of bundelkhand university

झांसी:-अगर बनना चाहते हैं फॉरेंसिक एक्सपर्ट तो बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के इन कोर्सेज में ले सकते हैं एडमिशन

X

अगर आप फॉरेंसिक एक्सपर्ट बनना चाहते हैं तो बुंदेलखंड विश्वविद्यालय इसमें आपकी मदद कर सकता है.बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के एपीजे अब्दुल कलाम फॉरेंसिक साइंस और क्रिमिनोलॉजी विभाग में इस विषय से जुड़े कई कोर्सेज चलाए जाते हैं.बुंदेलखंड विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश ?

अधिक पढ़ें ...

    (रिपोर्ट – शाश्वत सिंह)

    अगर आप फॉरेंसिक एक्सपर्ट बनना चाहते हैं तो बुंदेलखंड विश्वविद्यालय इसमें आपकी मदद कर सकता है.बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के एपीजे अब्दुल कलाम फॉरेंसिक साइंस और क्रिमिनोलॉजी विभाग में इस विषय से जुड़े कई कोर्सेज चलाए जाते हैं.बुंदेलखंड विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश के चुनिंदा राज्य विश्वविद्यालयों में से एक है जहां ये कोर्स संचालित होते हैं.

    क्या है फॉरेंसिक साइंस
    फॉरेंसिक साइंस विज्ञान के अंदर आने वाला एक क्षेत्र है.यह केमिस्ट्री, बायोलॉजी, फिजिक्स और गणित को मिलाकर बनाया गया है.फॉरेंसिक साइंस की मदद से अपराध से जुड़े सबूतों की जांच पड़ताल की जाती है.वर्तमान समय में अपराध के पेचीदा मामलों को सुलझाने के लिए फॉरेंसिक साइंस बहुत कारगर साबित होती है.

    इन कोर्सेज में ले सकते हैं एडमिशन
    बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के फॉरेंसिक साइंस विभाग में बीएससी ऑनर्स (फॉरेंसिक साइंस),एमएससी (फॉरेंसिक साइंस),पीजी डिप्लोमा इन फॉरेंसिक साइंस कोर्स संचालित किए जाते हैं.इसके अलावा यहां से फॉरेंसिक साइंस में पीएचडी भी करवाई जाती है.

    इस प्रकार ले सकते हैं प्रवेश
    बीएससी ऑनर्स फॉरेंसिक साइंस मेंइंटर पास छात्र-छात्राएं डायरेक्ट एडमिशन ले सकते हैं.एडमिशन मेरिट के आधार पर दिया जाता है. साइंस स्ट्रीम से 50 प्रतिशत अंकों के साथ पास होना अनिवार्य है.एमएससी (फॉरेंसिक साइंस) में एडमिशन प्रवेश परीक्षा के आधार पर होता है.पीजी डिप्लोमा इन फॉरेंसिक साइंस में किसी भी विषय से 50 प्रतिशत अंकों के साथ ग्रेजुएट व्यक्ति प्रवेश ले सकता है.

    यह है कोर्स सिस्टम
    पूर्व में बीएससी ऑनर्स (फॉरेंसिक साइंस) कोर्स वार्षिक प्रणाली के आधार पर चलाया जाता था.एमएससी (फॉरेंसिक साइंस),पीजी डिप्लोमा इन फॉरेंसिक साइंस कोर्स सेमेस्टर प्रणाली पर संचालित होते थे.लेकिन, नई शिक्षा नीति 2022 के अनुसार इस सत्र से सभी कोर्सेज सेमेस्टर प्रणाली के आधार पर चलाए जाएंगे.इसके साथ ही सीबीसीएस सिस्टम भी फॉलो किया जाएगा.

    फीस तथा सीटें
    बीएससी ऑनर्स (फॉरेंसिक साइंस) की फीस 29 हजार 700 रुपए प्रति वर्ष है.इसमें 120 सीटें हैं.एमएससी (फॉरेंसिक साइंस) की फीस 59 हजार रुपए प्रति वर्ष है इसमें 40 सीटें हैं.पीजी डिप्लोमा इन फॉरेंसिक साइंस की फीस 18 हजार रुपए है.डिप्लोमा में भी 40 सीटें हैं.सभी सीटों पर सरकार द्वारा तय किए गए मानकों के अनुसार आरक्षण भी लागू होता है.

    बना सकते हैं अच्छा भविष्य
    विभागाध्यक्ष डॉ अनु सिंगला ने बताया कि फॉरेंसिक साइंस आज के समय की जरूरत बन चुका है.पुलिस विभाग,सीबीआई तथा न्यायिक प्रक्रिया को तथ्यात्मक मजबूर बनाने के लिए तमाम एजेंसियों में फॉरेंसिक एक्सपर्ट की जरूरत पड़ती है.इस कोर्स में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी को जल्द ही सरकारी नौकरी मिलने की भी संभवनाएं रहती हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर