Home /News /education /

NEET UG Result 2021 to Delared: नीट परिणाम जारी होने के बाद क्‍या होगा, जानें

NEET UG Result 2021 to Delared: नीट परिणाम जारी होने के बाद क्‍या होगा, जानें

रिजल्‍ट आने के बाद उम्‍मीदवारों की काउंसलिंग होगी.

रिजल्‍ट आने के बाद उम्‍मीदवारों की काउंसलिंग होगी.

NEET 2021: नीट यूजी परीक्षा का परिणाम जारी होने वाला है. अब इसके बाद MBBS/BDS में एडमिशन लेने के लिये क्‍या करना होगा, यहां चेक करें.

    NEET Result 2021 Delared: NTA ने NEET 2021 अंडर ग्रेजुएट का रिजल्‍ट जारी होने वाला है. परिणाम की घोषणा आधिकारिक वेबसाइट neet.nta.nic.in पर की जाएगी. 12 सितंबर को आयोजित हुई परीक्षा में करीब 16 लाख छात्रों ने हिस्‍सा लिया था. सभी उम्‍मीदवार अपना रिजल्‍ट आधिकारिक वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं.

    परिणाम आने के बाद छात्रों को क्‍या करना होगा. उन्‍हें एमबीबीएस या बीडीएस में एडमिशन के लिये क्‍या करना होगा. पूरी प्रक्र‍िया यहां समझें.

    NEET 2021 परीक्षा परिणाम के बाद, NEET कटऑफ हासिल करने वाले एडमिशन प्रक्रिया के लिए एलिजिबल उम्‍मीदवारों का सरकारी कॉलेजों में 15% एडमिशन ऑल इंडिया कोटा (AIQ) और 85% स्‍टेट कोटे के आधार पर होता है.

    नीट 2021 (NEET 2021) के जरिये से सरकारी MBBS, BDS, AYUSH, BVSc और AH, BSc नर्सिंग कोर्स में 15% AIQ सीटों पर एडमिशन केवल मेडिकल काउंसलिंग कमेटी (एमसीसी) के जरिये ही होता है. जबकि बाकी के 85% राज्य कोटे की सीटों पर स्‍टेट काउंसलिंग ऑथोरिटी, NEET स्कोर के आधार पर एडमिशन कराता है.

    प्राइवेट कॉलेजों में भी एडमिशन राज्य के ऑथोरिटी ही देखते हैं. हालांकि, केवल उम्मीदवारों को राज्य कोटे की सीटों पर एडमिशन के लिए नीट डोमिसाइल नियमों का पालन करना होगा.

    नीट 2021 रिजल्‍ट (NEET 2021 result) आने के बाद क्‍या करें:
    परिणाम की घोषणा होने के बाद MBBS/BDS में एडमिशन के लिये काउंसलिंग प्रक्र‍िया शुरू होती है. नीट कटऑफ 2021 (NEET cutoff 2021) हासिल करने वाले छात्र कॉलेज एडमिशन के लिये एलिजिबल होंगे. नीट आउंसलिंग (NEET counselling) में भाग लेने के लिये जनरल श्रेणी के उम्‍मीदवारों के पास 50 पर्सेंटाइल होना चाहिए. वहीं SC/ST/OBC उम्‍मीदवार के पास 40 पर्सेंटाइल.

    रिजल्‍ट घोषित होने के बाद ये करना होगा-
    1. काउंसलिंग प्रक्र‍िया के लिये अप्‍लाई करना होगा.
    2. काउंसलिंग में भाग लेना होगा और अपना एडमिशन सुरक्षित करना होगा.

    काउंसलिंग की प्रक्र‍िया:

    AIQ सीट के लिये: ऑल इंडिया कोटा में सरकारी कॉलेजों की 15 फीसदी सीटें आती हैं. MBBS/BDS सीट के लिये DGHS दो राउंड में काउंसलिंग करता है. दूसरा राउंड खत्‍म होने के बाद भी अगर सीटें बची हुई हैं, तो उसे राज्‍यों को दे दिया जाता है. पिछले साल, 235 मेडिकल और डेंटल कॉलेज की करीब 4591 MBBS/BDS सीटें 15% ऑल इंडिया कोटा में थीं.

    डीम्‍ड/ सेंट्रल यूनिवर्सिटी के लिये: इसके लिये भी DGHS दो राउंड में काउंसलिंग करता है और उसके बाद मॉप अप राउंड करता है.

    ESIC में AFMC और IP वार्ड के लिये : AFMC पुणे और ESIC कॉलेजों के लिये भी MBBS/BDS एडमिशन की काउंसलिंग DGHS ही देखता है. इन सीटों के लिये जो छात्र इच्‍छुक हैं, उन्‍हें DGHS पोर्टल पर खुद को रजिस्‍टर करना होगा.

    स्‍टेट कोटा के लिये: स्‍टेट कोटा के तहत आने वाली सीटों के लिये स्‍टेट काउंसिल ऑथोरिटी काउंसलिंग करती है. इसके तहत 85% सीटें आती हैं. ये उन छात्रों के लिये होता है, जो राज्‍यों के निवासी हों. इसकी काउंसलिंग भी दो से तीन राउंड में होती है और उसके बाद मोप अप राउंड होता है.

    प्राइवेट कॉलेजों के लिये: राज्‍य के लिये जो ऑथोरिटी काउंसलिंग कराती है, वही प्राइवेट कॉलेजों के लिये भी जिम्‍मेदार होती है. काउंसलिंग तीन से चार राउंड में होती है.

    Tags: NEET, Neet exam

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर