Home /News /education /

Know Your Army Pride: भारत की ‘प्रतिकार क्षमता’ को आंकने के लिए पाक ने रची थी यह बड़ी साजिश

Know Your Army Pride: भारत की ‘प्रतिकार क्षमता’ को आंकने के लिए पाक ने रची थी यह बड़ी साजिश

India Pakistan War 1965: कच्‍छ की लड़ाई का दोनों पक्षों को कोई बड़ा लाभ नहीं हुआ, लेकिन पाकिस्तान इस साहसिक कार्य से उत्साहित महसूस कर रहा था.

नई दिल्‍ली. अभी तक आपने पढ़ा कि कश्‍मीर पर कब्‍जा करने के लिए पाकिस्‍तान ने तीन साजिशें रची थीं. दरअसल, 1962 में भारत-चीन के बीच हुए युद्ध के नतीजों को देखने के बाद पाकिस्‍तान को यह गलतफहमी हो गई थी कि भारत की सैन्‍य क्षमता और मनोबल पूरी तरह से टूट चुका है. लिहाजा, भारत से कश्‍मीर को सैन्‍य ताकत के बल बड़ी आसानी से छीना जा सकता है. अपने इस मकसद को पूरा करने के लिए पाकिस्‍तान ने ऑपरेशन जिब्राल्‍टर और ऑपरेशन ग्रैंड स्‍लैम के तौर पर एक बड़ी साजिश तैयार की.

हालांकि, इस साजिश को अंजाम देने से पहले पाकिस्‍तान यह परखना चाहता था कि हमला करने की स्थिति में भारतीय सेना कितनी मजबूती से उसका जवाब दे सकती है और यही था भारत के खिलाफ पाकिस्‍तान की साजिश का पहला चरण. इसी पहले चरण को कच्छ का रण के तौर पर पहचाना जाता है. सही मायने में पाकिस्‍तान ने भारत के खिलाफ 1965 के युद्ध का आगाज कच्‍छ के रण से कर दिया था. कच्‍च के रण में मन मुताबिक नतीजे मिलने के बाद पाकिस्‍तान साजिश के दूसरे और तीसरे पड़ाव की तरफ बढ़ गया था.

यह भी पढ़ें: पाक की धरती पर भारतीय सेना का पहला जवाबी हमला, सबसे पहले यहां लहराया था तिरंगा

India Pakistan War 1965 Kutch Sardar Post Kanjarkot Vigokot Biar Bet Kashmir nodakm - Know Your Army Pride: भारत की प्रतिकार क्षमता को आंकने के लिए पाकिस्‍तान ने रची थी यह बड़ी साजिश India Pakistan War 1965, Rann of Kutch, Sardar Post, Kanjarkot, Vigokot, Biar Bet, Jammu and Kashmir, भारत पाकिस्‍तान युद्ध 1965, कच्‍छ का रण, सरदार पोस्‍ट, कंजरकोट, विगोकोट, बियार बेट, जम्‍मू और कश्‍मीर,

कच्‍छ में जनवरी 1965 से ही शुरू हो गई थी पाक की शरारतें
भारत और पाकिस्‍तान की सीमा पर मौजूद कच्‍छ का रण करीब 80 किमी चौड़ा और करीब 515 किमी लंबा है. कच्‍छ के रण में भारत की तरफ से गुजरात का इलाका और पाकिस्‍तान की तरफ से सिंध का इलाका आता है. इस इलाके में भौगोलिक स्थिति पाकिस्‍तान के पक्ष में जाती है. इसी बात को ध्‍यान में रखते हुए पाकिस्‍तान ने अपनी पहली साजिश के लिए कच्‍छ को चुना था. जनवरी 1965 में पाकिस्‍तान ने कंजरकोट के इलाके में पहली बार अपनी बदनीयती दिखाई थी. हालांकि, भारत ने पाकिस्‍तान की बदनीयती को महज एक शरारत मानी थी.

पाकिस्‍तान ने हमला कर भारत की दो चौकियों पर किया कब्‍जा
भारतीय सेना की शक्ति, प्रतिकार क्षमता और रणनीति के स्‍तर को जानने के लिए पाकिस्‍तान ने 7 अप्रैल 1965 को अपनी पहली कार्रवाई की. पाकिस्‍तानी सेना ने इस दिन भारतीय सीमा को लांघकर सरदार पोस्‍ट, कंजरकोट, विगोकोट, बियार बेट, छड बेट सहित कई चौकियों पर हमला बोल दिया और दो भारतीय चौकियों पर कब्‍जा कर दिया. पाकिस्‍तान की इस हरकत को देखते हुए भारतीय सेना के 50 पैरा ब्रिगेड को कच्‍छ के लिए रवाना किया गया. इस बीच, पाकिस्‍तान ने टैंक रेजीमेंट के साथ पूरी ब्रिगेड को रण क्षेत्र में इकट्ठा कर लिया था.

यह भी पढ़ें: Battle of Haji Pir Pass: भारतीय सेना की पहली सर्जिकल स्‍ट्राइक और POK के हाजीपीर दर्रे पर फहराया गया तिरंगा

India Pakistan War 1965 Kutch Sardar Post Kanjarkot Vigokot Biar Bet Kashmir nodakm - Know Your Army Pride: भारत की प्रतिकार क्षमता को आंकने के लिए पाकिस्‍तान ने रची थी यह बड़ी साजिश India Pakistan War 1965, Rann of Kutch, Sardar Post, Kanjarkot, Vigokot, Biar Bet, Jammu and Kashmir, भारत पाकिस्‍तान युद्ध 1965, कच्‍छ का रण, सरदार पोस्‍ट, कंजरकोट, विगोकोट, बियार बेट, जम्‍मू और कश्‍मीर,

16 दिनों के भीतर पाकिस्‍तान ने दो अन्‍य चौकियों पर भी किया कब्‍जा
7 अप्रैल को मिली सफलता के मदमस्‍त पाकिस्‍तान ने महज 16 दिनों के भीतर दूसरे हमले को अंजाम दे दिया. 23 अप्रैल को पाकिस्‍तान ने एक बार फिर चार बार्डर पोस्‍ट पर हमला किया और विगोकोट और वियार बेट चौकी पर भी कब्‍जा कर लिया. 1 जुलाई 1965 को तत्‍कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री के हस्‍तक्षेप के बाद इन चौकियों पर से पाकिस्‍तानी सेना ने अपना कब्‍जा छोड़ दिया. हालांकि, इस पूरी लड़ाई का दोनों पक्षों को कोई बड़ा लाभ नहीं हुआ, लेकिन पाकिस्तान इस साहसिक कार्य से उत्साहित महसूस कर रहा था.

यह भी पढ़ें:
‘स्‍कूली बच्‍चों’ के साथ मिलकर ले. कर्नल मदन ने पाकिस्‍तानी दुश्‍मनों को दी शिकस्‍त
Army Heroes: 13 टैंको को नेस्तनाबूद कर मेजर रॉय ने तोड़ा था पाक सेना का यह बड़ा सपना…

Tags: India pakistan war, India Pakistan war 1965, Indian army, Indian Army Pride, Indian Army Pride Stories

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर