Home /News /education /

dseu joins hands with tihar jail to skill inmates and convicts

Tihar Jail के कैद‍ियों को हुनरमंद बनाने की तैयारी, र‍िहाई के बाद आसानी से म‍िलेगी नौकरी

डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं. (File Photo)

डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं. (File Photo)

Delhi Tihar Jail Prisoners Rehabilitation: त‍िहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद कैद‍ियों को भी अब हुनरमंद बनाने की कवायद की जा रही है. द‍िल्‍ली कौशल एवं उद्यमिता विश्वविद्यालय (DSEU) की ओर से इस साल जुलाई, 2022 से ही नए पाठ्यक्रम की शुरूआत की जाएगी. इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद कैद‍ियों को र‍िहा होने के रोजगार मुहैया हो सकेगा. इस बाबत डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. द‍िल्‍ली की त‍िहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद कैद‍ियों को भी अब हुनरमंद बनाने की कवायद की जा रही है. द‍िल्‍ली कौशल एवं उद्यमिता विश्वविद्यालय (DSEU) की ओर से इस साल जुलाई, 2022 से ही नए पाठ्यक्रम की शुरूआत की जाएगी. इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद कैद‍ियों को र‍िहा होने के रोजगार मुहैया हो सकेगा. इस बाबत डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं. इस पहल से कैदियों (Inmates) के दीर्घकालिक पुनर्वास एवं समाज की मुख्य धारा से जोड़ने में मदद म‍िल सकेगी.

कौशल विश्वविद्यालय, तिहाड़ जेल में विभिन्न कौशल आधारित पाठ्यक्रम शुरू करेगा और पाठ्यक्रम के सफल समापन पर प्रमाण पत्र प्रदान करेगा जो कैदियों को जेल से रिहा होने पर नौकरी हासिल करने के लिए मान्य होगा. यह परिकल्पना की गई है कि कौशल प्रशिक्षण प्रदान होने के बाद कैदियों को जेल से रिहा होने पर उन्हें समाज में सम्मानपूर्वक खुद को स्थापित करने का अवसर प्रदान करेगा.

तिहाड़ की जेल नंबर 7 होगी यासीन मलिक का ठिकाना, इन वजहों से नहीं सौंपा जाएगा कोई काम

विश्वविद्यालय जेल परिसर के भीतर पहचाने गए समूहों के लिए कौशल आधारित पाठ्यक्रम प्रदान करने के लिए प्रशिक्षकों को तैनात करेगा. यह प्रस्तावित है कि मौजूदा कौशल एवं बाजार की आवश्यकताओं का विस्तृत मूल्यांकन पाठ्यक्रम शुरू करने से पहले कैदियों के लिए नया पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा.

डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं. द‍िल्‍ली सरकार, कौशल विश्वविद्यालय, तिहाड़ जेल, त‍िहाड़ जेल कैदी, कैदी, कैद‍ियों का पुनर्वास, डीएसईयू, द‍िल्‍ली समाचार, Delhi Government, Skill University, Delhi Skill University, Tihar Jail, Tihar Jail Prisoners, Prisoners, Prisoners Rehabilitation, DSEU, Inmates, Neharika Vohra, Delhi News

डीएसईयू ने कैदियों के प्रशिक्षण एवं कौशल वृद्धि के लिए तिहाड़ जेल के जेल विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं.

इस अवसर पर विश्विद्यालय की वाइस चांसलर प्रो. नेहारिका वोहरा ने कहा क‍ि हम इसे न केवल एक कौशल प्रोग्राम के रूप में देखते हैं बल्कि यह कैदियों में आत्मसम्मान बढ़ाने में सहायता करेगा. इस पहल के माध्यम से हम कैदियों को रिहा होने पर सम्मानजनक जीवन जीने का दूसरा मौका देना चाहते हैं. कौशल विकास के साथ, हम कैदियों को मूलभूत समर्थन एवं भावनात्मक-मनोवैज्ञानिक कल्याण प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे.

महानिदेशक (कारागार) संदीप गोयल ने तिहाड़ जेल के साथ साझेदारी करने के लिए विश्वविद्यालय को बधाई दी और कहा कि यह समय की आवश्यकता है और इस तरह से एक मजबूत संस्थागत सहयोग के साथ हम दीर्घकालिक सुधार का लक्ष्य रख सकते हैं. हम विभिन्न कौशल पाठ्यक्रमों को जोड़ कर इस प्रोग्राम का विस्तार कर सकते हैं जिससे रिहा होने पर कैदियों को रोजगार मिलेगा. इससे कैदियों को नए सिरे से सम्मानजनक जीवन जीने का मौका मिलेगा.

महानिदेशक (कारागार) संदीप गोयल ने तिहाड़ जेल के साथ साझेदारी करने के लिए विश्वविद्यालय को बधाई दी. द‍िल्‍ली सरकार, कौशल विश्वविद्यालय, तिहाड़ जेल, त‍िहाड़ जेल कैदी, कैदी, कैद‍ियों का पुनर्वास, डीएसईयू, द‍िल्‍ली समाचार, Delhi Government, Skill University, Delhi Skill University, Tihar Jail, Tihar Jail Prisoners, Prisoners, Prisoners Rehabilitation, DSEU, Inmates, Neharika Vohra, Delhi News

महानिदेशक (कारागार) संदीप गोयल ने तिहाड़ जेल के साथ साझेदारी करने के लिए विश्वविद्यालय को बधाई दी.

समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के दौरान मौजूद अतिरिक्त महानिरीक्षक मुकेश प्रसाद ने भी सहयोग की प्रशंसा की और कहा कि सरकारी निकायों के बीच इस तरह का औपचारिक सहयोग प्रोग्राम की दीर्घकालिक स्थिरता के लिए एक स्वागत कदम है. इससे विशेषज्ञता का आदान-प्रदान होगा एवं दिल्ली जेल के कैदियों के ज्ञान वृद्धि एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण के सामान्य हितों को बढ़ावा मिलेगा.

डी.एस.ई.यू. की प्रो वाइस चांसलर प्रो. रिहान खान सूरी ने कहा कि विश्वविद्यालय सभी नामांकित प्रतिभागियों को व्यक्तित्व विकास, उद्यमशीलता पूर्वक मानसिकता, वित्तीय साक्षरता, डिजिटल साक्षरता एवं अंग्रेजी प्रशिक्षण में भी सहयोग करेगा. हम तिहाड़ जेल में मौजूदा कौशल पहल एवं योग्य उम्मीदवारों को प्रमाणित करने की मान्यता पर भी गौर करेंगे.

प्रो वाइस चांसलर प्रो. स्निग्धा पटनायक ने विश्वविद्यालय के ‘फेस-द-वर्ल्ड’ कॉम्पोनेन्ट पर प्रकाश डाला जिसके माध्यम से शिक्षार्थियों के बीच व्यक्तित्व परिवर्तन एवं विकास मानसिकता का नेतृत्व किया जाता है. एम.टी. कॉम, उप. महानिरीक्षक (तिहाड़), राजेश चोपड़ा, उप. महानिरीक्षक (मंडोली), गुरप्रीत सिंह, अधीक्षक (पीएचक्यू), रश्मि त्यागी, उप. अधीक्षक (पीएचक्यू), अश्विनी कंसल, रजिस्ट्रार, डी.एस.ई.यू. एवं दीपक दहिया, उप रजिस्ट्रार भी हस्ताक्षर कार्यक्रम में मौजूद थे.

यूनिवर्स‍िटी का यह भी इरादा है कि चिन्हित समूहों के क्षमता निर्माण के साथ-साथ जेल परिसर के भीतर जेल कर्मचारियों के लिए विशेष कार्यक्रम भी चलाए जा सकते हैं. तिहाड़ में कार्यक्रम जुलाई 2022 से शुरू होने की उम्मीद है.

Tags: Delhi Government, Delhi news, Education news, Prisoners, Tihar jail

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर