मुख्यमंत्री का क्या होगा निर्णय, झारखंड के 7.34 लाख मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों को है इंतजार

मैट्रिक व इंटरमीडिएट की प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 6 से 25 अप्रैल तक की तिथि निर्धारित कर दिया था.

मैट्रिक व इंटरमीडिएट की प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 6 से 25 अप्रैल तक की तिथि निर्धारित कर दिया था.

जैक ने फरवरी में ही मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा 9 मार्च से ही आयोजित करने का निर्णय लिया था. लेकिन तिथि की घोषणा के साथ ही बहस शुरू हो गई थी.

  • Last Updated: April 15, 2021, 12:42 PM IST
  • Share this:
रांची. भारत में कोरोना संक्रमण का दूसरा लहर शुरू हो गया है. पूरी दुनिया पिछले एक साल से कोरोना से लड़ाई लड़ रहा है. इस बीच विद्यार्थियों का पठन-पाठन बुरी तरह से प्रभावित रहा है. सरकारों के द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई को तवज्जो देते हुए विद्यार्थियों की कोर्स को पूरा करने का प्रयास किया गया है.

मुख्यमंत्री क्या होगा निर्णय

झारखंड के 7.34 लाख मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों को इंतजार है. सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा रद्द व 12वीं की टलने के बाद अब सभी को जैक की मैट्रिक व इंटरमीडिएट की परीक्षाओं पर निर्णय का इंतजार है.

शिक्षा सचिव राजेश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अभी रांची से बाहर हैं.उनके आने के बाद बैठक करके परीक्षा पर निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि परीक्षा को लेकर क्या-क्या विकल्प हो सकता है, हम इसे टटोल रहे हैं. शीघ्र ही निर्णय होगा.  वर्तमान में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए बच्चों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए उचित निर्णय लिया जाएगा.
जैक अध्यक्ष डा. अरविंद प्रसाद सिंह ने कहा कि परीक्षा आयोजन पर सरकार के निर्णय का इंतजार है.

7.34 लाख परीक्षार्थियों को होना है शामिल जैक की मैट्रिक व इंटरमीडिएट की परीक्षा में कुल 7.34 लाख परीक्षार्थियों को शामिल होना है। इसमें मैट्रिक में 4.3 लाख व इंटर में 3.3 लाख हैं.इधर, जैक ने मैट्रिक व इंटरमीडिएट की प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 6 से 25 अप्रैल तक की तिथि निर्धारित कर दिया था. अभी स्कूलों में प्रैक्टिकल परीक्षा चल रही है.

ये भी पढ़ें-



UP Board Exams 2021: कोरोना के बीच कैसे परीक्षा देंगे 56 लाख छात्र!

CBSE Board Exams 2021: सीबीएसई ही नहीं देश के 7 राज्यों में भी बोर्ड परीक्षाएं रद्द

जैक ने फरवरी में ही मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा 9 मार्च से ही आयोजित करने का निर्णय लिया था. लेकिन तिथि की घोषणा के साथ ही बहस शुरू हो गई थी. इसलिए सिलेबस पूरा नहीं हुआ है तो परीक्षा कैसे होगी. जिसके बाद से परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाते हुए मई में कर दी गई थी.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज