होम /न्यूज /education /Career Tips: 10वीं के बाद इस तरह चुने एक प्रोफेशनल फील्ड, मिलेगी शानदार नौकरी

Career Tips: 10वीं के बाद इस तरह चुने एक प्रोफेशनल फील्ड, मिलेगी शानदार नौकरी

आर्ट्स एक बेहतरीन स्ट्रीम है. इसमें स्टूडेंट्स की कला को उभरा जाता है.

आर्ट्स एक बेहतरीन स्ट्रीम है. इसमें स्टूडेंट्स की कला को उभरा जाता है.

Professional fields after 10th: ये बहुत महत्वपूर्ण चीज़ है की कोई भी कैंडिडेट 10वीं के बाद कौनसा कोर्स या कौन सी स्ट्रीम ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

अगर कोई कम समय में पढ़कर जल्दी एक अच्छी नौकरी करना चाहते हैं तो आईटीआई कोर्स कर सकते हैं.
जो स्टूडेंट इंजीनियरिंग करने में रूचि रखते हैं, उनके लिए पॉलिटेक्निक एक तरह का डिप्लोमा कोर्स है.
आर्ट्स एक बेहतरीन स्ट्रीम है. इसमें स्टूडेंट्स की कला को उभरा जाता है.

नई दिल्ली. Professional fields after 10th: 10वीं पास करने के बाद हर कोई स्टूडेंट ये सोचता हैं की ऐसा कौन सा ऐसा प्रोफेशनल कोर्स है जिसमे उनका करियर आसमान छू सकता है. वैसे तो कैंडिडेट्स को वही ऑप्शन चूज करना चाहिए जिसमे उनकी रूचि हो लेकिन कई बच्चे इस चीज़ में भी कंफ्यूज हो जाते है. 10वीं के बाद बहुत से ऐसे ऑप्शन हैं जो करने के बाद उनका करियर एक शानदार रूप ले सकता है.

ये बहुत अहम चीज़ है की कोई कैंडिडेट 10वीं के बाद कौनसा कोर्स या कैसी स्ट्रीम चुनता है. 10वीं के बाद चुना गया ऑप्शन उनका पूरा करियर तय करता है. हर स्ट्रीम का अपना अपना उदेश्य है. आइये जानते हैं किस तरह अपने लिए एक अच्छे करियर ऑप्शन या प्रोफेशनल कोर्स का चयन करना होगा.


1. साइंस स्ट्रीम
हर साल लाखों बच्चो की 10 वीं के बाद पहली पसंद साइंस स्ट्रीम होती है. अगर कोई कैंडिडेट आगे चलकर डॉक्टर या इंजीनियर बनना चाहता है तो उन्हें साइंस फ़ील्ड चुननी होगी. साइंस का सिलेबस भले ही थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन इसके बाद एक शानदार करियर बना पाएंगे.
PCM (फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स) – नॉन मेडिकल
PCB (फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी) – मेडिकल
General Group (PCMB): फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, मैथ्स

10वीं के बाद अगर किसी को मेडिकल फ़ील्ड जैसे- MBBS, BHMS, BAMS, D.Pharmacy और B.Pharmacy में जाना है. तो वो मेडिकल PCB ग्रुप चुन सकते हैं. वहीं इंजीनियरिंग के लिए PCM ग्रुप. और अगर कोई कैंडिडेट दोनों ही फील्ड को ऑप्शन में लेकर चलते हैं तो वो जनरल ग्रुप PCMB चुन सकते हैं.

2. कॉमर्स स्ट्रीम
अगर किसी कैंडिडेट को बिज़नेस, फाइनांस और एकाउंट्स से जुडी फील्ड में जाना है तो वो कॉमर्स स्ट्रीम चुन सकते हैं. अगर कोई कैंडिडेट CA बनना चाहता है तो उनके लिए कॉमर्स फ़ील्ड बेस्ट है.

1. एकाउंटिंग
2. बिज़नेस स्टडीज
3. मैथ्स/इंफॉर्मेटिव प्रैक्टिस (IP)/इकोनॉमिक्स
4. हिंदी एवं इंग्लिश

11वीं और 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम से पास करने के बाद आगे चलकर कैंडिडेट्स B.Com, M.Com, BBA, MBA जैसी कई प्रोफेशनल कोर्स के साथ ग्रेजुएशन और मास्टर्स डिग्री हासिल कर सकते हैं. इसके अलावा वो बैंकिग के एंट्रेंस एग्जाम (IBPS, SBI PO/Clerk) के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं.

3. आर्ट्स स्ट्रीम
आर्ट्स एक बेहतरीन स्ट्रीम है. इसमें स्टूडेंट्स की कला को उभरा जाता है. अगर कोई आर्ट्स की फील्ड में अपना करियर बनाना हैं तो उनके लिए इसमें कई करियर ऑप्शन हैं. जो कैंडिडेट सरकारी नौकरी के लिए कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी करना चाहते हैं, उनके लिए भी ये फील्ड शानदार साबित होता है.

आर्ट्स में आम तौर पर हिस्ट्री, इंग्लिश, जियोग्राफी, साइकोलॉजी, सोशियोलॉजी, इकोनॉमिक्स जैसे सब्जेस्ट्स होते हैं. आर्ट्स से 12वीं पास करने के बाद कैंडिडेट सरकारी नौकरी की तैयारी के अलावा भी कई सारे कोर्स चुन सकते हैं जैसे- होटल मैनेजमेंट एंड इवेंट मैनेजमेंट, फैशन डिज़ाइनिंग, मास कम्यूनिकेशन एंड जर्नलिज्म आदि.

4. पॉलिटेक्निक कोर्सेज
जो स्टूडेंट इंजीनियरिंग करने में रूचि रखते हैं, उनके लिए पॉलिटेक्निक एक तरह का डिप्लोमा कोर्स है. पॉलिटेक्निक एक तरह से इंजीनियरिंग जैसी ही फ़ील्ड होती है. कैंडिडेट्स 10वीं पास करने के बाद पॉलिटेक्निक में आराम से एडमिशन ले सकते है. ये डिप्लोमा कोर्स 3 साल तक की समय सीमा के होते हैं.
1. सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
2. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
3. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
4. कंप्यूटर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
5. केमिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा

यह भी पढ़े: BHEL Sarkari Naukri: BHEL में इन पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, आवेदन प्रक्रिया शुरू, 1.80 लाख मिलेगी सैलरी 

5. आईटीआई (ITI) कोर्स
अगर कोई कम समय में पढ़कर जल्दी एक अच्छी नौकरी करना चाहते हैं तो आईटीआई कोर्स कर सकते हैं. इसमें 1 से 2 साल तक की समय सीमा वाले कोर्स मौजूद हैं.

1. फिटर इंजीनियरिंग – 2 साल
2. डीजल – 1 वर्ष
3. मैन्युफैक्चर फूट वियर – 1 साल
4. टूल एंड डाई मेकर इंजीनियरिंग – 3 साल
5. फ्रूट एंड वेजिटेबल प्रोसेसिंग – 1 साल
6. रेफ्रिजरेशन इंजीनियरिंग – 1 साल
7. पंप ऑपरेटर – 1 साल
8. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग – 1 साल
9. स्टेनो – 1 साल

Tags: Career, Career Guidance, Education, Top 10 career tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें