Home /News /education /

नीट 2022 साल में दो बार होगा ? स्वास्थ्य और शिक्षा मंत्रालयों के बीच फिर से चर्चा होगी शुरू

नीट 2022 साल में दो बार होगा ? स्वास्थ्य और शिक्षा मंत्रालयों के बीच फिर से चर्चा होगी शुरू

NEET UG: मेडिकल प्रवेश परीक्षा वर्ष में दो बार आयोजित करने की मांग बढ़ रही है. चिकित्सा उम्मीदवारों द्वारा कई आत्महत्याओं की सूचना देने के बाद मांगें तेज हो गई हैं.

NEET UG: मेडिकल प्रवेश परीक्षा वर्ष में दो बार आयोजित करने की मांग बढ़ रही है. चिकित्सा उम्मीदवारों द्वारा कई आत्महत्याओं की सूचना देने के बाद मांगें तेज हो गई हैं.

NEET 2022: नीट से ही जुड़े एक और मामले पर केंद्र ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि वह नीट में आरक्षण के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) श्रेणी निर्धारित करने के लिए तय की गयी आठ लाख रुपये की सालाना आय की सीमा पर फिर से गौर करेगा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. NEET 2022: शिक्षा मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय जल्द ही साल में दो बार मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट आयोजित करने की चर्चा फिर से शुरू करेंगे. इस मामले पर सबसे पहले पिछले साल पूर्व शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के नेतृत्व में चर्चा हुई थी, हालांकि इस पर अभी तक सहमति नहीं बन पाई है.

    मेडिकल प्रवेश परीक्षा वर्ष में दो बार आयोजित करने की मांग बढ़ रही है. चिकित्सा उम्मीदवारों द्वारा कई आत्महत्याओं की सूचना देने के बाद मांगें तेज हो गई हैं.

    एनईईटी के सामाजिक और आर्थिक प्रभावों का आकलन करने के लिए तमिलनाडु सरकार द्वारा गठित एक समिति ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि परीक्षा ने कोचिंग संस्कृति को जन्म दिया है जिसके कारण समृद्ध परिवारों के अधिक बच्चे परीक्षा में शामिल हो रहे हैं. समिति ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि NEET के माध्यम से एमबीबीएस पाठ्यक्रमों में नामांकित छात्रों ने कक्षा 12 के अंकों के आधार पर नामांकित छात्रों की तुलना में खराब प्रदर्शन किया है.

    जहां कई बार परीक्षा आयोजित करने का समर्थन मिल रहा है, वहीं चिंताएं भी हैं. हर साल 15 लाख से अधिक उम्मीदवार पेन और पेपर-आधारित परीक्षा के लिए पंजीकरण करते हैं, जिससे इसे आयोजित करना बहुत मुश्किल हो जाता है. चूंकि NEET 2021 में धोखाधड़ी व घोटाले को लेकर जनहित याचिकाओं तक और कई अन्य लोगों के बीच प्रश्न पत्र की त्रुटियों से लेकर विवादों की एक श्रृंखला है. निष्पक्ष और प्रामाणिक तरीके से परीक्षा आयोजित करने को लेकर चिंताएं काफी हैं.

    आठ लाख रुपये की सालाना आय की सीमा पर फिर से गौर
    नीट से ही जुड़े एक और मामले पर केंद्र ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि वह नीट में आरक्षण के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) श्रेणी निर्धारित करने के लिए तय की गयी आठ लाख रुपये की सालाना आय की सीमा पर फिर से गौर करेगा.

    केंद्र ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि वह ईडब्ल्यूएस श्रेणी निर्धारित करने के लिए मानदंड तय करने के वास्ते समिति गठित करेगा और समिति को यह काम करने के लिए चार हफ्तों का वक्त चाहिए.

    केंद्र ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि समिति के ईडब्ल्यूएस श्रेणी निर्धारित करने के लिए मानदंड पर फैसला लेने तक नीट की काउंसिलिंग चार हफ्तों के लिए स्थगित की जाती है.

    ये भी पढ़ें-
    Sarkari Naukri 2021: राजस्थान सरकार के इस विभाग में बिना परीक्षा मिल सकती है नौकरी, जल्द करें अप्लाई, होगी अच्छी सैलरी
    Sarkari Naukri 2021: यूपी, एमपी, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान सहित इन राज्यों में निकली हैं बंपर नौकरियां, जल्द करें आवेदन

    Tags: NEET, Neet exam, NEET UG 2021 examination

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर