अमेरिका, न्यूजीलैंड के शिक्षा मॉडल पर काम रही केजरीवाल सरकार, कहा-लर्निंग फॉर ऑल के नारे के साथ लाएंगे शिक्षा में क्रांति!

दिल्ली का वर्चुअल स्कूल किसी भी नियमित स्कूल के जैसा ही होगा.

दिल्ली का वर्चुअल स्कूल किसी भी नियमित स्कूल के जैसा ही होगा.

दिल्ली सरकार की ओर से वर्ष 2021-22 के बजट में वर्चुअल स्कूल स्थापित करने का प्रस्ताव किया गया था. अब ‍सरकार ने ‍‍दिशा ‍में काम करना शुरू कर ‍दिया है. दिल्ली के डिप्टी सीएम व शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने आला अधिकारियों और शिक्षकों के साथ मीटिंग की. अमरीका और न्यूज़ीलैंड में चल रहे वर्चुअल स्कूल के मॉडल पर चर्चा की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 2, 2021, 11:07 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के पहले दिल्ली मॉडल वर्चुअल स्कूल की रूपरेखा पर चर्चा की गई. दिल्ली सरकार (Delhi Government) की ओर से वर्ष 2021-22 के बजट में वर्चुअल स्कूल स्थापित करने का प्रस्ताव किया गया था. अब ‍सरकार ने ‍‍दिशा ‍में काम करना शुरू कर ‍दिया है. दिल्ली के डिप्टी सीएम व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने आला अधिकारियों और शिक्षकों के साथ मीटिंग की.

अमेरिका (America) और न्यूज़ीलैंड (New Zealand) में चल रहे वर्चुअल स्कूल के मॉडल पर चर्चा की गई. इस दौरान सिसोदिया ने स्कूल प्रिंसिपल, टीचर्स और आई.टी अधिकारियों की एक 6 सदस्यीय कमेटी गठन करने का निर्देश दिया. कमेटी अपने रिसर्च में अन्य वैश्विक मॉडलों का अध्ययन करेगी और एक सप्ताह के भीतर वर्चुअल स्कूल का ब्लूप्रिंट सौंपेगी.

मीटिंग में दिल्ली मॉडल वर्चुअल स्कूल (Delhi Model Virtual School) की विशेषताओं पर चर्चा करते हुए डिप्टी सीएम ने कहा कि दिल्ली का वर्चुअल स्कूल किसी भी अन्य नियमित स्कूल के जैसा ही होगा. 9वीं से 12वीं तक संचालित होने वाले इस स्कूल की एक आईडी होगी. विद्यार्थी इसमें दाखिला लेंगे और उन्हें नामांकन आईडी दिया जाएगा.

ये स्कूल छात्र, शिक्षक, नियमित रूप से चलने वाली टीचिंग-लर्निंग गतिविधियां, आंकलन जैसे शिक्षण के सभी मूलभूत तत्वों से लैस होगा. उन्होंने कहा कि वर्चुअल स्कूल विद्यार्थियों के लिए anywhere living, anytime learning, anytime testing की सहूलियत देगा. इनमें घर से पढ़ने के इच्छुक विद्यार्थियों के अलावा आर्टिस्ट, खिलाड़ी, स्कूल ड्रॉपआउट, युवा आदि शामिल होंगे.
डिप्टी सीएम ने कहा कि पिछले 1 साल के दौरान दिल्ली के शिक्षकों ने टीचिंग-लर्निंग के लिए जिस प्रकार से तकनीकी का बेहतरीन प्रयोग किया वो उल्लेखनीय है. हमारे शिक्षक तकनीकी के बेहतर उपयोग करना सीख गए है. उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान हुए ऑनलाइन टीचिंग-लर्निंग ने दिल्ली में देश के पहले वर्चुअल स्कूल की नींव रखने का काम किया है.

मीटिंग में दिल्ली के शिक्षा निदेशक और शिक्षा सलाहकार के साथ आईटी सचिव, वित्त विभाग के अधिकारी एवं  शिक्षा विभाग के अन्य अधिकारी, टीचर्स और प्रधानाचार्य भी शामिल थे.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज