• Home
  • »
  • News
  • »
  • education
  • »
  • CBSE Sample Paper : सीबीएसई 10वीं, 12वीं के सैंपल पेपर से छात्रों को ये कन्फ्यूजन

CBSE Sample Paper : सीबीएसई 10वीं, 12वीं के सैंपल पेपर से छात्रों को ये कन्फ्यूजन

CBSE Sample Paper : सीबीएसई ने कहा था कि प्रत्येक प्रश्न एक अंक का होगा.

CBSE Sample Paper : सीबीएसई ने कहा था कि प्रत्येक प्रश्न एक अंक का होगा.

CBSE Sample Paper : सीबीएसई 10वीं और 12वीं की टर्म-1 परीक्षा में कई विषयों के सैंपल पेपर में 40 से अधिक प्रश्न हैं. जिसकी वजह से कन्फ्यूजन हो रहा है कि संबंधित विषय का पेपर कितने पूर्णांक का होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. CBSE Sample Paper : सीबीएसई द्वारा 10वीं और 12वीं के टर्म-1 एग्जाम के लिए सैंपल पेपर और मार्किंग स्कीम जारी की जा चुकी है. छात्र और शिक्षक सीबीएसई की वेबसाइट से इसे डाउनलोड कर सकते हैं. यह सैंपल जारी करने का मकसद नवंबर-दिसंबर में होने वाली टर्म-1 परीक्षा के पैटर्न और मार्किंग स्कीम को लेकर स्पष्टता प्रदान करना है. सीबीएसई ने इससे पहले छात्रों और शिक्षकों की मदद के लिए स्टडी प्लान भी जारी किया था. लेकिन जारी किए सैंपल पेपर से स्पष्टता की बजाए कन्फ्यूजन क्रिएट हो रहा है. 10वीं और 12वीं के कई विषयों के सैंपल पेपर में 40 से अधिक बहुविकल्पीय प्रश्न दिए गए हैं. पिछले साल तक ऑब्जेक्टिव सेक्शन में एक-एक अंक के ही बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जा रहे थे.

    दरअसल, सीबीएसई ने ही जुलाई महीने में सर्कुलर जारी करके बताया था कि टर्म-1 और टर्म-2 दोनों में प्रत्येक पेपर 40-40 अंकों के होंगे. ऐसे में ज्यादा बहुविकल्पीय प्रश्न होने की वजह से कई पेपर 40 अंक से अधिक के हो जा रहे हैं. कई विषयों में ये निर्देश दिए गए हैं कि सभी प्रश्नों के अंक समान हैं. इसलिए यह मानना मुश्किल है कि प्रत्येक वर्ग में बहुविकल्पीय प्रश्न के अंक अलग-अलग होंगे.

    अधिक बहुविकल्पीय प्रश्न देने का क्या मतलब बनाता  है ?

    सीबीएसई विशेषज्ञों द्वारा तीन संभावनाएं सुझाई गई हैं-

    – कुल 40 अंक का ही पेपर रखने के लिए सीबीएसई कुछ विषयों में प्रति प्रश्न एक अंक की बजाए 0.7 और 0.8 अंक के हो सकते हैं.
    – सीबीएसई इस समस्या को सुलझाने के लिए जल्द ही अपडेट दे सकता है.
    – सीबीएसई प्रति प्रश्न एक अंक का वेटेज ही रख सकता है. जिन विषयों में 40 से अधिक प्रश्न हैं उनका टर्म-1 और टर्म-2 मार्क्स ब्रेकडाउन बदल सकता है. यानी टर्म-1 अधिक मार्क्स का हो सकता है टर्म-2 के मुकाबले. लेकिन बोर्ड को इसके बारे में भी स्पष्टीकरण देना होगा.

    ये भी पढ़ें

    JNU Reopen: पीएचडी फाइनल ईयर के छात्रों के लिए कल से खुलेगा जेएनयू, देखें जरुरी गाइडलाइन्स

    National Teacher Award: सम्मानित होने वाले शिक्षक ने किए ये खास काम, पढ़ें डिटेल

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज