10वीं-12वीं स्टूडेंट्स के लिए पश्चिम बंगाल में नहीं होगा प्री-फाइनल टेस्ट, सीएम ने किया ऐलान

पश्चिम बंगाल सरकार ने 10 वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स के लिए प्री फाइनल टेस्ट न कराने का ऐलान किया है.
पश्चिम बंगाल सरकार ने 10 वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स के लिए प्री फाइनल टेस्ट न कराने का ऐलान किया है.

राज्य शिक्षा विभाग के मुताबिक पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के कुल 4,16,984 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से 32836 ऐक्टिव मामले हैं 3,76,696 डिस्चार्ज हो चुके हैं और 7452 मौत हो चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 11:24 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee) ने बुधवार को कहा कि दसवीं और 12वीं कक्षा की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को प्री-फाइनल में शामिल होने की जरूरत नहीं होगी. उन्होंने कहा कि कोविड-19 (Covid-19 in West Bengal) स्थितियों को देखते हुए राज्य शिक्षा विभाग ने फैसला किया है कि दसवीं और 12वीं में पढ़ने वाले छात्रों को प्री-फाइनल परीक्षा में शामिल होने की जरूरत नहीं होगी.

राज्य शिक्षा विभाग के मुताबिक पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के कुल 4,16,984 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से 32836 ऐक्टिव मामले हैं 3,76,696 डिस्चार्ज हो चुके हैं और 7452 मौत हो चुकी है. इन छात्रों को माध्यमिक (10वीं) और उच्च माध्यमिक (12वीं) की परीक्षा में सीधे शामिल होने का मौका दिया जाएगा.

सीएम ने ये भी कहा कि कैबिनेट ने 16,500 टीचर्स की भर्ती के लिए रिक्रूटमेंट की प्रक्रिया को शुरू कर दिया है. राज्य में शैक्षणिक संस्थान मार्च से ही बंद हैं. हालांकि, डिजिटल क्लासेज को शुरू किया जा चुका है फिर भी अभी तमाम छात्र इसमें हिस्सा नहीं ले पा रहे हैं क्योंकि उनके पास फोन या इंटरनेट की सुविधा पूरी तरह से उपलब्ध नहीं है. ममता बनर्जी ने कहा कि अगले टीईटी की ऑफलाइन परीक्षा जल्दी ही आयोजित की जाएगी इसमें करीब ढाई लाख छात्र हिस्सा लेंगे.



ये भी पढ़ेंः
DU Admissions 2020: अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज की 67 हजार सीटें भरीं, जानें डिटेल
Patna University Exam: पटना यूनिवर्सिटी ने जारी की परीक्षा की तारीख, जानें पूरा शेड्यूल





ममता बनर्जी ने कहा कि स्कूलों को खोलने का फैसला मिड- नवंबर के बाद में लिया जाएगा. हालांकि केंद्रीय मंत्रालय ने स्कूलों को खोलने की इजाजत दे दी है लेकिन राज्य अपने यहां कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए ही इस बात का फैसला ले रहे हैं. हाल ही में उत्तराखंड को स्कूलों को खोलने के बाद कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए उन्हें बंद करने का फैसला किया गया.






अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज