होम /न्यूज /education /

MP Education : स्कूलों की जर्जर इमारतें चिन्हित करने के निर्देश, लोक शिक्षण संचालनालय ने जारी किए ये आदेश

MP Education : स्कूलों की जर्जर इमारतें चिन्हित करने के निर्देश, लोक शिक्षण संचालनालय ने जारी किए ये आदेश

MP Education : भोपाल संभाग में जर्जर स्कूलों को चिन्हित करने के निर्देश दिए हैं.

MP Education : भोपाल संभाग में जर्जर स्कूलों को चिन्हित करने के निर्देश दिए हैं.

MP Education : मध्य प्रदेश में लगातार हो रही भारी बारिश का असर शिक्षा व्यवस्था पर भी पड़ा है. अब इस संबंध में एमपी लोक शिक्षण संचालनालय ने एक आदेश जारी किया है. जिसमें कहा कमजोर इमारतों में कक्षाएं न लगाने जैसे निर्देश दिए गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल: मध्य प्रदेश लोक शिक्षण संचालनालय ने स्कूलों को लेकर एक महत्वपूर्ण आदेश दिया है. जर्जर इमारतों में कक्षाएं न लगाने के आदेश जारी किए गए हैं. जर्जर इमारतों को चिन्हित करने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं. यह फैसला प्रदेश में लगातार दो दिन से जारी भारी बारिश के बाद लिया गया है. लोक शिक्षण संचालनालय के उप संचालक ने भोपाल संभाग में जर्जर स्कूलों को चिन्हित करने के निर्देश दिए हैं. आदेश में कहा गया है कि लगातार हो रही भारी बारिश के चलते जर्जर भवनों में छात्र-छात्राओं की कक्षाएं संचालित नहीं की जाएं. जर्जर भवनों में लग रही कक्षाओं और स्कूल भवनों की समीक्षा की जाए.

जर्जर भवनों में कक्षा नहीं रखने के आदेश को लेकर भोपाल के जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना का कहना है कि इस संभाग में फिलहाल जर्जर भवन नहीं हैं. ज्यादातर स्कूलों की इमारतों को पहले ही दुरुस्त कर लिया गया है. यदि ऐसी कोई शिकायत मिलती है तो तुरंत मरम्मत कराई जाएगी.

स्कूलों की छतों से टपक रहा पानी

प्रदेश में ग्रामीण इलाकों के साथ शहरों में भी कई ऐसे स्कूल अभी भी हैं जिनकी इमारतें जर्जर हैं. बारिश के दौरान स्कूल भवन की छतों से पानी टपकने की शिकायतें मिलती रही हैं. ज्यादा बारिश में दीवारों और छतों से पानी रिसने के चलते छात्र-छात्राओं और स्कूल प्रबंधन को परेशानी का सामना करना पड़ता है.

ये भी पढ़ें…
ग्रेजुएट्स के लिए UPSSSC में इन पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, जल्द करें आवेदन
टाउन एंड कंट्री प्लानिंग में 1000 से अधिक पदों निकली वैकेंसी, जल्द करें अप्लाई

Tags: Education news, MP education department

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर