Home /News /education /

Education News: 5 साल में देश में खुले 122 केंद्रीय विद्यालय, फिलहाल सीटों की संख्या बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं: सरकार

Education News: 5 साल में देश में खुले 122 केंद्रीय विद्यालय, फिलहाल सीटों की संख्या बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं: सरकार

Education News 5 साल में देश में 122 केंद्रीय विद्यालय खोले गए हैं.

Education News 5 साल में देश में 122 केंद्रीय विद्यालय खोले गए हैं.

Education News: शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने राज्यसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘‘केवी (केंद्रीय विद्यालयों) में मौजूदा सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए फिलहाल ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है.’’ एक अन्य प्रश्न के उत्तर में प्रधान ने कहा कि पिछले पांच वर्षों के दौरान देश में 122 नए केंद्रीय विद्यालय खोले गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. Education News: केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने बुधवार को केंद्रीय विद्यालयों में सीटों की संख्या बढ़ाने के किसी भी प्रस्ताव की संभावना से इंकार किया है. शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने राज्यसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘‘केवी (केंद्रीय विद्यालयों) में मौजूदा सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए फिलहाल ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है.’’ एक अन्य प्रश्न के उत्तर में प्रधान ने कहा कि पिछले पांच वर्षों के दौरान देश में 122 नए केंद्रीय विद्यालय खोले गए हैं.

    उन्होंने कहा, ‘‘नए केवी खोलना एक सतत प्रक्रिया है. केवी मुख्य रूप से ट्रासफर वाली नौकरी करने वाले केंद्र सरकार के कर्मचारियों के बच्चों की शैक्षिक जरूरतों को पूरा करने के लिए खोले जाते हैं, जिसमें रक्षा और अर्ध-सैन्य कर्मियों, केंद्रीय स्वायत्त निकायों, केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) के लोग शामिल हैं. उन्हें शिक्षा का सामान्य कार्यक्रम प्रदान किया जाता है.’’ (भाषा के इनपुट के साथ)

    ये भी पढ़ें-
    Delhi School: दिल्ली में शुक्रवार से बंद रहेंगे सारे स्कूल, जानें क्यों लिया गया फैसला
    MPhil, PhD कर रहे स्टूडेंट्स को बड़ी राहत, यूजीसी ने बढ़ाई थीसिस जमा करने की लास्ट डेट

    Tags: Education news, School education, School news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर