अपना शहर चुनें

States

Madhya Pradesh Universities Village Adoption Scheme 2021: मध्य प्रदेश में सभी प्राइवेट-सरकारी कॉलेज और विश्वविद्यालय गांवों को लेंगे गोद, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

अब मध्य प्रदेश के सभी कॉलेज और विश्वविद्यालयों को गांवों को लेना होगा गोद.
अब मध्य प्रदेश के सभी कॉलेज और विश्वविद्यालयों को गांवों को लेना होगा गोद.

इसके तहत प्रदेश के सभी प्राइवेट एवं सरकारी कॉलेज और विश्वविद्यालय अब अपने कैंपस के पास बसे गांवों को गोद लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 4:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. Madhya Pradesh Universities Village Adoption Scheme 2021: मध्यप्रदेश सरकार ने पिछड़े गांवों की तरक्की के लिए एक शानदार ढांचा तैयार किया है. इसके तहत प्रदेश के सभी प्राइवेट एवं सरकारी कॉलेज और विश्वविद्यालय अब अपने कैंपस के पास बसे गांवों को गोद लेंगे.

गांव को गोद लेने की प्रक्रिया मार्च 2021 से शुरू होगी. प्रदेश उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने कहा कि विश्वविद्यालयों को अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए आगे आना चाहिए और समाज के उत्थान में योगदान देना चाहिए.

अपने पास के गांव को लेना होगा गोद
इस वक्त तक कॉलेजों में एनएसएस या एनसीसी यूनिट एक गांव का दौरा करती हैं, सामाजिक कार्य करती है और फिर किसी अन्य कार्य के लिए दूसरे गांव का चयन करती हैं. अब से, कॉलेज अपने पास के गांव की पहचान करेंगे और उसके सामाजिक और आर्थिक उत्थान के लिए काम करेंगे. उनका काम ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं के लाभ के बारे में बताने के अलावा सामाजिक बुराइयों से अवगत कराना भी होगा.
प्रोफेसर और स्टूडेंट पहुंचेंगे ग्रामीणों के बीच


इस योजना की शुरुआत होने के कारण अब स्टूडेंट और प्रोफेसर को गांव और ग्रामीणों के बीच जाने का मौका मिलेगा जिससे वह ग्रामीण भारत के बारे में जान सकेंगे. इसको छात्र एक मौके की तरह भी देख सकते हैं और रूरल डेवलपमेंट के अंतर्गत अपने इनोवेटिव आइडियाज को गोद लिए हुए गांव में एक्सपेरिमेंट के तौर पर पूरा कर सकते हैं.

गांव में सरकार की योजनाओं और समस्याओं की तैयार होगी रिपोर्ट
मार्च में गांव को गोद लेने के बाद यूनिवर्सिटीज का काम होगा कि वह गांव की तरक्की के लिए अलग-अलग उपाय सोचें और उस पर कार्य करें.  इसके साथ ही वह शासन द्वारा जारी की गयी योजनाओं को गांव के हर व्यक्ति तक पहुंचाते हुए उस योजना के द्वारा मिलने वाले लाभ के बारे में बताएंगे.

साथ ही गांव की समस्याएं और सरकार की वह योजनाएं जो गांव तक ना पहुंची हो उस पर अपनी रिपोर्ट तैयार करेंगे. रिपोर्ट तैयार करने के बाद उसे उच्च शिक्षा विभाग को भेजना होगा.

उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा
उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने कहा यह योजना मध्य प्रदेश के पिछड़े गांवों में सुधार लाने के लिए जारी की जा रही है. यूनिवर्सिटी के द्वारा बनने वाली रिपोर्ट के बाद प्रशासन का लक्ष्य उन कमियों को दूर करने का होगा. उन्होंने यह भी कहा कि अब कॉलेज में कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था से जुड़े व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को स्टूडेंट्स को पढ़ाने पर भी जोर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें-
UPSSSC Recruitment 2021: यूपी में 50000 पदों पर भर्ती के लिए CM की मंजूरी, भर्ती परीक्षा पैटर्न एवं सिलेबस जारी
PNB Peon Recruitment 2021: पंजाब नेशनल बैंक में 12वीं पास के लिए चपरासी की वैकेंसी, बिना परीक्षा के होगी भर्ती

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज