• Home
  • »
  • News
  • »
  • education
  • »
  • जो काउंसिलिंग में शामिल नहीं हो सके, इस राज्य में उन्हें सरकार दिलाएगी मेडिकल कॉलेजों में दाखिला

जो काउंसिलिंग में शामिल नहीं हो सके, इस राज्य में उन्हें सरकार दिलाएगी मेडिकल कॉलेजों में दाखिला

सांकेतिक तस्वीर.

सांकेतिक तस्वीर.

दंतेवाड़ा जिले के 27 छात्र-छात्राओं ने नीट परीक्षा पास की थी लेकिन नेटवर्क की परेशानी के कारण प्रथम काउंसलिंग में उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हो सका था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ में नीट परीक्षा में सफल छात्र, जो दूरस्थ अंचलों के नेटवर्क में परेशानी के कारण काउंसिलिंग में शामिल नहीं हो सके थे, उन्हें राज्य सरकार ने मेडिकल कालेज में प्रवेश दिलाने का फैसला किया है.

    जहां नेटवर्क की कमी के कारणों से छात्र-छात्राएं काउंसलिंग के लिए पंजीयन नहीं करा सके
    राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य के दूरस्थ इलाके जहां नेटवर्क और अन्य तकनीकी कारणों से नीट परीक्षा पास करने वाले छात्र-छात्राएं जो काउंसलिंग के लिए निर्धारित समय पर अपना पंजीयन नहीं करा सके थे, उन्हें अब राज्य के निजी मेडिकल कॉलेजों में पेमेंट सीट पर प्रवेश दिलाने का निर्देश दिया है. इसका खर्च राज्य सरकार वहन करेगी.

    एमबीबीएस में दाखिले के लिए जिला प्रशासन को निर्देश
    अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने राज्य के दूरस्थ आदिवासी अंचलों के ऐसे सभी होनहार बच्चों का एमबीबीएस में दाखिले के लिए जिला प्रशासन को आवश्यक कार्यवाही करने का निर्देश दिया है.

     दंतेवाड़ा जिले के 27 छात्र-छात्राओं का रजिस्ट्रेशन नहीं हो सका
    उन्होंने बताया कि दंतेवाड़ा जिले के 27 छात्र-छात्राओं ने नीट परीक्षा पास की थी लेकिन नेटवर्क की परेशानी के कारण प्रथम काउंसलिंग में उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हो सका था.

    रजिस्ट्रेशन कराया गया लेकिन छात्र चयन से वंचित रह गए
    अधिकारियों ने बताया कि इस सम्बन्ध में जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन ने अपने स्तर पर पंजीयन कराने का प्रयास किया और राष्ट्रीय स्तर पर द्वितीय काउंसलिंग से पहले इनका रजिस्ट्रेशन कराया गया लेकिन यह छात्र चयन से वंचित रह गए. राज्य में पंजीयन के लिए द्वितीय अवसर नहीं होने से उनका पंजीयन नहीं कराया जा सका.

    दो छात्राएं एमबीबीएस में प्रवेश की पात्रता रखती हैं
    उन्होंने बताया कि प्रथम काउंसलिंग के बाद इनमें से दो छात्राएं पदमा मडे और पीयूषा बेक एमबीबीएस में प्रवेश की पात्रता रखती हैं. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद इन छात्राओं का राज्य के निजी कॉलेजों में दाखिले की कार्यवाही की जा रही है.

    ये भी पढ़ें
    दिल्ली के Govt स्कूलों में TGT, PGT, काउंसलर और स्पेशल एजुकेटर के लिए आवेदन शुरू
    SSC JE 2018 के लिए फाइनल रिजल्ट की तारीख जारी, चेक करें डिटेल

    निजी कॉलेजों की पेमेंट सीट पर दाखिला
    अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि आगे भी यदि इनमें से कोई छात्र कटॉफ के बाद प्रवेश के लिए पात्र पाए जाते हैं तो उन्हें भी निजी कॉलेजों की पेमेंट सीट पर दाखिला दिलाया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज