Home /News /education /

du teachers salary issue duta took out candle march at cm residence

DU टीचर्स की सैलरी जारी कराने की मांग पर DUTA ने सीएम आवास तक न‍िकाला कैंडल मार्च

दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री आवास पर कैंडल लाइट मार्च न‍िकाला.

दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री आवास पर कैंडल लाइट मार्च न‍िकाला.

DUTA candle march: दिल्ली सरकार के वित्त पोषित 12 कॉलेजों में अनियमित और अपर्याप्त ग्रांट और कॉलेज ऑफ आर्ट को दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) से असम्बद्ध किए जाने के मुद्दे पर आक्रोश जताया है. इसको लेकर बुधवार को दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री आवास पर कैंडल लाइट मार्च न‍िकाला.

अधिक पढ़ें ...

नई द‍िल्‍ली. दिल्ली सरकार के वित्त पोषित 12 कॉलेजों के श‍िक्षकों की सैलरी का मामला लंबे समय से बना हुआ है. दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने एक बार फ‍िर सड़कों पर उतरकर इस मामले को उठाया है. डूटा ने अनियमित और अपर्याप्त ग्रांट और कॉलेज ऑफ आर्ट को दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) से असम्बद्ध किए जाने के मुद्दे पर गहरी नाराजगी जताई है. आज बुधवार को दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री आवास पर कैंडल लाइट मार्च भी न‍िकाला.

इस अवसर पर शिक्षकों को संबोधित करते हुए डूटा अध्यक्ष डा ए के भागी ने कहा कि वेतन शिक्षक का अधिकार है. वेतन को समय पर जारी न करना दिल्ली सरकार (Delhi Government) की अमानवीयता और असंवेदनशीलता को दर्शाता है. डूटा अध्यक्ष के अनुसार अनियमित और अपर्याप्त ग्रांट देना अमानवीय और अवैधानिक है.

DU कॉलेजों में होगी 5 हजार से ज्‍यादा टीचर्स की स्‍थायी न‍ियुक्‍त‍ि! इस कॉलेज ने जारी क‍िए आदेश 

डूटा अध्यक्ष ने मांग की है कि दिल्ली सरकार को तुरंत प्रभाव से ग्रांट जारी करनी चाहिए ताकि 12 पूर्ण वित्त पोषित कॉलेज कर्मचारियों और शिक्षकों का समय पर वेतन, मेडिकल एरियर्स, एल टी सी, चिल्ड्रन एजुकेशन एलाउंस व अन्य सुविधाएं मिल सकें. दिल्ली सरकार से यह भी मांग की गई है कि प्रमोशन और आम रख रखाव के लिए भी समय पर ग्रांट उपलब्ध कराई जाए. आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के आरक्षण को लागू करने के लिए अतिरिक्त सीटें भी उपलब्ध कराई जाएं. अतिरिक्त कर्मचारी और शिक्षण पदों की स्वीकृति भी तुरंत प्रदान की जाए.

डूटा अध्यक्ष डा. भागी ने बताया कि दिल्ली सरकार का दिल्ली यूनिवर्सिटी को पत्र जारी कर कॉनस्टिट्यूएंट कॉलेजों को एफिलिएटेड कॉलेज कहना बताता है कि दिल्ली सरकार इन कॉलेजों की स्थिति को बदलना चाहती है. डूटा अध्यक्ष डा भागी ने बताया कि नियमित और पर्याप्त ग्रांट की समस्या को लेकर उप-राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उप-मुख्यमंत्री सभी से गुहार लगा चुके हैं.

नेता प्रतिपक्ष रामबीर ब‍िधूड़ी तो इस संबंध में लिखित रूप से सरकार से जल्द राहत की मांग कर चुके है. बावजूद इसके राहत न मिलना दिल्ली सरकार के स्तर पर जारी गैर जिम्मेदार रवैये को प्रदर्शित करता है. उन्होंने कहा कि हम इस अनावश्यक राजनीति से प्रेरित होकर वेतन जारी करने में देरी और सरकार के लापरवाह रवैये की कड़ी निंदा करते हैं.

कैंडल लाइट मार्च में दिल्ली सरकार के वित्त पोषित विभिन्न कॉलेजों के शिक्षकों सहित बड़ी संख्या में शिक्षक उपस्थित हुए. डूटा उपाध्यक्ष और अन्य पदाधिकारियों ने भी इस अवसर पर उपस्थित शिक्षकों को संबोधित किया. डूटा उपाध्यक्ष डा. प्रदीप कुमार ने कॉलेज आफ आर्ट को लेकर दिल्ली सरकार की आलोचना की.

Tags: Delhi news, Delhi University, DU, Education news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर