राष्ट्रीय शिक्षा दिवस: UGC और IIT सहित मौलाना अबुल कलाम आजाद ने की थी इन संस्थाओं की स्थापना

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने शिक्षा के क्षेत्र में काफी योगदान दिया.
मौलाना अबुल कलाम आजाद ने शिक्षा के क्षेत्र में काफी योगदान दिया.

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने शिक्षा के क्षेत्र में तमाम योगदान दिया साथ ही फाइन आर्ट्स को भी बढ़ावा देने के लिए तीन एकेडमी की स्थापना की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 2:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की जन्म दिवस के अवसर पर मनाया जाता है. वे काफी माने-जाने शिक्षाविद थे जिन्होंने आजाद भारत में शिक्षा प्रणाली को विकसित करने में काफी योगदान दिया. साल 2008 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उनके जन्म दिवस पर राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाने का फैसला किया. अपने घोषणा में शिक्षा मंत्रालय में कहा था कि भारत की शिक्षा व्यवस्था में उनके योगदान को देखते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उनके जन्म दिवस को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है.

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने शिक्षा के क्षेत्र में तमाम योगदान दिया साथ ही फाइन आर्ट्स को भी बढ़ावा देने के लिए तीन एकेडमी की स्थापना की. उन्होंने हिंदी भाषा में तकनीकी शब्दों को लाने पर भी काफी काम किया.

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने इन बोर्ड्स को बनाया



- यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन
- अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद

- खड़गपुर उच्च शिक्षा संस्थान

- विश्वविद्यालय शिक्षा आयोग

- सेकेंडरी एजुकेशन कमीशन

ये भी पढ़ें-
मेडिकल स्टूडेंट्स को झटका- हरियाणा सरकार ने 66% बढ़ाई MBBS की फीस, यहां समझें पूरा फीस स्ट्रक्चर
HPPSC Recruitment 2020: वेटरनरी ऑफिसर पद के लिए वैकेंसी, 04 दिसंबर लास्ट डेट

इसके अलावा उन्होंने स्वतंत्र भारत में जामिया मिलिया इस्लामिया और आईआईटी खड़गपुर की भी स्थापना की. उन्होंने महिलाओं की शिक्षा और 14 साल तक बच्चों के लिए मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा की भी वकालत की. उनका निधन 22 फरवरी 1958 को हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज