होम /न्यूज /education /

MP Board Exam: 13 साल बाद होगी कक्षा 5वीं और 8वीं की बोर्ड पैटर्न से परीक्षा, पूरी हुई तैयारियां, जानें कब होगा एग्जाम

MP Board Exam: 13 साल बाद होगी कक्षा 5वीं और 8वीं की बोर्ड पैटर्न से परीक्षा, पूरी हुई तैयारियां, जानें कब होगा एग्जाम

MP Board: 13 साल बाद होगी कक्षा 5 और 8वीं की बोर्ड परीक्षा

MP Board: 13 साल बाद होगी कक्षा 5 और 8वीं की बोर्ड परीक्षा

MP Board Exam: मध्य प्रदेश के एक लाख स्कूलों में 12 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं कक्षा पांचवी कक्षा आठवीं में अध्ययनरत हैं. परीक्षा अप्रैल के महीने में कराने की संभावना है. 40 फ़ीसदी प्रोजेक्ट आधारित मूल्यांकन होगा तो वहीं 60 फ़ीसदी सैद्धांतिक परीक्षा ली जाएगी. कक्षा पांचवी और कक्षा आठवीं की परीक्षा बोर्ड होने पर छात्र-छात्राओं को प्रमोट नहीं किया जाएगा. फेल होने वाले विद्यार्थियों को आगे की कक्षा में प्रमोट नहीं किए जाने की तैयारी की जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. MP Board Exam: मध्य प्रदेश में 13 साल बाद फिर से कक्षा पांचवी और कक्षा आठवीं की परीक्षा बोर्ड पैटर्न पर होगी. स्कूल शिक्षा विभाग 13 साल बाद पांचवी और आठवीं की बोर्ड परीक्षा शुरू करने जा रहा है. बोर्ड परीक्षा सत्र 2021-22 से होगी. राज्य शिक्षा केंद्र ने कक्षा पांचवी और कक्षा आठवीं की बोर्ड परीक्षा की तैयारियां लगभग पूरी कर ली है. 2022 में अप्रैल महीने में पांचवी और आठवीं की बोर्ड परीक्षा होने की उम्मीद है.

बता दें कि स्कूल शिक्षा विभाग अप्रैल के महीने में बोर्ड परीक्षा कराने की तैयारियों में जुटा है. मध्य प्रदेश के एक लाख स्कूलों में 12 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं कक्षा पांचवी कक्षा आठवीं में अध्ययनरत हैं. परीक्षा अप्रैल के महीने में कराने की संभावना है. 40 फ़ीसदी प्रोजेक्ट आधारित मूल्यांकन होगा तो वहीं 60 फ़ीसदी सैद्धांतिक परीक्षा ली जाएगी. कोरोना के मामलों के बढ़ने पर वैकल्पिक तैयारियां भी की गई हैं. मामलों के बढ़ने पर अगर परीक्षा नहीं ली जाती है तो बच्चों के घर-घर वर्कशीट भेजकर होम बेस्ड परीक्षा ली जाएगी. वर्कशीट पर लिखने के बाद अभिभावक उसे स्कूल में जमा कराएंगे.

MP Board Exam: 2007-08 से बंद थी बोर्ड परीक्षा
माध्यप्रदेश में कक्षा पांचवी और कक्षा आठवीं के विद्यार्थियों की बोर्ड परीक्षा 2007-08 में बंद कर दी गई थी. आरटीई लागू होने के बाद पहली से आठवीं तक वार्षिक मूल्यांकन शुरू किया गया था. आरटीई के तहत किसी भी छात्र को फेल नहीं किया जा सकता था. इससे मूल्यांकन में स्कूलों में सभी विद्यार्थियों को पास किया जाता रहा है. इसी के चलते कमजोर छात्र भी पास होने लगे. केंद्र की अनुमति मिलने के बाद मध्यप्रदेश शासन ने 2019 में RTE में संशोधन किया. अब 13 साल के लंबे इंतजार के बाद कक्षा 5 और कक्षा आठवीं के विद्यार्थियों की बोर्ड पैटर्न पर वार्षिक परीक्षा आयोजित हो रही है.

ये भी पढ़ें-
MP Board Exam 2022: एग्जाम डेट, टाइमिंग, पैटर्न से लेकर फॉर्म करेक्शन तक डिटेल करें चेक
Odisha School Reopen: ओडिशा में 3 जनवरी से खुलेंगे 1 से कक्षा 5 तक के स्कूल, जानें जरूरी बातें

MP Board Exam: इस बार छात्रों को नहीं किया जाएगा प्रमोट
कक्षा पांचवी और कक्षा आठवीं की परीक्षा बोर्ड होने पर छात्र-छात्राओं को प्रमोट नहीं किया जाएगा. फेल होने वाले विद्यार्थियों को आगे की कक्षा में प्रमोट नहीं किए जाने की तैयारी की जा रही है. साल 2019-20 में पांचवी और आठवीं के विद्यार्थियों की बोर्ड पैटर्न पर वार्षिक परीक्षा आयोजित कराई गई थी. कोरोना के चलते बाद में दो पेपर में जनरल प्रमोशन देकर सभी छात्र छात्राओं को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया था.

अगली ख़बर