छत्‍तीसगढ़ के इस सरकारी स्‍कूल में एडम‍िशन के ल‍िए बच्‍चों की लगी है लंबी कतारें, जानें क्‍या खास है इस स्‍कूल में


छत्‍तीसगढ़ के मुंगेली जिले में एक ऐसा शासकीय स्कूल बनकर तैयार हो रहा है, जो आने वाले समय में मुंगेली जिले की पहचान बनेगी

छत्‍तीसगढ़ के मुंगेली जिले में एक ऐसा शासकीय स्कूल बनकर तैयार हो रहा है, जो आने वाले समय में मुंगेली जिले की पहचान बनेगी

Chhattisgarh News: इस सरकारी स्कूल में सभी आधुनिक सुविधाएं हैं. क्लासरूम, स्मार्ट क्लास, लैब कम्पयूटर कक्ष, वाईफाई कैंपस, लाईब्रेरी, खेल मैदान, संगीत क्लास, फूलों का गार्डन, सभी सुविधाओं के साथ सुरक्षित कैंपस इस सरकारी स्कूल में मौजूद है.

  • Share this:
मुंगेली. छत्‍तीसगढ़ के मुंगेली जिले में एक ऐसा शासकीय स्कूल बनकर तैयार हो रहा है, जो आने वाले समय में मुंगेली जिले की पहचान बनेगा और यहां के शिक्षा के स्तर काफी ऊंचाइयों पर लेकर जाएगा. मुंगेली नगर में करोड़ों रुपये की लागत से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल बनकर तैयार है. ये शासकीय सभी निजी स्कूलों से कहीं ऊपर है और यही कारण है कि इसमें प्रवेश के लिये अब बच्चों की लंबी कतार है. मुंगेली कलेक्टर पी एस एल्मा लगातार इस स्कूल का दौरा करते है और इनकी ही मॉनिटरिंग में इस स्कूल भवन का निर्माण हो रहा है.

कलेक्टर एल्मा ने बताया कि इस सरकारी स्कूल में सभी आधुनिक सुविधाएं है. क्लासरूम, स्मार्ट क्लास, लैब कम्पयूटर कक्ष वाईफाई कैंपस, लाईब्रेरी, खेल मैदान, संगीत क्लास, फूलों का गार्डन, सभी सुविधाओं के साथ सुरक्षित कैंपस इस सरकारी स्कूल में मौजूद है. सौर उर्जा का पैनल लगाया गया है, जिससे यह पूरा परिसर जगमग होगा. इसके साथ ही सबसे महत्वपूर्ण बात सभी विषयों के ल‍िए बेहतरीन योग्य शिक्षकों का चयन किया गया है, जो बच्चों का बेहतर भविष्य गढ़ेंगे.

मुख्यमंत्री के मंशा के स्वरूप इस व‍िद्यालय का निर्माण कराया गया है, जहां उत्तम दर्जे की शिक्षक दी जाएगी. कलेक्टर एल्मा यहां हर छोटी बड़ी चीजों को बहुत ही बारिकी से अवलोकन कर सभी को पूरा करा रहे है, जिससे किसी भी तरह कोई कमी न रहे.

खैरागढ़ यूनिवर्सिटी से आये स्टूडेंट आकर्षक चित्रकारी से इस स्कूल कैंपस को सजाने का काम कर रहे है और शिक्षा से जुड़ी बहुत ही आकर्षक चित्रकारी भी की गई है. वहीं बात करें मुंगेली जिलेवासियों की तो सब में इस स्कूल को लेकर बहुत खुश हैं और सभी इसके लिए मुख्यमंत्री और मुंगेली कलेक्टर की तारीफ कर रहे हैं, क्योंकि पिछड़ा क्षेत्र माने जाने वाले इस जिले में ऐसे स्कूल नहीं है. जिससे बच्चें बेहतर शिक्षा से वंचित रह जाते थे और बहुत कम समय में इतना बड़ा शासकीय स्कूल जो जिले के सबसे बड़ी और सभी शैक्षिक गतिविधियों और सुविधाओं से भरा है. जहां हर मां-बाप चाहेगा कि उसका बच्चा यहीं पढे़.
ये भी पढ़ें-

Railway Recruitment 2021: 10वीं पास के लिए बिना परीक्षा रेलवे में नौकरी का मौका

UPPBPB Recruitment 2021: जेल वार्डर, फायरमैन की पीईटी परीक्षा के लिए केंद्र आवंटित



वाकई बच्चों के सपनों को साकार करने में स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल नए आयाम गढ़ेगा. साथ ही पूरे प्रदेश और देश में ये मिसाल पेश करेगा, क्योंकि महंगे निजी स्कूलों की मोटी फीस भरकर आज हर कोई परेशान है और इस स्कूल के बाद अब उम्मीद जताई जा रही है कि इसी तर्ज पर ब्लाक स्तर पर भी ऐसे स्कूल खोले जाएंगे, जहां पिछडे ग्रामीण इलाकों के बच्चों को भी अच्छी उच्च शिक्षा उपलब्ध कराने में छत्तीसगढ़ सरकार सफल रहेगी.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज