कोरोना के बीच देश में 30 करोड़ स्टूडेंट्स को ऑनलाइन शिक्षा से जोड़ना दुनिया में एक रिकॉर्ड

30 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन शिक्षा से जोड़ना अपने आप में रिकॉर्ड है.

30 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन शिक्षा से जोड़ना अपने आप में रिकॉर्ड है.

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि भारत स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पेश करने वाला पहला देश होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 4:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस के संकट के कारण उत्पन्न चुनौतियों का मुकाबला करते हुए देश में 30 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को आनलाइन शिक्षा से जोड़ना दुनिया में एक रिकॉर्ड है.

30 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को आनलाइन शिक्षा से जोड़ा

‘नौवें अंतरराष्ट्रीय किशोर सम्मेलन’ को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए निशंक ने कहा, ‘‘ कोरोना वायरस के कारण देश संकट के दौर से गुजर रहा है . ऐसे समय में 30 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को आनलाइन शिक्षा से जोड़ना दुनिया में एक रिकार्ड है. ’’ नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह समानता एवं भारत की जरूरतों पर आधारित है और इसकी प्रकृति राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों है.

नयी शिक्षा नीति की प्रशंसा
उन्होंने कहा कि भारत की नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय ने सराहना की है. दो दिन पहले ही ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने भी नयी शिक्षा नीति की प्रशंसा की .

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के जरिए छात्रों का 360 डिग्री समग्र मूल्यांकन

निशंक ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के जरिए छात्रों का 360 डिग्री समग्र मूल्यांकन होगा और बच्चे अपना मूल्यांकन खुद कर सकेंगे, साथ ही उनके साथी, उनके अध्यापक, उनके अभिभावक भी इसमें शामिल हो सकेंगे.



नई शिक्षा नीति से छात्रों को अन्य क्षेत्रों में भी अवसर मिलेगा

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि भारत स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पेश करने वाला पहला देश होगा. नई शिक्षा नीति ऐसी है कि एक छात्र न केवल पढ़ाई करेगा, बल्कि उसे अन्य क्षेत्रों में भी अवसर मिलेगा.

 12वीं के बाद जब बच्चा निकले तो पूरी तरह से कौशल सम्पन्न हो

उन्होंने कहा कि हम इंटर्नशिप के साथ ही छठी कक्षा से व्यावसायिक शिक्षा लाए हैं . व्यवसायिक शिक्षा के साथ इंटर्नशिप का प्रावधान किया है ताकि 12वीं के बाद जब बच्चा निकले तो पूरी तरह से कौशल सम्पन्न हो.

ये भी पढ़ें-

ICMR JRF आंसर की 2020 icmr.nic.in पर जारी, 20 दिसंबर से पहले दर्ज करें ऑब्जेक्शन

Bye Bye 2020: कोरोना की वजह से भारत में गईं लाखों नौकरियां, जानें क्या है आगे की राह

एनईपी-2020 के लागू होने से विद्यार्थियों को मजबूती मिलेगी

निशंक ने कहा कि नई शिक्षा नीति देश के युवाओं के बौद्धिक विकास के लिए एक नया खाका पेश करती है जिससे वे तेजी से बदलते विश्व की चुनौतियों से निपट सकें. उन्होंने उम्मीद जताई कि एनईपी-2020 के लागू होने से विद्यार्थियों को मजबूती मिलेगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संकल्पना के अनुरूप भारत को एक विकसित, डिजीटल और आत्मनिर्भर देश बनाने का मार्ग प्रशस्त होगा.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज