सरकारी स्कूल के बच्चों को मिलेगी ट्रेनिंग, जिम्मेदारी से कैसे करें सोशल मीडिया का इस्तेमाल

विद्यार्थी यह गुर सीखेंगे कि ऑनलाइन कितनी सूचना साझा करनी है, साइबर खतरों से कैसे निपटना है .
विद्यार्थी यह गुर सीखेंगे कि ऑनलाइन कितनी सूचना साझा करनी है, साइबर खतरों से कैसे निपटना है .

दिल्ली के 13 जिलों के नौवीं से लेकर बारहवीं कक्षा तक के 7.3 लाख विद्यार्थियों को 52 सत्रों के माध्यम से ये सब चीजें सिखायी जाएंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 2:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली सरकार, छावनी बोर्ड और नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद के विद्यालयों के सात लाख से अधिक विद्यार्थी यह गुर सीखेंगे कि ऑनलाइन कितनी सूचना साझा करनी है, साइबर खतरों से कैसे निपटना है . उन्हें ‘सोशल मीडया के जिम्मेदार उपयोग’ की सीख दी जाएगी.

एक महीने तक इस विषय पर ऑनलाइन कक्षाएं
दिल्ली के 1040 विद्यालयों के लिए 23 नवंबर से एक महीने तक इस विषय पर ऑनलाइन कक्षाएं होंगी. ये कक्षाएं कोविड-19 महामारी के दौरान उपकरणों का उपयोग बढ़ जाने और सोशल मीडिया से दो-चार होने की पृष्ठभूमि में हो रही है.

उपनिदेशक (शिक्षा) मोहिंदर पाल ने कहा, आजकल अज्ञात और गुमनाम साइबर दुनिया का खतरा एक कटु सत्य है. सुगमता और निगरानी के अभाव से बच्चे नेट के अनैतिक तत्वों के सामने आ गये हैं.
सोशल मीडिया के जिम्मेदार उपयोग


उन्होंने कहा, 'सोशल मीडिया के जिम्मेदार उपयोग' पर सीरीज से इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार के खतरों और उनसे अपने आप को बचाने के तौर तरीकों के बारे में जानकारी दी जाएगी. बच्चों को इस बारे में बताया जाएगा कि सोशल मीडिया का कैसे उपयोग करना है.

ये भी पढ़ें-
HSSC Staff Nurse CBT: हरियाणा स्टाफ नर्स के पद के लिए परीक्षा तिथि जारी, जानें कब जारी होगा एडमिट कार्ड
डीयू एडमिशन 2020: 18 नवंबर से पीजी कोर्सेज में एडमिशन, स्टूडेंट्स के लिए ये हैं इंस्ट्रक्शन्स

7.3 लाख विद्यार्थियों को 52 सत्रों के माध्यम से मिलेगी ट्रेनिंग
उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों को यह भी सिखाया जाएगा कि डिजिटल रूप से कैसे स्मार्ट बनना है. योजना के अनुसार दिल्ली के 13 जिलों के नौवीं से लेकर बारहवीं कक्षा तक के 7.3 लाख विद्यार्थियों को 52 सत्रों के माध्यम से ये सब चीजें सिखायी जाएंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज