देश में हर साल 25 हजार छात्र लेते हैं अंडर ग्रेजुएट इन एग्रीकल्चर पाठ्यक्रम में दाखिला

कृषि शिक्षा के तहत देश में 11 विषयों पर अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं.

कृषि शिक्षा के तहत देश में 11 विषयों पर अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं.

देश में प्रत्येक साल करीब 25 हजार छात्रों का अंडर ग्रेजुएट इन एग्रीकल्चर पाठ्यक्रम में नामांकन होता है और करीब 23 हजार शिक्षक कृषि शिक्षा से जुड़े हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 8:53 PM IST
  • Share this:

बिरसा कृषि विश्वविद्यालय अंतर्गत कार्यरत कृषि संकाय के अधीन संचालित 6 कॉलेजों में नामांकित नये छात्र–छात्राओं का ओरिएंटेशन कार्यक्रम शुरू हुआ. विवि के सत्र 2020-21 में कृषि संकाय के 6 कॉलेजों में कुल 278 छात्र–छात्राओं ने नामांकन लिया है. इनमें 126 छात्र और 152 छात्राएं शामिल है.

विवि के ग्रेजुएट प्रोग्राम में ये नामांकन झारखंड संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद की अनुशंसा पर की गई है. फर्स्ट फेज में रांची कृषि महाविद्यालय, कांके और कृषि महाविद्यालय और गढ़वा के छात्रों का ऑनलाइन माध्यम से ओरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डीन एग्रीकल्चर डॉ एमएस यादव ने भारत वर्ष में चरणबद्ध तरीके से कृषि शिक्षा के क्षेत्र में विस्तार के बारे में बताया. कहा कि पूरे भारत वर्ष में छात्रों को कृषि शिक्षा में समरूपता के लिए एकसमान सेमेस्टर आधारित कृषि शिक्षा प्रणाली लागू की गयी है.

देश में प्रत्येक साल करीब 25 हजार छात्रों का अंडर ग्रेजुएट इन एग्रीकल्चर पाठ्यक्रम में नामांकन होता है और करीब 23 हजार शिक्षक कृषि शिक्षा से जुड़े हैं. कृषि शिक्षा के तहत देश में 11 विषयों पर अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं. संकाय में कृषि विषय पर 4 और कृषि अभियंत्रण और उद्यान विषय के एक-एक कॉलेज कार्यरत है. कोविड -19 की वजह से जल्द ही नये छात्र–छात्राओं की ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की जाएंगी. मौके पर संकाय के वार्डन डॉ राकेश कुमार ने बताया कि कृषि महाविद्यालयों में पूरी तरह आवासीय शिक्षा प्रणाली का अनुपालन अनिवार्य है. संकाय में छात्रों हेतु 4 और छात्राओं के लिए 5 छात्रावास, मेस, मेडिकल और अन्य सुविधाएं दी जाती है.

ये भी पढ़ें
SSC GD Constable 2021: एसएससी जीडी कॉन्स्टेबल भर्ती आवेदन से पहले जान लें ये 12 जरूरी बातें

NCB Recruitment 2021: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो में भर्ती, 15 अप्रैल लास्ट डेट

सहायक कुलसचिव डॉ शशि किरण तिर्की ने बताया कि चार वर्षीय अंडर ग्रेजुएट प्रोग्राम में कुल आठ सेमेस्टर होते हैं. हर सेमेस्टर छह महीनों का होता. जहां कुल 115 दिनों का कार्य दिवस अनिवार्य होगा. कोर्स के तहत इंटरनल और एक्सटर्नल परीक्षा पैटर्न आधारित होगी. सेमेस्टर की परीक्षा पास करने के बाद ही अगले सेमेस्टर में पंजीयन और 85 प्रतिशत क्लास में उपस्थिति अनिवार्य होगी. छात्रों को आईसीएआर कोटा, सेमेस्टर में सर्वाधिक अंक लेन वाले पांच छात्रों, गरीब वर्गों के छात्रों के लिए और ई-कल्याण में से किसी एक को स्कालरशिप प्रदान किया जायेगा.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज