एमपी बोर्ड के 12वीं के रिजल्ट को लेकर नया फार्मूला हो रहा तैयार, यहां करें चेक

10वीं के सभी विषयों की 12वीं के विषयों से मैपिंग कर 60 फ़ीसदी से अधिक अंक और 20 फ़ीसदी 12वीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर फार्मूला हो सकता है.

10वीं के सभी विषयों की 12वीं के विषयों से मैपिंग कर 60 फ़ीसदी से अधिक अंक और 20 फ़ीसदी 12वीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर फार्मूला हो सकता है.

  • Share this:
भोपाल. सीबीएसई बोर्ड के बाद अब मध्यप्रदेश में भी कक्षा 12वीं का रिजल्ट का फार्मूला जल्द तय हो सकता है. स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का कहना है कि छात्रों के बेहतर भविष्य के लिए हर विकल्प पर विचार किया जा रहा है. 2 से 3 दिनों में रिजल्ट का फार्मूला तैयार कर लिया जाएगा.

10वीं-12वीं के अंकों के आधार पर तय हो सकता है रिजल्ट का फार्मूला
स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का कहना है कि सीबीएसई बोर्ड के फार्मूले के साथ एक दिल्ली सरकार के फार्मूले पर मंथन किया जा रहा है. विशेषज्ञों की समिति ने कई विकल्पों पर मंथन कर मंत्री समूह को अपनी रिपोर्ट सौंपी है. इससे पहले कक्षा 10वीं-11वीं के अंकों और कक्षा 12 वीं के छमाही परीक्षा के अंकों के आधार पर मूल्यांकन का फार्मूला तैयार होना था.

11वीं कक्षा की मार्कशीट पर जनरल प्रमोशन अंकित (कोरोना की सील) लगे होने के कारण निजी स्कूल संचालकों ने विरोध जताया था. अब यह माना जा रहा है कि फॉर्मूले में कक्षा ग्यारहवीं के अंकों को शामिल ना करने पर विचार हो रहा है. केवल 10वीं और 12वीं के अंकों के आधार पर नया फार्मूला तय हो सकता है.

इस फार्मूले पर हो रहा विचार
कक्षा 10वीं के सभी विषयों का 12वीं के विषयों से मैपिंग का 60 फ़ीसदी से अधिक अंक लिए जाएंगे. 20 फ़ीसदी अंक 12वीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट के फार्मूले में लिए जाने की तैयारी है.

कक्षा 12वीं के आंतरिक मूल्यांकन के 20 फीसदी अंक स्कूल परीक्षार्थियों को देंगे. इस फार्मूले को विशेषज्ञों की समिति मंत्री समूह को सौंपेगी. रिजल्ट के लिए गठित मंत्री समूह से हरी झंडी मिलने केके बाद रिजल्ट का यह नया फार्मूला तय होगा.

सवा लाख से ज्यादा विद्यार्थियों के नहीं चढ़े 11वीं के नंबर
स्कूल शिक्षा मंत्री इन्दर सिंह परमार ने आंतरिक मूल्यांकन की घोषणा के साथ ही कक्षा 10वीं-11वीं और 12वीं के नंबरों के आधार पर रिजल्ट तैयार करने मंत्री समूह की कमेटी गठित की है. रिजल्ट तैयार करने में सबसे बड़ी मुश्किल प्रदेश भर के सवा लाख से ज्यादा स्टूडेंट के कक्षा 11वीं के नंबर रिजल्ट सीट पर अंकित ही नही है.

पिछले साल भी कोरोना संक्रमण के चलते 11वीं के छात्र छात्राओं को जनरल प्रमोशन दिया गया था. ज्यादातर स्टूडेंट के नंबर रिजल्ट सीट पर चढ़े ही नहीं हैं. ग्यारहवीं के रिजल्ट शीट में वार्षिक परीक्षा के कॉलम में जनरल प्रमोशन अंकित है तो वहीं मार्कशीट पर कोरोना की सील लगी है. ऐसे में कक्षा 11वीं के नंबरों का आकलन करना मुश्किल हो रहा है. इसी परेशानी के चलते अब फार्मूले में बदलाव किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-
CBSE Board 12th Result 2021: सीबीएसई ने जारी ईवैल्यूएशन क्राइटेरिया, जानें 12वीं रिजल्ट से जुड़ी पांच बड़ी बातें
CBSE Board 12th Result 2021: सीबीएसई 12वीं में फेल हो जाने वाले छात्र ऐसे होंगे पास

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.