होम /न्यूज /education /KVS Admissions 2022: क्या है केंद्रीय विद्यालय कक्षा 1 में प्रवेश के लिए आयु विवाद? जानें सरकार का रुख

KVS Admissions 2022: क्या है केंद्रीय विद्यालय कक्षा 1 में प्रवेश के लिए आयु विवाद? जानें सरकार का रुख

KVS Admissions 2022: क्या है केंद्रीय विद्यालय कक्षा 1 में प्रवेश के लिए आयु विवाद

KVS Admissions 2022: क्या है केंद्रीय विद्यालय कक्षा 1 में प्रवेश के लिए आयु विवाद

KVS Admissions 2022: याचिकाकर्ता बच्ची के वकील अशोक अग्रवाल ने दावा किया कि केवीएस ने अचानक से कक्षा-1 में प्रवेश के आय ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. KVS Admissions 2022: केंद्रीय विद्यालयों में अगले शिक्षण सत्र में पहली कक्षा में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु छह वर्ष करने के केंद्रीय विद्यालय संगठन के फैसले का केंद्र सरकार ने दिल्ली उच्च न्यायालय में बचाव किया है. केंद्र के वकील ने न्यायमूर्ति रेखा पल्ली से कहा कि कक्षा-1 में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु छह वर्ष करने का निर्देश राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के अनुरूप है जिसका सभी केंद्रीय विद्यालयों को अनुसरण करना है. वकील ने एनईपी के पैराग्राफ 4.1 की व्याख्या की जो स्कूली शिक्षा के लिए नयी ‘‘5 प्लस 3 प्लस 3 प्लस 4’’ रूपरेखा को अपनाने से संबंधित है.

    दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों के लिहाज से लिये गये फैसले में उनकी कोई भूमिका नहीं है और दिल्ली सरकार के स्कूलों में पहली कक्षा में दाखिले के लिए आयु सीमा 5 से 6 साल है. जिसपर अदालत ने कहा, ‘‘हम समग्र रुख रखेंगे. इसका सभी पर असर पड़ेगा. इस मामले की अगली सुनवाई सोमवार 14 मार्च होगी.’’ बता दें कि न्यायमूर्ति पल्ली ने इस सप्ताह की शुरुआत में याचिका पर केंद्रीय विद्यालय संगठन और केंद्र का रुख पूछा था. जिसके बाद केवीएस ने अदालत में कहा था कि 2020 की राष्ट्रीय शिक्षा नीति का सख्ती से अनुपालन करते हुए आयु मानदंड बदला गया है.

    ये भी पढ़ें-
    UP School Exam: इस तारीख से शुरू होंगी यूपी के परिषदीय स्कूलों में वार्षिक परीक्षाएं, रिजल्ट 31 मार्च तक होगा जारी
    Education News: छात्रवृत्ति परीक्षा का 20 मार्च को होगा आयोजन, हर माह मिलेंगे 1000 रुपये, एडमिट कार्ड जारी

    5 साल की बच्ची की ओर से दायर हुई है याचिका
    याचिकाकर्ता बच्ची यूकेजी की छात्रा है. याचिका में पांच साल की बच्ची की ओर से दावा किया गया है कि आयु मानदंड पहले पांच साल था और इसमें बदलाव से संविधान के अनुच्छेद 14, 21 और 21-ए के तहत याचिकाकर्ता को मिले शिक्षा के अधिकार का उल्लंघन होता है. इसके साथ ही दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम, 1973 और बच्चों को निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा अधिकार अधिनियम, 2009 के प्रावधानों का भी उल्लंघन होता है. याचिकाकर्ता बच्ची के वकील अशोक अग्रवाल ने दावा किया कि केवीएस ने अचानक से कक्षा-1 में प्रवेश के आयु मानदंड को बढ़ाकर छह साल कर दिया और पिछले महीने प्रवेश प्रक्रिया शुरू होने से महज चार दिन पहले केंद्रीय विद्यालयों में प्रवेश के लिए उनके पोर्टल पर दिशानिर्देश डाले गये. याचिका में इस बदलाव को मनमाना, भेदभावपूर्ण, अनुचित और अतर्कसंगत कहा गया है.

    Tags: Admission Guidelines, School Admission, School education

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें