CBSE 12th Board Exam : 12वीं की परीक्षा घर से देने सहित इन विकल्पों की मांग, शिक्षा मंत्री को सौंपा पत्र

एसआईओ अपनी मांगों को लेकर शिक्षा मंत्री निशंक को एक पत्र सौंपा है.

एसआईओ अपनी मांगों को लेकर शिक्षा मंत्री निशंक को एक पत्र सौंपा है.

CBSE 12th Board Exam : सीबीएसई के 12वीं की परीक्षा को लेकर स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया ने शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखा है. ऑर्गनाइजेशन ने परीक्षा होम टेस्ट के जरिए कराने या छात्रों को अंतरिक मूल्यांकन के जरिए पास करने का आग्रह किया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (SIO) ने केंद्र सरकार से सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा भौतिक रूप से आयोजित नहीं करने का आग्रह किया है. ऑर्गनाइजेशन ने सरकार से आंतरिक मूल्यांकन या होम टेस्ट जैसे अन्य तरीके खोजने का आग्रह किया है. एसआईओ ने सीबीएसई से पहले भी बोर्ड परीक्षाएं रद्द करके छात्रों को आंतरिक और सतत व्यापक मूल्यांकन (सीसीई) के आधार पर प्रमोट करने का आग्रह किया था. बोर्ड ने 10वीं की परीक्षाओं के लिए इस मांग को मान लिया था, लेकिन 12वीं की परीक्षा को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है.

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को सौंपे गए ताजा पत्र में एसआईओ ने यह मांग दोहराई है. हालाँकि, यह देखते हुए कि बोर्ड परीक्षाओं को पूर्ण रूप से रद्द करना अधिकांश राज्य सरकारों को स्वीकार्य नहीं होगा, क्यूंकि हाल ही में राज्य सरकार के प्रतिनिधियों की अनिर्णीत बैठक में यह स्पष्ट हो चुका है, संगठन ने परीक्षा आयोजित करने के वैकल्पिक तरीकों को भी सामने रखा है.्र

ओपन बुक परीक्षा की जाए आयोजित 

एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद सलमान अहमद ने अपने पत्र में कहा है कि किसी कारणवश बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं, तो हमारा सुझाव है कि परीक्षा एक खुली किताब और घर बैठे परीक्षा के आधार पर ली जानी चाहिए. प्रश्न पत्र और उत्तर पुस्तिका छात्रों को उनके घरों पर उपलब्ध कराई जा सकती हैं, साथ ही परीक्षा पूरी करने और उत्तर पुस्तिका परीक्षा केंद्र में वापस जमा कराने के लिए पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए. साथ ही परीक्षाओं को चुनिंदा विषयों तक ही सीमित करने के सुझाव पर भी विचार किया जाना चाहिए, ताकि छात्रों का बोझ कम हो सके. ऐसे परिदृश्य में छात्रों को अपनी पसंद के कम से कम तीन विषयों का चयन करने की अनुमति दी जानी चाहिए.
कोरोना संक्रमण फैलने का है डर 

सलमान अहमद ने कहा, "हम मानते हैं कि यह ज़रूरी है कि किसी भी परिस्थिति में परीक्षा केंद्रों पर भौतिक परीक्षा न हो. प्रस्तावित सुरक्षा सावधानियों के बावजूद, छात्रों, शिक्षकों और संबंधित कर्मचारियों को इतनी बड़ी संख्या में इकट्ठा करना सामूहिक स्वास्थ्य के लिए बहुत अधिक जोखिम पैदा कर सकता है. और न केवल प्रक्रिया में शामिल प्रत्येक व्यक्ति बल्कि आम जनता के लिए भी खतरा पैदा हो सकता है."

ये भी पढ़ें- 



Gujarat Board Exam 2021: गुजरात में 12वीं की बोर्ड परीक्षा की डेट घोषित, पेपर पैटर्न में किए गए ये बदलाव

AFCAT-2 2021: एयरफोर्स कॉमन एडमिशन टेस्‍ट के ल‍िये इस दिन से शुरू होगी ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, रहें तैयार

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज