Home /News /education /

MP School Reopen: एमपी में स्कूल खोलने के साथ बच्चों की सुरक्षा को लेकर अभिभावक चिंतित, बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में नहीं

MP School Reopen: एमपी में स्कूल खोलने के साथ बच्चों की सुरक्षा को लेकर अभिभावक चिंतित, बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में नहीं

Madhy Pradesh: कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच 2 घंटे ही लगेंगी छोटे बच्चों की क्लासेस.

Madhy Pradesh: कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच 2 घंटे ही लगेंगी छोटे बच्चों की क्लासेस.

MP School Reopen: स्कूल खुलने के साथ ही पेरेंट्स बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं. पेरेंट्स का कहना है कि बच्चों की सुरक्षा को लेकर स्कूल प्रबंधन ने सारी जिम्मेदारी अभिभावकों पर डाल दी है. स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदारी तय करने के साथ कोरोना तीसरी लहर की आशंका के बीच ऑनलाइन क्लासेस जारी रखना चाहिए. ऑनलाइन क्लासेस और ऑनलाइन एग्जाम देने को लेकर सरकार एक बार फिर से करें विचार.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. MP School Reopen: मध्यप्रदेश में पहली से लेकर कक्षा पांचवी तक के स्कूल 100 फीसदी क्षमता के साथ खुल गए हैं. पहले दिन माता-पिता की सहमति के साथ बच्चे कक्षाओं में पहुंचे. हालांकि स्कूल खुलने के साथ ही पेरेंट्स बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं. पेरेंट्स का कहना है कि बच्चों की सुरक्षा को लेकर स्कूल प्रबंधन ने सारी जिम्मेदारी अभिभावकों पर डाल दी है. स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदारी तय करने के साथ कोरोना तीसरी लहर की आशंका के बीच ऑनलाइन क्लासेस जारी रखना चाहिए.

MP School Reopen: इस अकादमिक सत्र में जारी रखनी थी ऑनलाइन क्लासेस
अभिभावकों का कहना है कि अकादमी सत्र में सिर्फ 2 महीने बाकी है. स्कूल खोलने के साथ ही बच्चों की ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई हो रही थी. ऐसे में अभी भी बच्चों की ऑनलाइन क्लासेस जारी रखने को लेकर सरकार एक बार फिर से विचार करें. 2 घंटे की जगह ऑनलाइन क्लासेस और ऑनलाइन एग्जाम लेने को लेकर सरकार अभिभावकों और स्कूल प्रबंधन से बातचीत करें वरना अभिभावकों का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच बच्चों की सुरक्षा बड़ी चिंता है. तमिलनाडु के साथ दूसरे राज्यों में छोटे बच्चे संक्रमित हो रहे हैं, ऐसे में बच्चों की सुरक्षा के लिहाज से स्कूल खुलने के बाद भी बच्चों को स्कूल भेजना एक बड़ा रिस्क है. बच्चों के बिना वैक्सीनेशन के फिलहाल स्कूल भेजना सुरक्षा के लिए लिहाज से किसी जोखिम से कम नहीं है.

MP School Reopen: स्कूल प्रबंधन की सुरक्षा को लेकर जिम्मेदारी तय करें सरकार
छोटे बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन ने फिलहाल बच्चों की सुरक्षा को लेकर कोई जिम्मेदारी नहीं ली है. पत्र के जरिए सारी जिम्मेदारी अभिभावकों पर डाल दी है. ऐसे में स्कूल शिक्षा विभाग स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदारी तय करें. तो वही स्कूलों में टीचर और सारे स्टाफ का 100% वैक्सीनेशन हो. स्कूल में अगर एक बच्चा भी संक्रमित होता है तो बड़ी संख्या में बच्चों के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है.

MP School Reopen: आज से खुले है 100 फीसदी प्राइमरी स्कूल
मध्य प्रदेश में आज से कक्षा पहली से लेकर कक्षा पांचवी तक के स्कूल 100 फीसदी क्षमता के साथ खुले. छोटे बच्चे मास्क, ग्लब्स और सेनेटाइजर साथ पहले दिन कक्षाओं में पहुंचे. स्कूलों में अब ऑफलाइन कक्षाएं ही संचालित की जाएगी. प्रदेश में 21 सितंबर से 2 साल के लंबे इंतजार के बाद कक्षा पहली से लेकर कक्षा पांचवी तक के स्कूल खुले थे. 50 फीसदी क्षमता के साथ एक दिन छोड़कर पहली से लेकर पांचवी तक के बच्चों की कक्षाएं 50 फीसदी क्षमता के साथ संचालित हो रहे थी. कक्षा पहली से लेकर कक्षा पांचवी के छात्र-छात्राओं की कक्षाएं 50 क्षमता के साथ नियमित रूप से संचालित होंगी. हालांकि नियमित कक्षाओं के संचालित होने के साथ ही बच्चों की सुरक्षा को लेकर अभिभावक बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में नही है.

ये भी पढ़ें-
12वीं से लेकर ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन पास के लिए निकली हैं बंपर नौकरियां
भारतीय डाक में 10वीं, 12वीं पास के लिए नौकरियां, 81000 हर महीने कमाने का मौका

Tags: Education, School reopening

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर